ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRजेवर एयरपोर्ट को एशिया पैसिफिक ट्रांजिट हब बनाने की तैयारी, ये होगा फायदा

जेवर एयरपोर्ट को एशिया पैसिफिक ट्रांजिट हब बनाने की तैयारी, ये होगा फायदा

डॉ. अरुणवीर सिंह (सीईओ नायल) ने कहा कि नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। अभी इसका निर्माण चल रहा है। यहां पर ट्रांजिट हब की संभावनाएं हैं। इसके लिए अनुकूल माहौल है। 

जेवर एयरपोर्ट को एशिया पैसिफिक ट्रांजिट हब बनाने की तैयारी, ये होगा फायदा
Praveen Sharmaग्रेटर नोएडा। वरिष्ठ संवाददाताFri, 24 Feb 2023 02:22 PM
ऐप पर पढ़ें

जेवर में बन रहे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट को कई एयरलाइंस कंपनी एशिया पैसिफिक ट्रांजिट हब बनाने की तैयारी में हैं। इसके लिए तैयारी शुरू हो गई है। ट्रांजिट हब बनाने वाली कंपनी की सभी फ्लाइट यहां आएंगी। इसके बनने से एयरपोर्ट की उपयोगिता और बढ़ेगी।

जेवर में देश का सबसे बड़ा नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट बन रहा है। पहले चरण में दो रनवे बनाने की योजना है। इसका काम चल रहा है। इस एयरपोर्ट से घरेलू और विदेशी फ्लाइट चलेंगी। एनसीआर में यह एयरपोर्ट होने से आईजीआई एयरपोर्ट दिल्ली का लोड कम होगा।

जेवर एयरपोर्ट की संभावनाओं को देखते हुए कई बड़ी एयरलाइंस कंपनियां जेवर एयरपोर्ट में एशिया पैसिफिक ट्रांजिट हब बनाने की तैयारी में हैं। इसमें एयर इंडिया, एयर एशिया, विस्तारा, इंडिगो आदि शामिल हैं।

इसको लेकर कई एयरलाइंस कंपनियों ने एयरपोर्ट की विकासकर्ता कंपनी से संपर्क किया है। हालांकि, इसकी अंतिम मंजूरी केंद्र सरकार देगी। यह प्रक्रिया नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (नायल) के जरिये पूरी होगी।

इससे ये लाभ होगा : इससे एयरपोर्ट की उपयोगिता और बढ़ेगी। अगर किसी को इन एयरलाइंस की फ्लाइट से अमेरिका से भारत के पड़ोसी देशों में जाना है तो पहले वह यात्री जेवर एयरपोर्ट आएगा। यहां से अगले गंतव्य के लिए फ्लाइट मिलेगी। यह कनेक्टिंग फ्लाइट होगी। ट्रांजिट हब बनाने वाली एयरलाइंस की सभी फ्लाइट पहले यहां आएंगी। इससे एयरपोर्ट का फुटफॉल बढ़ेगा। राजस्व में भी बढ़ोतरी होगी। इसके कारण लाखों युवाओं के लिए रोजगार के अवसर भी बढ़ेंगे।

ये है बड़ी वजह

नोएडा एयरपोर्ट एनसीआर में है और दिल्ली के बिल्कुल नजदीक है। यहां यात्री फ्लाइट के अलावा एयर कार्गो का भी हब बनेगा। यहां एमआरओ (मेटीनेंस रिपेयरिंग एंड ओवरहालिंग) हब भी यहां पर बनना है। यहां पर विमानों की मरम्मत होगी। इन सबको देखते हुए कंपनियों ने ट्रांजिट हब बनाने की योजना बनाई है।

डॉ. अरुणवीर सिंह (सीईओ नायल) ने कहा कि नोएडा एयरपोर्ट देश का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा। इसका निर्माण चल रहा है। यहां पर ट्रांजिट हब की संभावनाएं हैं। इसके लिए अनुकूल माहौल है। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें