ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली में कितने नाले साफ हुए, तुंरत बताएं; मुख्य सचिव को मंत्री का आदेश

दिल्ली में कितने नाले साफ हुए, तुंरत बताएं; मुख्य सचिव को मंत्री का आदेश

PWD ने दावा किया है कि करीब 1293 किलोमीटर नालों को पूरी तरह से साफ कर दिया गया है। इसी दौरान एमसीडी ने भी दावा किया है कि फेज-1 के तहत 87.14 फीसदी नालों को पूरी तरह साफ कर लिया गया है। 

दिल्ली में कितने नाले साफ हुए, तुंरत बताएं; मुख्य सचिव को मंत्री का आदेश
Nishant Nandanलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीThu, 13 Jun 2024 07:15 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में मॉनसून सीजन के दौरान बाढ़ की बड़ी समस्या रहती है। दिल्ली सरकार ने हाल ही में कहा था कि बारिश को देखते हुए इस बार दिल्ली में बड़ी तैयारी की गई है और बाढ़ को रोकने के हर मुमकिन उपाय भी किए गए हैं। अब दिल्ली सरकार के शहरी विकास मंत्री सौरभ भारद्वाज ने मुख्य सचिव से पूछा है कि 10 जून, 2024 तक दिल्ली के कितने नालों की सफाई कर ली गई है इसकी पूरी सूची जल्द से जल्द उपलब्ध करवाएं। मंत्री ने मुख्य सचिव को यह भी निर्देश दिया कि वो यह भी सुनिश्चित करें कि किसी स्वतंत्र एजेंसी द्वारा थर्ड पार्टी ऑडिट 30 तारीख से पहले करा लिया जाए। 

चीफ सेक्रेटरी को लिखे खत में सौरभ भारद्वाज ने कहा कि 10 जून को विभिन्न एजेंसियों द्वारा नालों की हो रही साफ-सफाई को लेकर एक बैठक हुई थी। बैठक के दौरान PWD ने दावा किया था कि 2156 किलोमीटर नालों में से 61 फीसदी नाले पूरी तरह से साफ हो गए हैं। करीब 1293 किलोमीटर नालों को पूरी तरह से साफ कर दिया गया है। इसी दौरान एमसीडी ने भी दावा किया है कि फेज-1 के तहत 87.14 फीसदी नालों को पूरी तरह साफ कर लिया गया है। 

पिछले साल जमीन पर ज्यादातर नालों की सफाई नहीं हुई थी जबकि कागजों में नालों की सफाई दिखाई गई थी। इसलिए यह जरुरी है कि एजेंसियों के दावों की सत्यता की जांच की जाए। पीडब्लूडी के मुख्य सचिव अनबरासू और कमिश्नर (एमसीडी)ज्ञानेश भारती को निर्देश दिया गया था कि वो 10 तारीख तक उन नालों की पूरी सूची उपलब्ध कराएं जो पूरी तरह साफ हो चुके हैं।

ताकि जमीन पर इसकी जांच की जा सके। लेकिन हैरानी का बात है कि अब तक ऐसी कोई भी रिपोर्ट नहीं दी गई है। दिल्ली के मंत्री ने कहा है कि इन सभी दावों की जांच मॉनसून आने से पहले कर ली जाए क्योंकि एक बार शहर में बारिश शुरू हो जाती है तब विभाग नालों की सफाई को लेकर बहाने बनाने लगता है।