ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRराहुल गांधी के खिलाफ FIR नहीं लिख रही पुलिस; याचिका पर HC ने मांग लिया जवाब

राहुल गांधी के खिलाफ FIR नहीं लिख रही पुलिस; याचिका पर HC ने मांग लिया जवाब

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग को लेकर दायर याचिका पर हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से जवाब मांगा है। रेप विक्टिम की पहचान उजागर करने का आरोप।

राहुल गांधी के खिलाफ FIR नहीं लिख रही पुलिस; याचिका पर HC ने मांग लिया जवाब
Sudhir Jhaपीटीआई,नई दिल्लीThu, 23 Nov 2023 05:02 PM
ऐप पर पढ़ें

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और वायनाड से सांसद राहुल गांधी के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग को लेकर दायर याचिका पर हाई कोर्ट ने दिल्ली पुलिस से जवाब मांगा है। 2021 में एक दलित बच्ची के साथ रेप के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी। आरोप है कि कांग्रेस नेता ने उसके पिता के साथ माता-पिता के साथ तस्वीर सोशल मीडिया पर साझा करके उसकी पहचान उजागर कर दी थी। याचिकाकर्ता मकरंद सुरेश म्हादलेकर के वकील ने दलील दी कि राहुल गांधी ने गंभीर अपराध किया लेकिन दिल्ली पुलिस ने अभी तक उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं की है। 

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) के वकील ने कहा कि ऐसे मामलों में कोई अपवाद नहीं है और पुलिस को एफआईआर दर्ज करके कार्रवाई करनी चाहिए। एक्टिंग चीफ जस्टिस मनमोहन ने पुलिस से 10 दिन में जवाब मांगा और कहा कि इसे देखने का बाद वह इस पर आगे बढ़ेंगे। बेंच ने कहा कि प्रतिवादी संख्या तीन के वकील ने समय की मांग की है। जस्टिस मनमोहन के अलावा जस्टिस मिनी पुष्करणा की पीठ ने अगली सुनवाई की तारीख 21 दिसंबर तय की।  

राहुल गांधी की ओर से पेश वकील तरन्नुम चीमा ने कहा कि कांग्रेस नेता को पीआईएल पर कोई औपचारिक नोटिस नहीं दिया गया है। सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म एक्स (पूर्व में ट्विटर) के वकील ने कहा कि इस पोस्ट के बाद राहुल गांधी के अकाउंट को अस्थायी रूप से सस्पेंड किया गया था और उसे (पोस्ट) को हटा दिया गया था। याचिकाकर्ता के वकील ने हालांकि, आरोप लगाया कि सोशल मीडिया प्लैटफॉर्म की ओर से राहुल गांधी को बचाने की कोशिश हो रही है। पोस्ट को सिर्फ भारत में हटाया गया था और इस तरह अपराध जारी है। 

वर्ष 2021 में, सामाजिक कार्यकर्ता म्हादलेकर ने नाबालिग दलित लड़की की पहचान कथित तौर पर उजागर करने के लिए गांधी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का अनुरोध करते हुए उच्च न्यायालय का रुख किया था। 9 साल की दलित लड़की की एक अगस्त 2021 को संदिग्ध हालत में मौत हो गई थी। उसके परिजनों ने आरोप लगाया था कि एक पुजारी ने बच्ची के साथ रेप और हत्या करके उसका अंतिम संस्कार कर दिया। घटना दक्षिणीपूर्वी दिल्ली के नांगल गांव की थी। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें