ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRदिल्ली में भीषण गर्मी से हाहाकार, हीट स्ट्रोक से 48 घंटों में 24 की मौत, लगातार बढ़ रहे मरीज

दिल्ली में भीषण गर्मी से हाहाकार, हीट स्ट्रोक से 48 घंटों में 24 की मौत, लगातार बढ़ रहे मरीज

बेघर लोगों के लिए काम करने वाले एक गैर सरकारी संगठन ‘सेंटर फॉर होलिस्टिक डेवलपमेंट’ ने दावा किया है कि 11 से 19 जून के बीच दिल्ली में भीषण गर्मी के कारण 192 बेघर लोगों की मौत हुई है।

दिल्ली में भीषण गर्मी से हाहाकार, हीट स्ट्रोक से 48 घंटों में 24 की मौत, लगातार बढ़ रहे मरीज
Sourabh Jainहिंदुस्तान,नई दिल्लीWed, 19 Jun 2024 10:54 PM
ऐप पर पढ़ें

राष्ट्रीय राजधानी में बीते कई दिनों से भीषण गर्मी का कहर लगातार जारी है। जिसके चलते पिछले 48 घंटों में दिल्ली के बड़े अस्पतालों में ही 24 लोगों की मौत हो गई, वहीं 300 से अधिक हीट स्ट्रोक के मरीजों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। इस दौरान सफदरजंग अस्पताल में हीट स्ट्रोक के दो मरीजों की मौत हुई, तो वहीं राममनोहर लोहिया अस्पताल में दो दिन में 6 मरीज चल बसे। जबकि लोकनायक अस्पताल में बीते तीन दिन में हीट स्ट्रोक के 6 मरीजों की मौत हुई है।

दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में बुधवार को हीट स्ट्रोक के 15 मरीज भर्ती किए गए, वहीं हीट स्ट्रोक के दो संदिग्ध मरीजों की मौत हो गई। गर्मी की वजह से बीमार हुए इन मरीजों को गंभीर हालत में अस्पताल में लाया गया था। सफदरजंग अस्पताल में मंगलवार को भी दो मरीजों की हीट स्ट्रोक की वजह से जान गई थी। इनमें 50 वर्षीय पुरुष और 60 वर्षीय महिला शामिल है। अस्पताल में अभी तक हीट स्ट्रोक के 65 मरीज भर्ती किए जा चुके हैं जबकि कुल नौ मरीजों ने अभी तक दम तोड दिया है। 

राममनोहर लोहिया में दो दिन में 6 मौत, 12 वेंटिलेटर पर

दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ अजय शुक्ला के मुताबिक उनके अस्पताल में पिछले दो दिनों में हीट स्ट्रोक के लक्षण वाले छह लोगों की मौत हो चुकी है। उन्होंने कहा कि मरने वालों में अधिकतर वे मजदूर हैं जो बाहर काम करते हैं। अस्पताल में बुधवार को 11 हीट स्ट्रोक के मरीज भर्ती किए गए। अस्पताल में अभी तक कुल 52 हीट स्ट्रोक के मरीज भर्ती किए जा चुके हैं। वर्तमान में हीट स्ट्रोक के लक्षण वाले 23 मरीज भर्ती हैं। इनमें 12 मरीज गंभीर हालत में वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं। 

राममनोहर लोहिया (RML) अस्पताल के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया, शरीर को तुरंत ठंडा करने के लिए अस्पताल ने अपनी तरह की पहली ‘हीटस्ट्रोक यूनिट’ स्थापित की है। अधिकारी ने कहा, 'इस यूनिट में कूलिंग तकनीक है और मरीजों को बर्फ और पानी से भरे बाथटब में रखा जाता है। जब मरीज के शरीर का तापमान 102 डिग्री फारेनहाइट से नीचे चला जाता है, तो उनकी निगरानी की जाती है। अगर उनकी हालत स्थिर होती है, तो उन्हें वार्ड में शिफ्ट कर दिया जाता है। अन्यथा, उन्हें वेंटिलेटर पर रखा जाता है। भर्ती होने वाले ज्यादातर मरीज मजदूर हैं।'


लोकनायक में तीन दिन में 6 मौत, 25 नए मरीज भर्ती

लोकनायक अस्पताल में बीते तीन दिन में 25 मरीज हीट स्ट्रोक के इलाज के लिए पहुंचे हैं, जबकि हीट स्ट्रोक वाले तीन मृतक इमरजेंसी में लाए गए थे। इसके अलावा हीट स्ट्रोक के तीन और मरीजों की इलाज के दौरान मौत हो गई थी। इसमें किसी मरीज को तेज बुखार था, तो कोई बेहोशी की हालत में उपचार के लिए लाया गया था। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार 17 जून से लेकर 19 जून की दोपहर दो बजे तक हीट स्ट्रोक के 25 मरीज अस्पताल लाए गए थे। सबसे ज्यादा 16 मरीज 18 जून को पहुंचे। वहीं 20 मृत लोग कैजुअल्टी में लाए गए। सोमवार को यह संख्या चार थी। मंगलवार को यह आंकड़ा 12 पहुंच गया। जबकि बुधवार को चार मृत लोग कैजुअल्टी में लाए गए। मंगलवार को अस्पताल में हीट स्ट्रोक के उपचार के लिए भर्ती एक मरीज की मौत भी हुई और हीट स्ट्रोक की चपेट में आने वाले एक मृतक को भी लाया गया। वहीं बुधवार को हीट स्ट्रोक वाले दो मृतक लाए गए। 

इसके अलावा दिल्ली के अलग-अलग अस्पतालों में पिछले 48 घंटों में कुल 310 नए मरीज भर्ती हुए हैं। इनमें से 112 को अस्पताल से छुट्टी मिल गई जबकि 118 मरीज अभी भी भर्ती हैं।  जीटीबी अस्पताल में 4 लोगों की मौत हुई हैं। इसके अलावा अंबेडकर अस्पताल, दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल, इंदिरा गांधी अस्पताल और दीप चंद बंधु अस्पताल में भी प्रत्येक में 1-1 मरीज ने दम तोड दिया। वर्तमान में सबसे अधिक 64 मरीज जनकपुरी सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल में भर्ती हैं।