DA Image
18 अक्तूबर, 2020|7:26|IST

अगली स्टोरी

रामलीला मंचन के बाद कलाकारों को घर में काटना पड़ रहा 14 दिन वनवास


जैकबपुरा में चल रही रामलीला में पांच से दस ऐसे कलाकार हैं जो रात में रामलीला का मंचन करते हैं। घर जाने के बाद उन्हें अलग कमरे में रहना पड़ रहा है। इस कमरे में वह अकेले रहते हैं। उन्हें दूर से ही खाना दिया जा रहा है, उनके पास भी कोई नहीं आता। यहां तक कि घर के छोटे बच्चों से भी नहीं मिलने दिया जा रहा। यह सब कोविड-19 से सुरक्षा के लिए किया जा रहा है। इसीलिए रामलीला मंचन के कलाकारों को अपने ही घर में 14 दिन तक वनवास काटना पड़ रहा है। वैसे इस रामलीला में प्रतिदिन से 50 से 60 कलाकार अभिनय कर रहे हैं।

भरत की भूमिका निभाते हैं कुणाल


कुणाल रामलीला में भरत की भूमिका निभा रहे हैं। हालांकि इनकी उम्र अभी सिर्फ़ 15 साल की है, लेकिन ये भी अपने माता-पिता व बहन की कोरोना से सुरक्षा के लिए उनसे उचित दूरी बनाए रखते हैं। उन्होंने बताया कि चार दिनों से राम की सेवा कर रहे हैं। यहां पर अन्य कलाकारों के साथ होने से घर पर दूरी बनानी पड़ रही है, लेकिन उन्हें इससे कोई फर्क नहीं पड़ता। उन्होंने बताया कि ईश्वर के प्रति आस्था के साथ वह अपना काम कर रहे हैं। अगर वह नहीं करेंगे तो किसी को यह करना होगा। 
 
पोते-पोतियों दूर रहते हैं गुरु
नरेश सैनी रामलीला के एक वरिष्ठ कलाकार हैं। वह अधिकतर मुख्य अभिनय में गुरु का किरदार निभाते हैं। उनके घर पर उनके छोटे-छोटे पोता-पोती हैं। उन्होंने बताया कि छोटे बच्चों से बात तो रोज होती है, लेकिन मंचन के बाद घर पहुंचने पर वह अभी उन्हें अपने पास नहीं बुला पा रहे हैं। इसका दुख भी है, लेकिन अंदर के कलाकार को जीवित रखने के लिए वह अपना धर्म निभा रहे हैं। उन्होंने बताया कि रामलीला में अभिनय करते हुए लंबा समय हो गया है, लेकिन ऐसा कभी नहीं हुआ कि अपनों से ही भी दूर बनाकर रखनी पड़ी हो। इसीलिए कहीं कोई बच्चा पास न आ जाए, बच्चों के उठने से पहले सफाई कर नहा लेता हूं। हालांकि 14 दिन तक चलनी वाली रामलीला में वनवास की तरह रहना पड़ रहा है।

मैं तो बस वनवास में हूं


सुरेश सहरावत भी रामलीला में परशुराम व मारीच के साथ कई किरादार निभा रहे हैं। उन्होंने बताया कि रात में अभिनय के दौरान साथी कलाकारों के बाद संपर्क में आ जाता हूं, भले तैयार होने वाले कमरे में कोविड को लेकर सभी व्यवस्थाएं हैं, लेकिन फिर भी मन में एक डर सा रहता है। ऐसे में खुद को और परिवार के लोगों को सुरक्षित रखने के लिए सबसे दूरी बनाकर रखी है। उन्होंने बताया कि अब रात में नहाने का मौसम नहीं है। इसीलिए सुबह गर्म पानी से नहाता हूं। फिर सुरक्षा के चलते मैं वनवास में ही रहना उचित समझता हूं। 

ड्रॉइंग रूम में सोते हैं रामलीला के सुमंत


रामलीला में सुमंत का किरदार निभाने वाले केशव जलिंदरा ने बताया कि अपने अभिनय के साथ मंच दृश्य के संभालने की जिम्मेदारी उन्हीं के पास है। जिससे आमजन व कलाकारों कके संपर्क में आना पड़ जाता है। वहीं अपने परिवार के कामों की जिम्मेदारी भी केशव के पास ही है। इसीलिए उन्होंने बताया कि वह अपने बेडरूम न जाकर रामलीला मंचन के 14 दिनों तक ड्रॉइंग रूम में रह रहे हैं, जिससे परिवार का कोई दूसरा सदस्य उनके संपर्क में न आए। उन्होंने बताया कि बच्चों से उचित दूरी बनाकर रहना पड़ रहा है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:gurugram-ram-leela-2020-actres-in-home-isolation