Honey Trap Gang two member arrested by delhi police - दिल्ली : अमीरों को हनीट्रैप में फंसाकर ऐंठे करोड़ों, दो गिरफ्तार DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दिल्ली : अमीरों को हनीट्रैप में फंसाकर ऐंठे करोड़ों, दो गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने हनी ट्रैप में फंसाकर बिल्डर, इंजीनियरों और व्यावसायियों सहित दस लोगों से तीन करोड़ वसूलने वाले गिरोह के सरगना ललित और उसके साथी गौरव त्यागी को गुरुवार को प्रशांत विहार से गिरफ्तार किया है। गिरोह में दो पुलिसकर्मियों के भी शामिल होने की बात सामने आई है, जिन्हें आला अधिकारियों ने निलंबित कर दिया है।

इस मामले में रोहिणी सेक्टर-7 निवासी पीड़ित बिल्डर सुमित छाबड़ा (बदला हुआ नाम) ने प्रशांत विहार थाने में शिकायत दर्ज कराई थी। उन्होंने पुलिस को बताया था कि 17 मार्च को उन्हें व्हाट्स एप पर एक मैसेज आया था। मैसेज में युवती ने लिखा था कि वह रोहिणी सेक्टर-11 स्थित एक फ्लैट में रहती है और उसे अपने फ्लैट की मरम्मत करानी है। उसने सुमित को अपने फ्लैट पर बुलाया। सुमित मौके पर पहुंचे। फ्लैट देखने के बाद युवती ने उन्हें कोल्ड ¨ड्रक पीने को दी, जिसके पीकर वह बेहोश हो गए। पीड़ित को जब होश आया तो उसके शरीर पर कपड़े नहीं थे और कमरे में तीन युवतियों समेत छह लोग मौजूद थे। सभी के हाथ में कैमरे थे। उन्होंने पीड़ित को बंधक बनाकर फोटो सार्वजनिक करने की धमकी दी। इनमें से एक युवक ने खुद को पुलिसकर्मी बताया और उसे रेप के केस में फंसाने की धमकी दी। 

आरोपियों ने ब्लैकमेल कर पीड़ित से 17 लाख रुपये वसूल लिए। बाद में पीड़ित ने सारी बात दोस्त को बताई। दोस्त की सलाह पर ही वह पुलिस के पास गया। वरिष्ठ अधिकारियों ने मामले की गंभीरता को देखते हुए एसीपी ऑपरेशन्स जितेंद्र मलिक की देखरेख में एसआई अमरजीत राणा की टीम गठित की। जांच के बाद पुलिस ने होलम्बी कला निवासी ललित व गौरव त्यागी को गिरफ्तार कर लिया। अदालत ने ललित को एक दिन की पुलिस रिमांड पर सौंपा है, जबकि गौरव को तिहाड़ जेल भेज दिया गया है। वह पहले भी नकली सिक्के बनाने के मामले में जेल जा चुका है। पुलिस गिरोह की चार युवतियों को तलाश कर रही है।

वरिष्ठ अधिकारियों के हस्तक्षेप से मामला दर्ज : पीड़ित पहले शिकायत लेकर प्रशांत विहार थाने गया था, लेकिन उसे वहां से भगा दिया गया। फिर डीसीपी ऑफिस में भी उसकी कोई सुनवाई नहीं हुई तो वह पुलिस मुख्यालय में वरिष्ठ अधिकारियों के पास पहुंचा। तब जाकर 19 मार्च को एफआईआर दर्ज की गई।

डीसीपी रजनीश गुप्ता ने बताया कि मामले में प्रशांत विहार थाने के सिपाही अमित कुमार और इसी इलाके में पूर्व में तैनात रहे हेडकांस्टेबल योगेंद्र को निलंबित कर दिया गया है। हालांकि, इनकी संलिप्ता के प्रमाण नहीं मिले हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Honey Trap Gang two member arrested by delhi police