ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRनूंह हिंसा में कांग्रेस विधायक मम्मन खान के खिलाफ पर्याप्त सबूत; हाईकोर्ट में हरियाणा सरकार

नूंह हिंसा में कांग्रेस विधायक मम्मन खान के खिलाफ पर्याप्त सबूत; हाईकोर्ट में हरियाणा सरकार

nuh violence case: हरियाणा सरकार ने हाईकोर्ट में कहा है कि नूंह हिंसा मामले में कांग्रेस विधायक मम्मन खान के खिलाफ पर्याप्त सबूत मौजूद हैं। कॉल डिटेल रिकॉर्ड भी उनके बयान को झूठा साबित करते हैं।

नूंह हिंसा में कांग्रेस विधायक मम्मन खान के खिलाफ पर्याप्त सबूत; हाईकोर्ट में हरियाणा सरकार
Krishna Singhभाषा,चंडीगढ़Thu, 14 Sep 2023 10:58 PM
ऐप पर पढ़ें

हरियाणा सरकार ने बृहस्पतिवार को हाईकोर्ट में कहा कि नूंह हिंसा मामले में कांग्रेस विधायक मम्मन खान को भी आरोपी बनाया गया है। पुलिस के पास विधायक मम्मन खान के खिलाफ पर्याप्त फोन कॉल रिकॉर्ड एवं सबूत मौजूद हैं। हरियाणा के अतिरिक्त महाधिवक्ता दीपक सभरवाल ने पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट को बताया कि सबूतों का मूल्यांकन करने के बाद ही मम्मन खान को चार सितंबर को आरोपी बनाया गया था। मम्मन खान के खिलाफ पर्याप्त सबूत मौजूद हैं।

फिरोजपुर झिरका के विधायक मम्मन खान ने मंगलवार को अदालत का रुख कर गिरफ्तारी से राहत का अनुरोध किया था। उन्होंने आरोप लगाया कि उन्हें इस मामले में फंसाया जा रहा है। वह हिंसा भड़कने के दिन नूंह में नहीं थे। विधायक के वकील ने सुनवाई के बाद संवाददाताओं से कहा कि मम्मन खान को अभी पता चला है कि उनका नाम प्राथमिकी में है। न्यायमूर्ति विकास बहल मामले की अगली सुनवाई 19 अक्टूबर को करेंगे। 

मालूम हो कि नूंह में 31 जुलाई को विश्व हिंदू परिषद के नेतृत्व वाली शोभायात्रा पर भीड़ द्वारा हमला किया गया था। हिंसा में छह लोगों की मौत हो गई थी। हिंसा की आंच गुरुग्राम तक पहुंची थी जहां एक मस्जिद पर हुए हमले में एक मौलवी की मौत हो गई थी। विधायक ने अनुरोध किया कि नूंह में हिंसा से जुड़े सभी मामले विशेष जांच टीम को स्थानांतरित कर दिए जाने चाहिए। वहीं सरकारी वकील दीपक सभरवाल ने अदालत को बताया कि मामले की छानबीन के लिए तो पहले ही एक एसआईटी गठित की जा चुकी है।
     
सनद रहे नूंह पुलिस ने विधायक मम्मन खान को दो बार जांच में शामिल होने के लिए कहा था, लेकिन वह पेश नहीं हुए। उन्होंने यह कहते हुए 31 अगस्त के लिए पुलिस समन का पालन नहीं किया कि उन्हें वायरल बुखार है। मम्मन खान ने कहा कि 26 जुलाई से एक अगस्त तक वह गुरुग्राम स्थित अपने घर पर थे, न कि नूंह में। सरकार के वकील दीपक सभरवाल ने सुनवाई के बाद कहा कि सबूत खान के दावे के खिलाफ हैं। 

सरकार के वकील दीपक सभरवाल ने कहा कि सरकार के वकील ने अदालत को बताया कि सह-आरोपी तौफीक ने भी मम्मन खान का नाम लिया है जिसे नौ सितंबर को गिरफ्तार किया गया था। कॉल डिटेल रिकॉर्ड, एक फोन टावर के माध्यम से ट्रैक की गई उनकी लोकेशन, विधायक के निजी सुरक्षा अधिकारी का बयान और अन्य सबूत, खान के दावे को झूठा साबित करते हैं। जांच निष्पक्ष तरीके से की जा रही है। प्राथमिकी के 52 आरोपियों में से 42 को गिरफ्तार किया जा चुका है। एक आरोपी नियमित जमानत पर है। अदालत को सभी सबूतों से अवगत कराया गया।