ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR15 दिन के अंदर खाली कर दें चिंटल पैराडाइसो का जी टावर, क्या है कारण

15 दिन के अंदर खाली कर दें चिंटल पैराडाइसो का जी टावर, क्या है कारण

गुरुग्राम में सेक्टर-109 के चिंटल पैराडाइसो सोसाइटी में असुरक्षित जी टावर को प्रशासन ने 15 दिन के अंदर खाली कराने का आदेश दिया है। इस समय 14 मंजिला के जी टावर में 56 फ्लैट हैं।

15 दिन के अंदर खाली कर दें चिंटल पैराडाइसो का जी टावर, क्या है कारण
Sneha Baluniकार्यालय संवाददाता,गुरुग्रामWed, 14 Jun 2023 09:30 AM
ऐप पर पढ़ें

गुरुग्राम में सेक्टर-109 के चिंटल पैराडाइसो सोसाइटी में असुरक्षित जी टावर को प्रशासन ने 15 दिन के अंदर खाली कराने का आदेश दिया है। टावर को खाली करवाने के लिए जिला नगर योजनाकार प्रवर्तन (डीटीपी) प्रवर्तन को नोडल अधिकारी और ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त किया है। 

जिला उपायुक्त एवं जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अध्यक्ष निशांत कुमार यादव ने दिल्ली आईआईटी द्वारा जारी संरचनात्मक ऑडिट रिपोर्ट के आधार पर जी टावर को रहने के लिए असुरक्षित घोषित किया था। उन्होंने दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा-144 के साथ आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 34 में निहित शक्तियों का प्रयोग करते टावर खाली करवाने के आदेश दिए हैं।

आदेशों का उल्लंघन करने वाले के खिलाफ आईपीसी की धारा 188 व आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 की धारा 51 से 60 के तहत कानूनी कार्रवाई की जाएगी। इस समय 14 मंजिला के जी टावर में 56 फ्लैट हैं। इससे मौजूदा समय में रहने वाले 35 परिवारों के लिए परेशानी बढ़ गई है। लोगों का कहना है कि खाली करने के आदेश से उनके रहने की दिक्कत हो जाएगी।

जिला प्रशासन ने बिल्डर से दो दिन में जवाब मांगा

टावर ई और एफ के फ्लैट मालिकों ने बिल्डर के दो विकल्प प्रस्ताव नामंजूर कर संशोधित समझौता पत्र जिला प्रशासन को भेजा है। जिला प्रशासन ने इसे बिल्डर को सौंपते हुए दो दिन में जवाब मांगा है। दोनों टावर के लोगों ने 12 सूत्रीय संशोधन पत्र प्रशासन को सौंपा है। इसमें कहा है कि बिल्डर के पेश किए गए पत्र में पेज नंबर-2 पर लिखे शब्द आवंटी की जगह मालिक किया जाए। साथ ही डिफॉल्ट क्लॉज को भी जोड़ा जाए। इसमें प्रावधान हो कि दूसरी पार्टी द्वारा भुगतान करने में कोई भी चूक होने पर समझौता रद्द हो जाएगा और किया गया भुगतान पहली पार्टी के पक्ष में जब्त हो जाएगा। दूसरे पक्ष का इस पर कोई दावा नहीं होगा।

वैकल्पिक व्यवस्था किए बिना निर्णय गलत

जी टावर मनोज सिंह ने कहा कि वैकल्पिक व्यवस्था किए बिना फ्लैट खाली करने का आदेश गलत है। पिछले एक साल में जिला प्रशासन से कई बार वैकल्पिक फ्लैट की व्यवस्था करने की गुहार लगाई गई, लेकिन कोई व्यवस्था नहीं की। बिना वैकल्पिक फ्लैट की व्यवस्था किए बिना इस तरह का आदेश देना कानून का उल्लंघन है। पूरा मामला उच्चतम न्यायालय में भी विचाराधीन है।

सोसाइटी के चार टावर असुरक्षित घोषित हो चुके

चिंटल सोसाइटी में कुल नौ टावर हैं। इसमें पांच टावर की ऑडिट रिपोर्ट आ चुकी है। इसमें टावर डी, ई, एफ, जी और ए शामिल है। टावर डी, ई, एफ को पहले ही असुरक्षित घोषित किया जा चुका है। टावर जी को दो जून को ऑडिट रिपोर्ट पर असुरक्षित घोषित किया गया था। 14 मंजिला जी टावर में फिलहाल 35 परिवार रह रहे हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें