DA Image
30 सितम्बर, 2020|5:47|IST

अगली स्टोरी

हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिजन नहीं चाहते थे धरना, संगठनों ने बैठाने की कोशिश की : दिल्ली पुलिस

protest on hathras gangrape case

हाथरस गैंगरेप पीड़िता के परिजन धरना पर बैठना नहीं चाहते थे। लेकिन विभिन्न संगठन के समूह में एकत्र होकर आए लोगों ने इस मुद्दे को हाईजैक करने की कोशिश की। लेकिन हाथरस प्रशासन एडीएम, एसडीएम और सर्कल आफिसर से बात करने के बाद वे बाद वे उनके साथ हाथरस के लिए रवाना हो गए। यह बयान रात करीब 11 बजे दिलली पुलिस के एडिशनल पीआरओ अनिल मित्तल की तरफ से जारी किया गया।

चूंकि यह मामला यूपी प्रशासन से संबंधित है। लिहाजा प्रदर्शनकारी यूपी सरकार से आश्वासन चाहते थे कि मामले में न्याय हो और आरोपियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। इस बात के मद्देनजर खुद हाथरस कलेक्टर ने भी परिवार के सदस्यों से बात की और उन्हें न्याय का दिलाने का आश्वासन दिया। साथ ही हाथरस आने के लिए कहा तो परिजन प्रशासन के अधिकारियों के साथ रवाना हो गए।

जेएनयू छात्रों ने किया प्रदर्शन
हाथरस गैंगरेप पीड़िता की मौत के बाद जेएनयू के छात्रों ने जेएनयू परिसर के बाहर विरोध प्रदर्शन किया और मोमबत्ती जलाकर विरोध जताते हुए नारेबाजी की। छात्रों ने कहा कि दुष्कर्म के बाद हत्या का यह पहला मामला नहीं है। 2012 में भी हम यह देख चुके हैं। सरकार बड़े बड़े दावे व वादे करती है लेकिन महिला सुरक्षा आज हाशिए पर है। उत्तर प्रदेश में महिलाओं पर हिंसा की दर लगातार बढ़ रही है। इस प्रदर्शन में छात्राओं ने भी हिस्सा लिया। जेएनयू के छात्र बुधवार को इसके विरोध में एक प्रदर्शन करने की योजना बना रहे हैं। उन्होंने सरकार से इस बारे में निष्पक्ष जांच की मांग भी है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Hathras gangrape victim s family did not want to sit on protest organizations tried it says Delhi Police