ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRनूंह में बृजमंडल यात्रा को लेकर चार राज्यों की पुलिस भी अलर्ट, सीमाओं पर बढ़ाई चौकसी

नूंह में बृजमंडल यात्रा को लेकर चार राज्यों की पुलिस भी अलर्ट, सीमाओं पर बढ़ाई चौकसी

Nuh Police Security: हरियाणा के नूंह जिले में बृजमंडल यात्रा निकालने की चेतावनी को देखते हुए सीमाओं पर भी चौकसी बढ़ा दी गई है। चार पड़ोसी राज्यों की पुलिस भी सतर्क हो गई है। पढ़ें यह रिपोर्ट...

नूंह में बृजमंडल यात्रा को लेकर चार राज्यों की पुलिस भी अलर्ट, सीमाओं पर बढ़ाई चौकसी
Krishna Singhहिंदुस्तान,नूंहSun, 27 Aug 2023 07:31 PM
ऐप पर पढ़ें

नूंह में सोमवार को प्रस्तावित बृज मंडल यात्रा के ऐलान को देखते हुए पुलिस की चप्पे-चप्पे पर नजर है। वहीं राजस्थान, यूपी, पंजाब और दिल्ली कुल चार राज्यों की पुलिस भी अलर्ट है। इन चारों राज्यों की पुलिस ने अपने संबंधित क्षेत्र में चौकसी बढ़ा दी है। इंटर स्टेट बैरिकेडिंग कर वाहनों की सधन जांच की जा रही है। सनद रहे एक दिन पहले ही हरियाणा के डीजीपी शत्रुजीत कपूर ने पंजाब, राजस्थान, यूपी और दिल्ली पुलिस के उच्चाधिकारियों के साथ एक वर्चुअली बैठक में मदद की अपील की थी। 

इसलिए यात्रा पर लगाई रोक
डीजीपी ने पुलिस अधिकारियों से अपील की थी कि हरियाणा की सीमाओं पर उपद्रवियों के प्रवेश को रोकने के लिए पुख्ता इंतजाम किए जाएं। बैठक में डीजीपी ने बताया कि नूंह प्रशासन ने जी-20 की मीटिंग के मद्देनजर यात्रा के आयोजकों को अनुमति देने से इंकार किया है। उन्होंने बताया कि नूंह के तावडू में जी-20 का सम्मेलन तीन से सात सितंबर तक आयोजित होगा। ऐसे में कानून व्यवस्था की स्थिति बनाए रखने के लिए यात्रा को अनुमित नहीं दी गई है।

सोशल मीडिया पर रखी जा रही है नजर
जानकारी के अनुसार बैठक डीजीपी ने कहा कि बृज मंडल यात्रा की अनुमित नहीं मिलने के बावजूद ऐसे इनपुट हैं कि कुछ संगठनों ने हरियाणा और अन्य पड़ोसी राज्यों के लोगों को 28 अगस्त को नूंह पहुंचने के लिए आमंत्रित कर रहा है। सोशल मीडिया पर इस तरह के पोस्ट किए जा रहे हैं। ऐसे में सोशल मीडिया पर नजर रखी जा रही है। साथ ही पर्याप्त पुलिस बल की व्यवस्था की गई है।

एडीजीपी ममता सिंह को बने नोडल अधिकारी
डीजीपी ने कहा कि एडीजीपी कानून एवं व्यवस्था ममता सिंह नोडल अधिकारी बनाया गया है। प्रस्तावित बृज मंडल यात्रा को देखते हुए उन्हें नूंह भेजा गया है। उन्होंने सीमावर्ती राज्यों के पुलिस अधिकारियों से कहा कि यदि कोई ऐसी घटना उनके संज्ञान में आती है, जिससे सांप्रदायिक सौहार्द बिगड़ सकता है, तो इसे वास्तविक समय के आधार पर साझा किया जाना चाहिए ताकि समय पर निवारक कार्रवाई की जा सके।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें