DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बेदिल दिल्ली: फ्लैट में मृत पड़ा था IB अफसर, होली के दिन भी किसी ने नहीं ली सुध

दो दिन पहले, पूर्वी दिल्ली के इंद्रपस्थ एक्सटेंशन की हिमवर्षा सोसायटी। गुलाल से एक दूसरे के गाल लाल कर लोग होली की बधाइयां दे रहे थे। पर्व का हर रंग चारों ओर बिखरा हुआ था और लोग उसमें शामिल भी थे, मगर शायद खोखले मन से। अगर पूरे मन से शामिल होते तो कोई हाथों में गुलाल लिए फ्लैट नंबर 93 का दरवाजा खटखटाता और कहता-होली मुबारक हो पाल साहब।

साठ साल के सेवानिवृत आईबी अधिकारी नरेंद्र कुमार पाल अपने बेड पर मृत पड़े थे। आसपास के लोगों ने सुध ली, तब जब फ्लैट से उठ रही दुर्गंध ने उन्हें परेशान किया। लोगों ने शुक्रवार को पुलिस को सूचना दी। पुलिस दरवाजा तोड़कर अंदर घुसी तो उनकी लाश बिस्तर पर पड़ी थी। उसमे कीड़े पड़ गए थे। लाश करीब एक सप्ताह पुरानी बताई जा रही है। गुरुवार को होली के दिन भी किसी ने उनकी सुध नहीं ली। वह आईबी में जूनियर इंटेलिजेंस अफसर-एक के पद पर कार्यरत थे। 

वर्ष 2010 में निजी कारणों की वजह से उन्होंने सेवानिवृत्ती ले ली थी। उनके परिवार में उनकी पत्नी राजबाला, बड़ी बेटी 27 वर्षीय शीतल और छोटी बेटी 23 वर्षीय श्वेता हैं। पाल अपनी पत्नी से अलग यहां अकेले रह रहे थे। उनकी पत्नी वर्ष 2015 में अपनी बेटियों के साथ मयूर विहार में अपने भाई के घर चली गई थीं। दोनों के बीच तलाक का केस भी चल रहा था। उनकी बड़ी बेटी शीतल गुजरात के अहमदाबाद से एमबीए की पढ़ाई कर रही है। जबकि छोटी बेटी उत्तर प्रदेश के बरेली से बीएड कर रही हैं। 

चार साल से नहीं की थी बात 
पुलिस जांच में पता चला कि 2015 में अलग होने के बाद राजबाला और उनकी दोनों बेटियों ने नरेंद्र से संपर्क तोड़ लिया। कभी वह उनसे फोन पर बातचीत नहीं करते थे और न ही एक दूसरे का हालचाल जानने का प्रयास करते थे। 

मौत की सूचना पर पत्नी और बेटियां पहुंचीं 
नरेंद्र की मौत के बाद पुलिस ने उनके परिजनों के बारे में पता करना शुरू किया। जानकारी होने पर पुलिस ने उनकी पत्नी और बेटियों को सूचना दी। उनकी बड़ी बेटी शीतल अहमदाबाद में थी, लेकिन सूचना मिलते ही वह भी पहुंच गई। 

रोबोट और कटहल से लेकर सीसीटीवी तक होंगे इस बार के चुनाव चिन्ह

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:ib officer found dead in himvarsha society