ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRगाजियाबाद में गोतस्करों पर बड़े एक्शन की तैयारी तेज, पुलिस ने बनाई 561 लोगों की लिस्ट

गाजियाबाद में गोतस्करों पर बड़े एक्शन की तैयारी तेज, पुलिस ने बनाई 561 लोगों की लिस्ट

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, तस्करों के गृह जनपद की पुलिस अब उनकी निगरानी करेगी। अगर वह प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी या कटान के धंधे में शामिल मिले तो पुलिस उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

गाजियाबाद में गोतस्करों पर बड़े एक्शन की तैयारी तेज, पुलिस ने बनाई 561 लोगों की लिस्ट
Praveen Sharmaगाजियाबाद। योगेंद्र सागरSun, 29 Oct 2023 06:25 AM
ऐप पर पढ़ें

गाजियाबाद में शरीफ बनकर अन्य जिलों और प्रदेशों में गोतस्करी और कटान करने वालों पर अब शिकंजा कसा जाएगा। पुलिस मुख्यालय से जारी सूची में गाजियाबाद के साढ़े पांच सौ अधिक लोग चिह्नित किए गए हैं। पुलिस के मुताबिक, आरोपी जहां के रहने वाले हैं, वहीं की पुलिस इन गोतस्करों पर कार्रवाई करेगी। गाजियाबाद में तस्करों की गतिविधियां जांचने के लिए टीमें गठित कर दी गई हैं। अधिकारियों ने बताया कि प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी और कटान की घटना के बाद अक्सर कानून-व्यवस्था प्रभावित होने की स्थिति पैदा हो जाती है, इसीलिए पशु तस्करों के खिलाफ सख्ती बरती जाती है, लेकिन कुछ तस्कर ऐसे होते हैं जो अपने जिले में शरीफ बनकर रहते हैं और अन्य जिलों और प्रदेशों में प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी और कटान की घटनाओं को अंजाम देते हैं। पुलिस मुख्यालय ने ऐसे तस्करों पर शिकंजा कसने के निर्देश दिए हैं।

अधिकारियों के मुताबिक, पुलिस मुख्यालय ने ऐसे 15 हजार से अधिक लोगों की सूची जारी की है, जो अपने जिले को छोड़ककर अन्य जिलों या प्रदेशों में पशु तस्करी या कटान की घटनाओं को अंजाम देते हैं। इस सूची में गाजियाबाद के साढ़े पांच सौ तस्कर चिह्नित हुए हैं।

बाहरी प्रदेशों में रहने वाले लोगों की सूची भी बनाई : पुलिस मुख्यालय से जारी की गई सूची में ऐसे लोगों को भी चिन्हित किया गया है, जो रहने वाले तो अन्य प्रदेशों के हैं, लेकिन उन्होंने प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी या कटान उत्तर प्रदेश में किया। अन्य प्रदेशों के ऐसे 58 लोग चिन्हित किए गए हैं, जो गाजियाबाद में प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी और कटान की घटना में शामिल रहे। इनके खिलाफ कार्रवाई के लिए संबंधित प्रदेशों की पुलिस से पत्राचार किया जाएगा।

अपने जिले में बेनकाब होंगे तस्कर : पुलिस अधिकारियों के मुताबिक अन्य जिलों या प्रदेशों में प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी या कटान करने वाले तस्कर जेल से छूटने के बाद फिर से अपने धंधे में लग जाते हैं। इसकी वजह यह है कि बाहरी जिले या प्रदेश की पुलिस तस्करों की निगरानी नहीं कर पाती। कोई आपराधिक इतिहास न होने के कारण तस्करों के गृह जनपदों की पुलिस की नजर से वह बचे रह जाते हैं। इसी वजह से पुलिस मुख्यालय ने तस्करों की सूची उनके गृह जनपदों की पुलिस के पास भेजी है, ताकि उनकी निगरानी और कार्रवाई हो सके।

गुंडा और गैंगस्टर एक्ट लगेगा : पुलिस सूत्रों के मुताबिक, तस्करों के गृह जनपद की पुलिस अब उनकी निगरानी करेगी। अगर वह प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी या कटान के धंधे में शामिल मिले तो पुलिस उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। इसके तहत गुंडा एक्ट लगाकर तस्करों को जिला बदर किया जाएगा। गिरोह बनाकर घटनाएं करने वालों पर गैंगस्टर एक्ट लगाकर उनकी संपत्ति कुर्क की जाएगी। तस्करी में लिप्त आरोपियों की लगातार निगरानी करने के लिए उनकी हिस्ट्रीशीट भी खोली जाएंगीं।

पहले भी पकड़े जा चुके 495 लोग

पुलिस मुख्यालय द्वारा जारी की गई सूची के मुताबिक, गाजियाबाद जिले के 495 लोग चिन्हित किए गए हैं जो गाजियाबाद के अलावा अन्य जिलों में प्रतिबंधित पशुओं के कटान और तस्करी करते पकड़े गए। 66 ऐसे लोग चिह्नित किए गए हैं, जो अन्य प्रदेशों में प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी या कटान के आरोप में गिरफ्तार हुए। पुलिस मुख्यालय ने ऐसे लोगों की गतिविधियों पर नजर रखकर कार्रवाई की जाएगी।

सख्त कार्रवाई की जाएगी : पुलिस आयुक्त

पुलिस आयुक्त अजय कुमार मिश्र का कहना है कि पुलिस मुख्यालय ने अपने जिले और प्रदेश से बाहर गोतस्करी और कटान करने वालों की सूची जारी की है। इनमें साढ़े पांच सौ से अधिक लोग गाजियाबाद के हैं, जो अपने जिले से बाहर तस्करी या कटान करते हैं। तस्करों की निगरानी के लिए थाना स्तर पर टीमें गठित करने के निर्देश दिए गए हैं। तस्करी या कटान में लिप्त आरोपियों के खिलाफ निरोधात्मक कार्रवाई की जाएगी।

ग्रामीण जोन में सर्वाधिक 360 गोतस्कर

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि उत्तर प्रदेश पुलिस मुख्यालय से प्राप्त सूची में 495 तस्कर गाजियाबाद के चिह्नित हुए थे। यह वह तस्कर हैं जो अपने जिले से बाहर प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी और कटान में लिप्त पाए गए। इनमें 393 तस्करों का पता तस्दीक नहीं हो रहा था। जोन स्तर पर टीमें गठित कर सत्यापन कराया गया तो सर्वाधिक तस्कर ग्रामीण जोन के चिह्नित हुए। गाजियाबाद पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक सर्वाधिक 360 तस्कर ग्रामीण जोन के हैं। जबकि सिटी जोन के 67 और ट्रांस हिंडन जोन के 56 तस्कर हैं। 12 तस्कर अभी भी बाकी है जिनका गाजियाबाद में पता तस्दीक नहीं हो सका है।

सात पर गैंगस्टर एक्ट लगाया

प्रतिबंधित पशुओं की तस्करी और कटान करने वाले छह तस्करों पर मधुबन बापूधाम पुलिस ने गैंगस्टर लगाया है। एसएचओ सत्यवीर सिंह की तरफ से दर्ज कराए गैंगस्टर के मुकदमे में मसूरी थानाक्षेत्र के गांव नाहल निवासी जीशान, जावेद, दानिश, आदिल उर्फ पीतल, नदीम, फिरोज उर्फ सांप तथा हापुड़ के गांव पिपलैड़ा निवासी बिलाल को नामजद किया है। इन आरोपियों ने बीते दिनों प्रतिबंधित पशुओं के कटान की सिलसिलेवार वारदात की थीं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें