ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRहिंदू कॉलेज के 15 छात्र क्यों हुए निष्कासित, 3 छात्रों पर भी लटकी तलवार; DU में फिर बवाल

हिंदू कॉलेज के 15 छात्र क्यों हुए निष्कासित, 3 छात्रों पर भी लटकी तलवार; DU में फिर बवाल

Hindu College : सितंबर में हिंदू कॉलेज में कुछ छात्रों ने भूख हड़ताल किया था। दरअसल कॉलेज में 'प्राइम मीनिस्टर' और कॉलेज के सेंट्रल काउंसलर के पद के लिए 30 छात्रों का नॉमिनेशन रद्द कर दिया गया था।

हिंदू कॉलेज के 15 छात्र क्यों हुए निष्कासित, 3 छात्रों पर भी लटकी तलवार; DU में फिर बवाल
Nishant Nandanपीटीआई,नई दिल्लीMon, 30 Oct 2023 02:25 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली यूनिवर्सिटी (Delhi University) के हिंदू कॉलेज (Hindu College) के 15 छात्रों को कॉलेज से निष्कासित कर दिया गया है। इसके अलावा 3 अन्य छात्रों पर भी कार्रवाई की जा रही है। दिल्ली यूनिवर्सिटी के संबंधित हिंदू कॉलेज के 15 छात्रों को निष्कासित किए जाने के बाद बवाल मच गया है। निष्कासित छात्रों ने भी अपनी मांग रखी है। हिंदू कॉलेज के प्रिंसिपल ने बताया है कि कॉलेज में छात्र संघ के चुनाव के दौरान अनुशासनहीनता के आरोप में यह बड़ी कार्रवाई की गई है। Hindu College की प्रिंसिपल प्रोफेसर अंजू श्रीवास्तव ने न्यूज एजेंसी PTI से बातचीत में कहा, 'यह ऐक्शन कॉलेज के Disciplinary Resource Committee की सिफारिश पर लिया गया है। कमेटी ने अपनी जांच में पाया है कि यह सभी छात्र कॉलेज में चुनाव के दौरान अनुशासन तोड़ने में शामिल थे।  

27 अक्टूबर को भेजे गए एक ईमेल में कॉलेज की Disciplinary Resource Committee ने बताया था कि उसने अपनी जांच में पाया है कि यह छात्रा सितंबर 15-18 के बीच कॉलेज में हुए चुनाव के दौरान घोर अनुशासनहीनता में शामिल रहे। कमेटी ने अपने ईमेल में 16 अक्टूबर का जिक्र करते हुए बताया है कि इस दिन छात्रों के साथ बैठक हुई थी और इसमें कुछ फोटो और वीडियो दिखाए गए थे जिसमें इन छात्रों के अनुशासनहीनता में शामिल होने सबूत थे। 

सितंबर में हिंदू कॉलेज में कुछ छात्रों ने भूख हड़ताल किया था। दरअसल कॉलेज में 'प्राइम मीनिस्टर' और कॉलेज के सेंट्रल काउंसलर के पद के लिए 30 छात्रों का नॉमिनेशन रद्द कर दिया गया था और इसी के विरोध में यह प्रदर्शन छात्रों ने किया था। बता दें कि हिंदू कॉलेज में स्टूडेंट यूनियन के हेड को अध्यक्ष की जगह प्राइम मीनिस्टर कहा जाता है। 

छात्रों का नामांकन रद्द करते हुए कॉलेज प्रबंधन ने कहा था कि इन सभी की कॉलेज में अटेंडेंस कम है। इसके साथ ही मामले में जांच के आदेश भी दिए गए थे और जरूरी पुलिस ऐक्शन की बात भी कही गई थी। निष्कासित किए गए एक छात्र ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा, 'प्रैक्टिकल की क्लास में हम उपस्थित रहे लेकिन कॉलेज ने सिर्फ थ्योरी की क्लासों में अटेंडेंस को माना। हम मांग करते हैं कि प्रशासन हमारे अटेंडेंस को लेकर नोटिस जारी करे। छात्र संघ चुनाव में हिस्सा लेने के लिए नियमों के मुताबिक किसी कैंडिडेट का 75 फीसदी अटेंडेंस जरूरी है। 

DRC committee के प्रमुख रामेश्वर राय ने कहा, 'अनुशासनहीनता में शामिल रहने की वजह से करीब 15 छात्रों को निष्कासित किया गया है और तीन छात्रों पर कार्रवाई की प्रक्रिया जारी है। कमेटी ने अधिकतम 4 महीनों के लिए निष्कासन का दंड दिया है।' इन छात्रों को अनुशासनहीनता, संस्थान की प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाने और एकेडमिक कार्यों में बाधा उत्पन्न करने के आरोप निष्कासित किया गया है। निष्कासित छात्रों से यह भी कहा गया है कि वो एक एफेडेविट फाइल करें और यह भी सुनिश्चित करें कि भविष्य में वो इस तरह के कार्यों में संलिप्त नहीं होंगे।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें