ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली में हीटवेव से कितने लोग मरे, अस्पताल में अभी कितने भर्ती; मंत्री ने बताया

दिल्ली में हीटवेव से कितने लोग मरे, अस्पताल में अभी कितने भर्ती; मंत्री ने बताया

दिल्ली में लोग जबरदस्त हीटवेव का सामना कर रहे हैं। सौरभ भारद्वाज ने कहा कि सरकारी अस्पतालों में 310 लोग एडमिट हुए हैं। इनमें से 112 लोग डिस्चार्ज हो गए हैं। 118 लोग अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं।

दिल्ली में हीटवेव से कितने लोग मरे, अस्पताल में अभी कितने भर्ती; मंत्री ने बताया
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 20 Jun 2024 11:49 AM
ऐप पर पढ़ें

इस भीषण गर्मी में दिल्ली के लोग एक तरफ पानी के लिए तरस रहे हैं तो दूसरी तरफ हीटवेव ने कहर बरपा रखा है। हीट स्ट्रोक की वजह से दिल्ली के विभिन्न अस्पतालों में गर्मी से जनित बीमारियों से ग्रसित मरीजों की संख्या बढ़ी है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सौरभ भारद्वाज ने कहा कि पिछले कुछ दिनों से तापमान 52 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। पिछले 60 सालों में तापमान सबसे उच्च स्तर पर पहुंच गया है। रात के वक्त भी तापमान 38 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जा रहा है।

उत्तर भारत में हीटवेव से बीमार पड़ रहे लोगों की संख्या बढ़ी है। सौरभ भारद्वाज ने कहा कि दिल्ली सरकार के अस्पतालों में पिछले 48 घंटों में 310 लोग एडमिट हुए हैं। इनमें से 112 लोग डिस्चार्ज हो गए हैं। 118 लोग अभी भी अस्पताल में भर्ती हैं और 14 लोगों की जान चली गई है।

दिल्ली सरकार में मंत्री सौरभ भारद्वाज ने पंडित मदन मोहन मालवीय अस्पताल का औचक निरीक्षण किया। सौरभ भारद्वाज ने कहा, 'आज औचक निरीक्षण किया गया था। यह देखने के लिए कि क्या हमारे अस्पतालों में सभी संसाधन मौजूद हैं? DDU अस्पताल का कहना है कि उनके यहां पुलिस बहुत सारे लावारिस शव लेकर आई है। हमने दिल्ली पुलिस कमिश्नर को कल पत्र लिखा है कि यदि उन्हें सड़क पर कोई बीमार दिखाई दे तो आप उसे अस्पताल में छोड़ जाएं या फिर हमें सूचना दें।'

न्यूज एजेंसी 'भाषा' ने अपनी रिपोर्ट में बताया कि राष्ट्रीय राजधानी में भीषण गर्मी का प्रकोप जारी रहने के बीच पिछले 48 घंटों के दौरान दिल्ली के विभिन्न हिस्सों से वंचित सामाजिक-आर्थिक पृष्ठभूमि से जुड़े 50 लोगों के शव बरामद किए गए। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। हालांकि, पुलिस और स्वास्थ्य अधिकारियों ने इसकी पुष्टि नहीं की है कि क्या सभी की मौत गर्मी से संबंधित कारणों से हुई।

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि बुधवार को इंडिया गेट के निकट बच्चों के पार्क में 55 वर्षीय एक व्यक्ति का शव मिला। उन्होंने बताया कि मौत के कारण का पता लगाने के लिए पोस्टमार्टम कराया जाएगा। बेघर लोगों के लिए काम करने वाले एक गैर सरकारी संगठन 'सेंटर फॉर होलिस्टिक डेवलपमेंट' ने दावा किया है कि 11 से 19 जून के बीच दिल्ली में भीषण गर्मी के कारण 192 बेघर लोगों की मौत हुई।

भीषण गर्मी का प्रकोप जारी रहने के चलते लू लगने से जान गंवाने वाले लोगों और यहां अस्पतालों में इससे पीड़ित मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ी है। गंभीर जल संकट से जूझ रही दिल्ली में अधिकतम तापमान सामान्य से चार डिग्री अधिक 43.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शहर में न्यूनतम तापमान 35.2 डिग्री सेल्सियस रहा जो 1969 के बाद जून में सबसे अधिक है।