DA Image
23 अक्तूबर, 2020|3:59|IST

अगली स्टोरी

केके राव बने गुरुग्राम के नए पुलिस कमिश्नर, 16 महीने बाद फिर मिली कमान

Gurugram Police Commissioner KK Rao

अपनी अलग कार्यशैली के लिए मशहूर हरियाणा के आईपीएस अधिकारी के.के. राव  को 16 महीने बाद एक बार फिर दोबारा से गुरुग्राम पुलिस आयुक्त की कमान मिली है। कई पुलिस अधिकारी राव को एनकाउंटर स्पेशलिस्ट के नाम से जानते हैं। गैंगस्टर और गैंग की कमर तोड़ने के लिए उनके कार्यकाल में कई एनकाउंटर भी हुए। ऐसे में पुलिस विभाग को जहां पूरी उम्मीद है, तो वहीं के.के. राव का दावा है कि वह गुरुग्राम में गैंगस्टर और गैंग का खात्मा कर देंगे।

पुलिस कल्याण के लिए भी अनेक योजनाएं लाने का प्लान होगा, जबकि गुरुग्राम पुलिस आयुक्त मोहम्मद अकिल को पदोउन्नत कर पुलिस महानिदेशक अपराध का जिम्मा सौंपा गया है। डीजीपी (क्राइम) मोहम्मद अकिल गुरुग्राम में 26 फरवरी 2019 से पुलिस आयुक्त पद पर तैनात थे, जबकि उनसे पहले जून 2018 में के.के. राव ही गुरुग्राम पुलिस आयुक्त पद पर थे और आठ महीने बाद उनका तबादला गुरुग्राम से स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) आईजी के तौर पर किया गया था। वहां से उनको फरीदाबाद का पुलिस आयुक्त बनाया गया था।  

1996 में बने आईपीएस 

50 वर्षीय के.के. राव का जन्म 1970 में भिवानी जिले के दिनौद गांव में हुआ था। हरियाणा पुलिस में डीएसपी के पद पर उनकी तैनाती हुई थी। उसके बाद ट्रेनिंग के दौरान उन्हें गुरुग्राम जिला मिला और वह पटौदी थाने में एसएचओ भी रहे थे। आईपीएस के.के. राव मेवात और नारनौल में भी रह चुके हैं। 1966 में आईपीएस बने थे। अब तब वह राज्य के 15 जिलों में काम कर चुके हैं। 

वेलफेयर पर रहता है ज्यादा ध्यान 

के.के. राव जहां बदमाशों को पकड़ने लिए सख्त हैं तो वही, पुलिसकर्मियों के वेलफेयर के लिए वह काफी कुछ कर चुके हैं। गुरुग्राम में पुलिस आयुक्त रहते हुए साल 2018 में ट्रैफिक पुलिसकर्मियों को वीकली ऑफ दिया जाने लगा था। इसके अलावा थाने में सुविधाएं भी बढ़ गई थीं। साथ-साथ पुलिस कर्मियों से खुद बातें करना और उनकी दिक्कतों को समझ कर जल्द निपटारा करने में माहिर हैं। 

गैंगस्टर की संपत्ति पर चौकी बनवाई 

एसटीएफ में आईजी रहते हुए उनके द्वारा गुरुग्राम के गैंगस्टर सूबे गुर्जर की संपत्ति पर एसटीएफ की चौकी भी बनवा दी थी। उनके द्वारा पहली बार ऐसा किया गया था। इसके अलावा गुरुग्राम में साल 2018 में रहते हुए बदमाश भंवर सिंह का एनकाउंटर भी हुआ था। इसके अलावा दुबई से गैंगस्टर कौशल को लाने में भी उनकी अहम भूमिका रही थी। 

ये हैं 5 चुनौतियां 

1. गुरुग्राम में गैंगस्टर और बदमाशों को नहीं पनपने नहीं दिया जाएगा।  
2. नशे का कारोबार करने वालों के खिलाफ होगी सख्त कारवाई।
3. साइबर अपराध रोकने के लिए लोगों को जागरूक किया जाएगा। 
4. ट्रैफिक पर फोक्स किया जाएगा और उल्लघंन करने वालों पर होगी सख्त कार्रवाई। 
5. कोविड काल में पुलिसकर्मी और लोगों की सहूलियत पर होगा फोकस।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:IPS Officer KK Rao become new Gurugram police commissioner