DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कांवड़ यात्रा पर जाने से पहले थाने में देनी होगी सूचना, जानें इसकी वजह

इस बार की कांवड़ यात्रा में जाने से पहले शिवभक्तों को थाने में इसकी सूचना देनी होगी। रास्ते में पड़ने वाली पुलिस चौकियां इस बात की पुष्टि करेंगी। यह व्यवस्था इस बार लागू की गई है, जिसे आने वाले वर्षों में अनिवार्य कर दिया जाएगा। 

सात जुलाई को ग्रेटर नोएडा के एक्सपो मार्ट में यूपी के मुख्य सचिव अनूप चंद पाण्डेय और डीजीपी ओपी सिंह ने दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड के पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों की कांवड़ यात्रा को लेकर अहम बैठक की थी। इस बैठक में कांवड़ियों की सुरक्षा को लेकर कई अहम फैसले भी लिए गए थे। 

बुधवार से सावन का पवित्र महीना शुरू हो गया है और गंगोत्री के लिए शिवभक्तों का निकलना भी शुरू हो गया है। पुलिस के अधिकारियों ने कांवड़ यात्रियों के लिए जहां ऐप तैयार किया है। वहीं इस बार एक नई व्यवस्था को भी लागू किया गया है।

उत्तराखंड पुलिस ने यूपी पुलिस के अधिकारियों के समक्ष एक योजना रखी थी कि इस बार कांवड़ यात्रा पर आने वाले शिवभक्तों के लिए अपने-अपने थाना क्षेत्र में सूचना देना अनिवार्य किया जाए। ऐसे में यदि कोई शिवभक्त अकेला आ रहा है तो उसे भी थाने में जानकारी देनी होगी। यदि कोई दल के साथ आ रहा है तो उसे भी अपने साथियों का पूरा विवरण थाने में देना होगा। थाने से उन्हें पंजीकरण नंबर प्राप्त होगा।

सावधानी: अप्रिय स्थिति से निपटने में आसानी होगी 

कांवड़ यात्रा के दौरान रास्ते में पड़ने वाली पुलिस चौकी या चेक पोस्ट पर चेकिंग के दौरान इसकी पुष्टि कराई जाएगी। इस व्यवस्था को इस बार ट्रायल के रूप में तैयार किया गया है। इस व्यवस्था से अप्रिय स्थिति से निपटने और रेस्क्यू में आसानी होगी। अधिकारियों की मंशा इस व्यवस्था के लागू करने से यह भी पता लगाना है कि कांवड़ यात्रा में कितने भक्त आ रहे हैं।

कांवड़ यात्रा 2019 : गाजियाबाद में 22 से भारी वाहनों की एंट्री पर रोक

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Kanwaris will have to inform police station before going to kanwar yatra