ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCR'दिल्ली के गाजीपुर में मिला IED पाक से तस्करी कर लाए गए विस्फोटकों की खेप का हिस्सा था'

'दिल्ली के गाजीपुर में मिला IED पाक से तस्करी कर लाए गए विस्फोटकों की खेप का हिस्सा था'

पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर फूल मंडी में बरामद आईईडी वहां किसने रखा था बेशक अभी यह पता नहीं चल सका है, लेकिन खुफिया एजेंसियों का मानना है कि यह आईईडी उन विस्फोटकों की खेप का हिस्सा था, जिन्हें...

'दिल्ली के गाजीपुर में मिला IED पाक से तस्करी कर लाए गए विस्फोटकों की खेप का हिस्सा था'
Praveen Sharmaनई दिल्ली। एएनआईMon, 17 Jan 2022 12:54 PM

इस खबर को सुनें

पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर फूल मंडी में बरामद आईईडी वहां किसने रखा था बेशक अभी यह पता नहीं चल सका है, लेकिन खुफिया एजेंसियों का मानना है कि यह आईईडी उन विस्फोटकों की खेप का हिस्सा था, जिन्हें पाकिस्तान से भारत में तस्करी कर लाया गया था। इसके साथ ही इसमें स्लीपर सेल का हाथ होने की भी पूरी संभावना है।

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि हमने पाया है कि गाजीपुर में टेप से लिपटे आईईडी वाले बैग को स्लीपर सेल द्वारा लगाया गया था। बरामद किए गए विस्फोटकों का वजन लगभग 1.5 किलोग्राम था, जिसमें आरडीएक्स और अमोनियम नाइट्रेट दोनों थे और उनमें उच्च तीव्रता वाले विस्फोट की संभावना थी। यह उम्मीद है कि इस तरह के बम स्लीपर सेल के नेटवर्क के माध्यम से चुनाव वाले राज्यों में पहुंचाए गए हैं।

उन्होंने कहा कि हाल के महीनों में पंजाब पुलिस द्वारा विस्फोटकों की बरामदगी सिर्फ इस कड़ी का एक सिरा है। खुफिया एजेंसियों ने इस मामले की विस्तृत रिपोर्ट के लिए दिल्ली पुलिस और राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड (एनएसजी) के साथ समन्वय किया। एनएसजी इस मामले में सोमवार को दिल्ली पुलिस के साथ अपनी रिपोर्ट साझा करेगी।

अधिकारी ने कहा कि पिछले कुछ महीनों में सीमावर्ती क्षेत्रों में ड्रोन गतिविधियों में वृद्धि हुई है, कई बार ड्रोन विस्फोटकों को गिराने के लिए इस्तेमाल किए जाते हैं, विशेष रूप से टिफिन बम जिनका पता नहीं चल पाता है और उनका इस्तेमाल कानून-व्यवस्था बिगाड़ने के लिए चुनाव से पहले या चुनाव के दौरान आतंकवादी गतिविधियों में किया जा सकता है। 

उन्होंने कहा कि लुधियाना विस्फोट में, आरडीएक्स का इस्तेमाल किया गया था और फिर से हमें दिल्ली के गाजीपुर में आरडीएक्स मिला। यह पाकिस्तान से आई एक खेप का हिस्सा जैसा प्रतीत होता है, जो स्लीपर सेल के माध्यम से दिल्ली पहुंचा है। खुफिया एजेंसियां ​​इस सिंडिकेट में शामिल संदिग्धों को ट्रैक कर रही हैं। हमने यूपी एटीएस के साथ भी जानकारी साझा की है। 

मुजाहिदीन गजवत-उल-हिंद (एमजीएच) के नाम से एक टेलीग्राम चैनल बनाए जाने की जानकारी मिलने के बाद खुफिया और सुरक्षा एजेंसियां ​​​सतर्क हैं। वहीं, कश्मीर में सक्रिय अलकायदा से जुड़े एक आतंकवादी संगठन ने पिछले हफ्ते गाजीपुर फूल मंडी में एक इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (आईईडी) लगाने की जिम्मेदारी ली है।

उन्होंने कहा कि एक टेलीग्राम चैनल ने दावा किया गया है कि तकनीकी गड़बड़ी के कारण गाजीपुर में विस्फोटक नहीं फटा, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि उनकी योजना विफल हो गई है। मैसेज को दिल्ली पुलिस के साथ साझा किया गया है और भीड़भाड़ वाले स्थानों पर गश्त बढ़ाने के लिए कहा गया है। दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की टीमें इस मामले में सुराग तलाशने के लिए यूपी में हैं।

उन्होंने कहा कि हम इस संभावना पर काम कर रहे हैं कि संदिग्ध दिल्ली-यूपी सीमा पर स्थित गाजीपुर फूल मंडी में विस्फोटक लगाकर यूपी की सीमा से भाग गया हो। इस बीच, दिल्ली पुलिस गाजीपुर में जहां विस्फोटक मिला था, उसके आसपास के 80 से अधिक सीसीटीवी खंगाल रही है। 

epaper