ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRकब होगी कृत्रिम बारिश और ऑड-ईवन कब से लागू, गोपाल राय ने बता दिया

कब होगी कृत्रिम बारिश और ऑड-ईवन कब से लागू, गोपाल राय ने बता दिया

मंत्री गोपाल राय ने आगे कहा, 'छठ पूजा को लेकर दिल्ली में कई जगहों पर तैयारी की जा रही है। 1000 से ज्यादा जगहों पर छठ पूजा आयोजित की जाएगी। इसे देखते हुए विभिन्न टीमों ने अपना काम शुरू कर दिया है।

कब होगी कृत्रिम बारिश और ऑड-ईवन कब से लागू, गोपाल राय ने बता दिया
Nishant Nandanएएनआई,नई दिल्लीWed, 15 Nov 2023 12:50 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के आसमान में छाई जहरीली धुंध की चादर बुधवार को घनी हो गई और मौसम की प्रतिकूल परिस्थितियों के बीच हवा की गुणवत्ता एक बार फिर ''गंभीर'' श्रेणी में करीब पहुंच गई। अब दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने साफ किया है कि आखिर दिल्ली में कब कृत्रिम बारिश या ऑड-ईवन लागू किया जाएगा। गोपाल राय ने कहा कि अगर दिल्ली की हवा गंभीर प्लस (Severe Plus) की श्रेणी में चली गई तब सरकार कृत्रिम बारिश कराने और ऑड-ईवेन को लागू करने पर विचार करेगी। गोपाल राय ने कहा कि अगले दो-तीन दिनों तक स्थिति पर नजर रखने के बाद इसपर फैसला लिया जाएगा। 

गोपाल राय ने कहा, 'दो-तीन दिनों तक हालात को देखने के बाद हम कृत्रिम बारिश और ऑड-ईवन को लागू करने पर विचार करेंगे। अगर पलूशन Severe Plus की श्रेणी में रहता है तो इससे लड़ने के लिए नियम लागू किए जाएंगे। गोपाल राय ने आगे कहा, 'छठ पूजा को लेकर दिल्ली में कई जगहों पर तैयारी की जा रही है। 1000 से ज्यादा जगहों पर छठ पूजा आयोजित की जाएगी। इसे देखते हुए विभिन्न टीमों ने अपना काम शुरू कर दिया है।

दिल्ली में प्रदूषण का कहर जारी है। Control Board (CPCB)ने बातया है कि आरके पुरम में सुबह 7 बजे AQI 420 दर्ज किया गया। इसी तरह न्यू मोती बाग में 408, आईजीआई एयरपोर्ट पर 404, नेहरू नगर में 433 दर्ज किया गया है। इन सभी जगहों की हवा घातक श्रेणी में है।

 दिल्ली में बुधवार को सुबह आठ बजे समग्र वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) 392 दर्ज किया गया। शहर में हर रोज शाम को चार बजे रिकॉर्ड किया जाने वाला 24 घंटे का औसत एक्यूआई मंगलवार को 397, सोमवार को 358 और रविवार को 218 था। वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (सीएक्यूएम) के एक अधिकारी ने कहा कि केंद्र सरकार की वायु प्रदूषण नियंत्रण योजना का अंतिम चरण, जिसे क्रमिक प्रतिक्रिया कार्य योजना (जीआरएपी) कहते हैं, अगले आदेश तक जारी रहेगा। इसके तहत राष्ट्रीय राजधानी में निर्माण कार्य और प्रदूषण फैलाने वाले ट्रकों के प्रवेश पर प्रतिबंध सहित कड़े कदम उठाए गए हैं। 

अधिकारी ने कहा, ''पराली जलाने की घटनाएं फिर से बढ़ रही हैं और मौसम संबंधी परिस्थितियां (प्रदूषकों के बिखराव के लिए) अनुकूल नहीं हैं। हम स्थिति की समीक्षा करेंगे और उसके अनुसार कार्रवाई करेंगे।'' 
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें