ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRगाजियाबाद में 6 साल की मासूम के लिए 'मामा' बना हैवान, अश्लीलता के बाद ले ली जान; चप्पलों से खोला हत्या का राज

गाजियाबाद में 6 साल की मासूम के लिए 'मामा' बना हैवान, अश्लीलता के बाद ले ली जान; चप्पलों से खोला हत्या का राज

परिजनों ने बच्ची के साथ दुष्कर्म का अंदेशा जताया है। हालांकि, पुलिस का कहना है कि बच्ची के कपड़े सही सलामत मिले हैं। वहीं, डॉक्टरों ने भी प्रारंभिक जांच में रेप न होने का अनुमान लगाया है।

गाजियाबाद में 6 साल की मासूम के लिए 'मामा' बना हैवान, अश्लीलता के बाद ले ली जान; चप्पलों से खोला हत्या का राज
Praveen Sharmaगाजियाबाद। हिन्दुस्तानSun, 08 Oct 2023 09:11 AM
ऐप पर पढ़ें

गाजियाबाद के कैला भट्ठा इलाके में मासूम भांजी से अश्लीलता के बाद रिश्ते के मामा ने उसकी मुंह दबाकर हत्या कर दी। आरोपी ने बच्ची को बहाने से अपने घर बुलाया था। इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

शालीमार गार्डन में रहने वाली छह वर्षीय बच्ची करीब 15 दिन पहले नगर कोतवाली के कैला भट्ठा में अपने ननिहाल आई थी। मामा के घर के पास रहने वाला 30 वर्षीय इमरान भी रिश्ते में बच्ची का मामा लगता है। शुक्रवार रात करीब साढ़े नौ बजे इमरान ने दुकान से बीड़ी मंगाने के लिए बच्ची को अपने घर पर बुलाया। बच्ची जैसे ही बीड़ी लेकर आई तो इमरान उसे मिठाई खिलाने के बहाने अपने कमरे में ले गया। इस दौरान इमरान ने बच्ची के साथ अश्लील हरकत करनी शुरू कर दी। बच्ची ने जब अपने सगे मामा से उसकी शिकायत करने की बात कही तो इमरान घबरा गया। पोल खुलने के डर से उसने पहले गला दबाया और फिर मुंह भींचकर बच्ची को मौत के घाट उतार दिया। इसके बाद इमरान ने शव को उसी के मामा की छत पर बने मुर्गियों के बाड़े में फेंक दिया।

शव घर की छत पर मिला : बच्ची के आधा घंटे तक दिखाई न देने पर मामा और अन्य परिजनों ने रात 10 बजे उसकी तलाश शुरू की, लेकिन उसका कोई सुराग नहीं मिला। रात करीब 1 बजे परिजनों ने पुलिस बुला ली। पुलिस ने खोजबीन की तो शव घर की छत पर मिला। परिजन पहले इस जगह तलाश चुके थे, लेकिन बाद में वहीं शव मिलने से पुलिस का माथा ठनक गया। बच्ची को पास के अस्पताल ले जाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

रात होते ही शराब पी लेता था आरोपी : बच्ची के मामा ने बताया कि इमरान उनका खानदानी भाई है और मीट बेचने का काम करता है। इमरान की पत्नी करीब नौ महीने से अलग रह रही है। इमरान अपने मकान में अकेला रहता है और रात होते ही शराब पी लेता था। शुक्रवार को भी उसने शराब पी रखी थी।

हेलमेट में छिपी चप्पलों ने राज खोला

पुलिस के मुताबिक, हत्या के बाद इमरान ने शव को कुछ देर कमरे में रखा और फिर मुर्गीबाड़े में फेंककर सो गया। रात करीब डेढ़ बजे इमरान से पूछताछ की तो घटना से अनभिज्ञता जताते हुए कहा कि वह रात 10 बजे ही सो गया था, लेकिन शव इमरान के मकान से सटे घर की छत पर मिला तो पुलिस ने उसके कमरे की तलाशी ली। इस दौरान कमरे से बच्ची की चप्पलें बरामद हो गईं, जो इमरान ने हेलमेट में छिपाकर रखी हुई थीं। सख्ती से पूछताछ करने पर इमरान ने जुर्म कबूल कर लिया।

दुष्कर्म का भी अंदेशा

परिजनों ने अंदेशा जताया है कि इमरान ने बच्ची के साथ दुष्कर्म भी किया है। हालांकि, पुलिस का कहना है कि बच्ची के कपड़े सही सलामत मिले हैं। इसके अलावा डॉक्टरों ने भी प्रारंभिक जांच में दुष्कर्म न होने का अनुमान लगाया है। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से ही मौत का कारण और दुष्कर्म की पुष्टि हो सकेगी।

बिलखते रहे परिजन

ननिहाल के लोगों का कहना है कि बच्ची बेहद मासूम थी। कोई भी व्यक्ति उससे कोई सामान मंगाता था तो वह कभी मना नहीं करती थी। उसे अपनी चप्पलों से भी बहुत लगाव था। वह बिना चप्पलों के कहीं नहीं जाती थी। शुक्रवार रात इमरान ने सामान मंगाने के बहाने से ही बच्ची को बुलाया था, लेकिन चप्पलों ने आरोपी की पोल खोल दी। परिजनों ने बिलखते हुए कहा कि बच्ची को उसकी मासूमियत की सजा मिली है।

जल्द सजा दिलाएंगे : पुलिस कमिश्नर

गाजियाबाद पुलिस ने 6 साल की मासूम की हत्या करने वाले रिश्ते के मामा को पुलिस ने कठोरतम सजा दिलाने की बात कही है। पुलिस कमिश्नर अजय कुमार मिश्र का कहना है कि हत्यारोपी को तीन महीने में फांसी की सजा दिलाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। पुलिस कमिश्नर ने बताया कि अश्लीलता के बाद बच्ची की हत्या जघन्यतम अपराध की श्रेणी में आता है। आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद सबसे पहले फील्ड यूनिट ने साक्ष्य एकत्र किए। इसके बाद गले पर खरोंच के निशान मिले हैं। उनके मिलान के लिए डीएनए टेस्ट कराने को नाखून की सैंपलिंग कराई गई है। बच्ची के कपड़े और आरोपी के कमरे में मिले बालों को भी टेस्ट के लिए भेजा है। तीन माह में ट्रायल कराने का लक्ष्य है। उन्होंने बताया कि भारत सरकार के इन्वेस्टीगेशन ट्रैकिंग सिस्टम फॉर सेक्सुअल ऑफेंसेज (इट्सो) पोर्टल के आंकड़ों के अनुसार, अप्रैल 2018 से दिसंबर 2022 के बीच महिला और बाल अपराध में अनुपालन दर 65.70 फीसदी थी, जो बढ़कर 96 फीसदी तक पहुंच गई है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें