ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRआपके पास 10-15 साल पुराने पेट्रोल-डीजल वाहन हैं तो जरूर पढ़ें यह खबर, परिवहन विभाग अब नहीं देगा NOC

आपके पास 10-15 साल पुराने पेट्रोल-डीजल वाहन हैं तो जरूर पढ़ें यह खबर, परिवहन विभाग अब नहीं देगा NOC

अगर आपके पास 10 से 15 साल पुराने पेट्रोल और डीजल के वाहन हैं तो यह आपके काम की खबर है। परिवहन विभाग अब ऐसे वाहनों को एनओसी जारी नहीं करेगी। नए वाहनों की खरीद पर छूट दी जाएगी।

आपके पास 10-15 साल पुराने पेट्रोल-डीजल वाहन हैं तो जरूर पढ़ें यह खबर, परिवहन विभाग अब नहीं देगा NOC
Sneha Baluniप्रदीप वर्मा,गाजियाबादFri, 03 Nov 2023 09:03 AM
ऐप पर पढ़ें

गाजियाबाद में 10 से 15 साल की उम्र पार कर चुके डीजल और पेट्रोल के वाहनों की संभागीय परिवहन विभाग से एनओसी जारी नहीं होगी। मालिकों को अधिकृत सेंटर से वाहन को स्क्रैप कराना होगा। इसके लिए एक प्रमाणपत्र जारी होगा। इस पर नए वाहनों की खरीद पर छूट मिलेगी। जिले में पहले से ही 2 लाख 72 हजार वाहन 10 और 15 साल की समय सीमा पार कर चुके हैं। 

हाल ही में एआरटीओ ने 1.90 लाख वाहनों को निष्प्रयोज्य घोषित कर दिया। इससे जिले के 4.62 लाख वाहन स्क्रैप पॉलिसी के अंतर्गत आ गए। इसके बावजूद वाहन स्वामी राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में पुरानी गाड़ियां दौड़ा रहे हैं। इसको देखते हुए विभाग की ओर से तैयारी की जा रही है कि समय सीमा पार कर चुके वाहनों की एनओसी जारी नहीं की जाए, ताकि पुराने वाहन गैर जिलों में संचालित होने की बजाय स्क्रैप हो सकें।

कार्रवाई को लेकर बेबस 

विभाग निष्प्रोज्य वाहनों पर कार्रवाई को लेकर बेबस दिख रहा है। विभाग के पास ऐसा डंपिंग यार्ड नहीं है, जहां वाहनों को सीज कर रखा जा सके। निगम की ओर से पहले बुलंदशहर रोड औद्योगिक क्षेत्र में यार्ड के लिए जमीन दी गई थी, लेकिन उद्यमियों के हाईकोर्ट जाने से मामला अटक गया। इसके बाद नूरनगर सिहानी में जमीन मुहैया कराई गई। इस जमीन के पास पुलिस कमिश्नरेट का कार्यालय बनने से यहां भी यार्ड बनाने की मामला खटाई में पड़ गया।

सेंटर पर वाहनों के दाम कम मिल रहे

प्रदेश सरकार की ओर से गाजियाबाद के मोरटी गांव में सरल ऑटो स्क्रैप सेंटर को अधिकृत किया गया है, लेकिन अब तक केवल 350 वाहन ही स्क्रैप हो पाए हैं। सेंटर में वाहनों को स्क्रैप कराने की बजाए लोग कबाड़ी के पास वाहन कटवाने में ज्यादा रुचि दिखा रहे हैं। इसका कारण कबाड़ी द्वारा वाहनों की कीमत सेंटर से ज्यादा देना माना जा रहा। विभागीय आंकड़ों के मुताबिक, जिले में अब तक केवल 89 हजार वाहन सक्रैप हुए हैं।

एआरटीओ प्रशासन राहुल श्रीवास्तव, 'समयसीमा पार कर चुके वाहनों की दूसरे जिलों के लिए एनओसी जारी नहीं होगी, ताकि निर्धारित समय के बाद गाड़ी मालिक अपने वाहनों को स्क्रैप करा सकें। अधिकृत सेंटर पर वाहनों को कटवाने से लाभ मिलता है।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें