ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRगाजियाबाद में इंसानियत फिर शर्मसार, घायल भाई-बहन की मदद के बहाने कर दिया ऐसा कांड

गाजियाबाद में इंसानियत फिर शर्मसार, घायल भाई-बहन की मदद के बहाने कर दिया ऐसा कांड

गाजियाबाद में तेज रफ्तार कार ने स्कूटी सवार भाई-बहन को टक्कर मार दी। हादसे में घायल होने के बाद राहगीरों ने दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया। इलाज के दौरान उन्हें होश आया तो उनका सामान चोरी हो गया था।

गाजियाबाद में इंसानियत फिर शर्मसार, घायल भाई-बहन की मदद के बहाने कर दिया ऐसा कांड
Praveen Sharmaगाजियाबाद। हिन्दुस्तानWed, 03 Apr 2024 08:52 AM
ऐप पर पढ़ें

गाजियाबाद में एनएच-9 पर तेज रफ्तार कार ने स्कूटी सवार भाई और बहन को टक्कर मार दी। हादसे में घायल होने के बाद राहगीरों ने दोनों को दिल्ली के निजी अस्पताल में भर्ती कराया। इलाज के दौरान उन्हें होश आया तो पता चला कि युवक का मोबाइल और उसकी बहन के गहने गायब हैं। उन्होंने थाना खोड़ा में रिपोर्ट दर्ज कराते हुए मदद के बहाने सामान चोरी करने की आशंका जताई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

दिल्ली के कल्याणपुरी में रहने वाले आकाश सब्जी विक्रेता हैं। आकाश ने बताया कि मां द्रौपदी गाजियाबाद के राहुल विहार में रहती थीं और पिछले साल 22 अक्टूबर को मां की मौत के बाद से उनका यह मकान खाली पड़ा था। 30 मार्च को वह अपनी बहन चंचल के साथ राहुल विहार स्थित मकान देखने गए थे। यहां से लौटते समय साढ़े 8 बजे एनएच-नौ पर थाना खोड़ा के सामने पहुंचे तो पीछे से तेज रफ्तार में आ रही कार ने स्कूटी में टक्कर मार दी। टक्कर लगते ही दोनों स्कूटी समेत हाईवे पर गिरकर गंभीर रूप से घायल हो गए।

आकाश के मुताबिक, उनकी आंखों के आगे अंधेरा छा गया। काफी देर तक कुछ समझ नहीं आया। फिर कुछ लोग खड़े दिखाई दिए। इनमें से एक व्यक्ति कल्याणपुरी का ही था। उसके पूछने पर उन्होंने कहा कि कल्याणपुरी के पास अस्पताल में भर्ती करा दो। आकाश ने बताया कि उनके हाथ और पैरों में चोट आई है, जबकि बहन का चेहरा भी जख्मी हुआ है। 31 मार्च को तबीयत में कुछ सुधार हुआ तो उनका मोबाइल और बहन की नाक की लौंग और कान के कुंडल गायब थे। पहले अस्पताल में ही पूछा और कैमरे चेक किए, लेकिन यहां से गायब होने का सुराग नहीं मिला।

कार चालक पर मोबाइल ले जाने का शक

आकाश का कहना है कि उनसे पता पूछने वाले व्यक्ति ने बताया था कि हादसे के बाद एक कार उनके पास रुकी थी। इसमें निकले चालक को नीचे से मोबाइल उठाते हुए देखा था। वहीं, गहनों का कोई सुराग नहीं मिल पाया। आशंका है कि मदद के नाम पर रुके कुछ लोगों ने मौका देखकर बहन के गहने निकाल लिए।

-स्वतंत्र कुमार सिंह, एसीपी, इंदिरापुरम, ''दोनों घायल खतरे से बाहर हैं। फिलहाल केस दर्ज कर लिया है। एनएच-नौ पर कैमरे नहीं लगने से अभी तक फुटेज नहीं मिल पाई है। आसपास के क्षेत्रों में लगे कैमरों की फुटेज खंगाल रहे हैं। छानबीन कर आगे की कार्रवाई करेंगे।'' 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें