ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRएक महीने पहले गोकुलपुरी मेट्रो स्टेशन का हुआ था इंस्पेक्शन, तब नहीं मिली थी कोई खामी

एक महीने पहले गोकुलपुरी मेट्रो स्टेशन का हुआ था इंस्पेक्शन, तब नहीं मिली थी कोई खामी

दिल्ली के गोकुलपुरी मेट्रो स्टेशन पर गुरुवार को बड़ा हादसा हो गया। इसमें क व्यक्ति की मौत जबकि चार घायल हो गए थे। एक महीने पहले ही स्टेशन का इंस्पेक्शन हुआ था तब कोई खामी नहां मिली थी।

एक महीने पहले गोकुलपुरी मेट्रो स्टेशन का हुआ था इंस्पेक्शन, तब नहीं मिली थी कोई खामी
Sneha Baluniलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 09 Feb 2024 01:17 PM
ऐप पर पढ़ें

गोकुलपुरी मेट्रो स्टेशन पर हुए हादसे को लेकर कई तरह के सवाल उठा रहे हैं। सवाल इसलिए भी जायज हैं क्योंकि एक महीने पहले ही स्टेशन का इंस्पेक्शन किया गया था। उस समय किसी तरह की कोई दिक्कत सामने नहीं आई थी। वहीं हादसे में 53 साल के एक व्यक्ति की मौत हो गई। जबकि चार लोग घायल हैं। मेट्रो के हर स्टेशन के रखरखाव की निगरानी, ​​दो महीने में एक बार रेग्युलर इंस्पेक्शन (निरीक्षण) और डेली विजुअल एसेसमेंट होता है। गोकुलपुरी मेट्रो स्टेशन पर दीवार का जो हिस्सा ढहा, वह इन सभी जांचों से बच गया था।

एक सूत्र ने बताया कि हर स्टेशन में संचालन और रखरखाव की निगरानी के लिए डेडिकेटिड स्टाफ हैं, जिसमें सिविल इंफ्रास्ट्रक्चर का रखरखाव भी शामिल है। दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन ( मेटडीएमआरसी) ने घटना के बाद सिविल विभाग के दो सदस्यों - एक प्रबंधक और एक जूनियर इंजीनियर को निलंबित कर दिया और जांच के आदेश दिए हैं। गोकुलपुरी स्टेशन डीएमआरसी नेटवर्क की पिंक लाइन पर आता है, जो 57 किलोमीटर से अधिक लंबी है। यह शहर का सबसे लंबा रेल नेटवर्क है जो आजादपुर के पास मजलिस पार्क और पूर्वोत्तर दिल्ली में शिव विहार के बीच 38 स्टेशनों से गुजरता है।

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार, 'संचालन और रखरखाव के लिए एक सिविल मेंटेनेंस विभाग है जिसका नेतृत्व एक कार्यकारी निदेशक स्तर के अधिकारी करते हैं। अधिकारियों को हर स्टेशन और अन्य सिविल स्ट्रक्चर के लिए प्रतिनियुक्त किया जाता है। सिविल स्ट्रक्चर की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए नियमित रूप से निरीक्षण किया जाता है।' डीएमआरसी ने कहा कि स्टेशन को 2018 में यात्रियों के लिए खोला गया था और इससे औसत रोजाना लगभग 15,000 यात्री सफर करते हैं।

एक अधिकारी ने कहा, घटना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। संरचना में किसी भी तरह की खराबी के बारे में कोई रिपोर्ट नहीं दी गई।' इसी बीच शुक्रवार से डीएमआरसी अधिकारियों को पूरे नेटवर्क में 'सुरक्षा जांच' करने का आदेश दिया गया है। वहीं दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने घटना की जांच के लिए एक समिति के गठन का भी आदेश दिया है। हादसे के बाद कुछ मिनट 11.12 बजे से 11.23 बजे के बीच लाइन पर परिचालन रोक दिया गया था। दोपहर 2.53 बजे से प्रभावित क्षेत्र पर बैरिकेडिंग करने के बाद सामान्य सेवाएं बहाल कर दी गईं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें