ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRफर्जी पॉलिसी देकर खाते में जमा करा लेता था पैसा, शिकायत के बाद खुली बीमा कंपनी की नींद, मामला दर्ज

फर्जी पॉलिसी देकर खाते में जमा करा लेता था पैसा, शिकायत के बाद खुली बीमा कंपनी की नींद, मामला दर्ज

गुरुग्राम में एक बीमा कंपनी का रिलेशनशिप मैनेजर ग्राहकों को पॉलिसी बेचकर या उनके पॉलिसी का नवीनीकरण कर फर्जी प्रमाण पत्र देता था और उनसे मिलने वाली रकम को अपने निजी बैंक खाते में जमा करा लेता था।

फर्जी पॉलिसी देकर खाते में जमा करा लेता था पैसा, शिकायत के बाद खुली बीमा कंपनी की नींद, मामला दर्ज
fraud in clerk job appointment letter
Subodh Mishraपीटीआई,गुरुग्रामFri, 14 Jun 2024 09:00 PM
ऐप पर पढ़ें

गुरुग्राम में फर्जीवाड़े का एक अनोखा मामला सामने आया है। एक बीमा कंपनी का रिलेशनशिप मैनेजर ग्राहकों को पॉलिसी बेचकर या उनके पॉलिसी का नवीनीकरण कर फर्जी प्रमाण पत्र देता था और उनसे मिलने वाली रकम को अपने निजी बैंक खाते में जमा करा लेता था। बीमा कंपनी को जब इसकी जानकारी मिली तो पुलिस से इसकी शिकायत की गई। पुलिस ने बीमा कंपनी के रिलेशनशिप  मैनेजर के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

बीमा कंपनी द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार, एक स्वास्थ्य बीमा फर्म के रिलेशनशिप मैनेजर लक्ष्य गुप्ता ने ग्राहकों से पैसे लेकर उन्हें  जाली पॉलिसी प्रमाणपत्र सौंपे। उन्होंने ग्राहकों से मिले पैसे को अपने निजी बैंक खाते में जमा करा लिया। कंपनी की धोखाधड़ी नियंत्रण इकाई के प्रबंधक पुष्कर ने सुशांत लोक पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई और आरोप लगाया कि रिलेशनशिप मैनेजर लक्ष्य गुप्ता ने जनवरी और फरवरी में 14 ग्राहकों से अपने निजी बैंक खाते में पैसे जमा कराए।

उन्होंने कहा कि लक्ष्य पिछले साल नवंबर से कंपनी में रिलेशनशिप मैनेजर के तौर पर काम कर रहा था। कंपनी को शिकायत मिली थी कि वह ग्राहकों से उनके मोबाइल नंबर से जुड़े यूपीआई के जरिए बीमा पॉलिसियां ​​खरीदने या रिन्यू कराने के लिए पैसे जमा करवा रहा था। इसके बाद कंपनी ने आंतरिक जांच शुरू की और पाया कि लक्ष्य के बैंक खाते में 2,35,230 रुपये जमा किए गए थे। पुष्कर ने अपनी शिकायत में कहा है कि उसने कंपनी के नाम पर जाली प्रमाणपत्र भी बनाए और ग्राहकों को जारी किए।

शिकायत के आधार पर गुरुवार को सुशांत लोक पुलिस स्टेशन में लक्ष्य गुप्ता के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 406 (आपराधिक विश्वासघात), 420 (धोखाधड़ी), 467 (दस्तावेज की जालसाजी) और 471 (जाली दस्तावेज का उपयोग करना) के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा कि तथ्यों की जांच की जा रही है। आरोपी को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।