ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRGurugram : मानेसर से हजारों किसान आज करेंगे दिल्ली कूच, गुरुग्राम बॉर्डर बना छावनी, चप्पे-चप्पे पर पुलिस

Gurugram : मानेसर से हजारों किसान आज करेंगे दिल्ली कूच, गुरुग्राम बॉर्डर बना छावनी, चप्पे-चप्पे पर पुलिस

किसानों के दिल्ली कूच को देखते हुए जिला प्रशासन और गुरुग्राम पुलिस ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। संभावना है कि दिल्ली कूच के लिए हजारों की संख्या में किसान शामिल होंगे।

Gurugram : मानेसर से हजारों किसान आज करेंगे दिल्ली कूच, गुरुग्राम बॉर्डर बना छावनी, चप्पे-चप्पे पर पुलिस
Praveen Sharmaगुरुग्राम। हिन्दुस्तानTue, 20 Feb 2024 09:45 AM
ऐप पर पढ़ें

गुरुग्राम की मानेसर तहसील के सामाने धरने पर बैठे किसानों ने मंगलवार को धरनास्थल से दिल्ली कूच करने का ऐलान किया है। जमीन बचाओ-किसान बचाव संघर्ष समिति का कहना है कि 1810 एकड़ जमीन अधिग्रहण के मामले में सरकार और प्रशासन का रवैया ठीक नहीं है। मुआवजा बढ़ाने समेत उनकी मांगें नहीं मानी गई हैं।

समिति का कहना है कि पिछले साल सात जुलाई 2023 को हरियाणा सरकार ने किसानों के लिए नौ लिटिगेशन पॉलिसी की घोषणा की थी, लेकिन उसे अमली जामा पहनाने की रफ्तार बहुत ही धीमी है। इससे दुखी होकर किसानों ने दिल्ली जाने का फैसला किया है। किसानों के दिल्ली कूच को देखते हुए जिला प्रशासन और गुरुग्राम पुलिस ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। संभावना है कि दिल्ली कूच के लिए हजारों की संख्या में किसान शामिल होंगे।

दिल्ली पुलिस के बड़े अफसर बॉर्डरों पर डटे, 50 स्थानों पर सुरक्षा के ऐसे तगड़े इंतजाम

11 बजे दिल्ली के लिए रवाना होंगे : जमीन बचाओ-किसान बचाव संघर्ष कमेटी ने किसानों से लेकर नारी शक्ति, नौजवानों से आग्रह किया है कि धरना स्थल पर होने वाले कूच में शामिल होकर अपनी एकता का परिचय दें। यहां पर किसान मंगलवार को सुबह 11 बजे दिल्ली के लिए रवाना होंगे। दिल्ली में सरकार को जगाने के लिए किसान फिर से धरना प्रदर्शन के लिए तैयार हैं। इस बार सरकार, प्रशासन की बात किसान नहीं मानेंगे। सरकार ने पीछे कई बार आश्वासन देकर मांगों को पूरा नहीं किया।

सरकार ध्यान नहीं दे रही

धरना प्रदर्शन के संयोजक सतदेव सरपंच कासन ने कहा कि हम चंडीगढ़ और गुरुग्राम के चक्कर काटकर थक गए हैं, लेकिन सरकार उनकी समस्या पर ध्यान नहीं दे रही है। जल्दी ही चुनाव होने वाले हैं। आचार संहिता लग जाएगी, शायद सरकार की मंशा भी यही है कि किसानों को कुछ नहीं देना है। सारी कार्रवाई किसानों की सहमति के अनुसार नहीं होगी वे उस जमीन पर किसी को पैर नहीं रखने देंगे।

लड़ाई लड़ेगा किसान

किसान नेता मोतीलाल ने कहा कि सरकार की नीयत और नीति ठीक नहीं है। किसान जागरूक होकर अपनी लड़ाई लड़ेगा। एक तरफ गुरुग्राम मैराथन करवाई जा रही है, उसकी क्या जरूरत है। किसान 25 फरवरी को होने वाली मैराथन का भी बहिष्कार करेंगे। यह सिर्फ सरकारी पैसे का दुरुपयोग है।

-दीपक कुमार जेवरिया, डीसीपी मानेसर, ''मानेसर में पर्याप्त संख्या में पुलिस फोर्स को तैनात कर दिया गया है। किसानों को समझाया जाएगा और उनको दिल्ली की तरफ नहीं जाने दिया जाएगा।''

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें