ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली-एनसीआर में 500 रुपये किलो तक पहुंचे लहसुन के दाम, क्या वजहें?

दिल्ली-एनसीआर में 500 रुपये किलो तक पहुंचे लहसुन के दाम, क्या वजहें?

Garlic Price Hikes: दिल्ली एनसीआर की सब्जी मंडियों में लहसुन के दाम भी आसमान पर हैं। आवक कम होने के कारण फुटकर बाजार में 500 से 550 रुपये तक बिक रहा है। क्यों बढ़ीं कीमतें इस रिपोर्ट में जानें...

दिल्ली-एनसीआर में 500 रुपये किलो तक पहुंचे लहसुन के दाम, क्या वजहें?
Krishna Singhहिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 11 Feb 2024 02:21 PM
ऐप पर पढ़ें

प्याज, टमाटर और अदरक के बाद लहसुन के दाम भी आसमान पर हैं। आवक कम होने के कारण थोक मंडी में लहसुन की कीमत 200-300 रुपये प्रति किलोग्राम के आसपास है तो फुटकर बाजार में 500 से 550 रुपये तक बिक रहा है। सफल स्टोर पर शनिवार को लहसुन का भाव 459 रुपये प्रति किलोग्राम रहा। आजादपुर मंडी के आढ़ती कहते हैं कि आवक कम होने की वजह से कीमतों में तेजी आई है, क्योंकि बीते वर्ष लहसुन की फसल कम हुई थी, जिसके चलते स्टॉक सीमित मात्रा में ही है। अभी तक नई फसल सिर्फ मध्य प्रदेश से आ रही है।

जल्द राहत के आसार
आजादपुर मंडी के आढ़ती वरुण चौधरी कहते हैं कि अभी कुछ दिनों में राजस्थान और उत्तर प्रदेश से भी लहसुन की आवक शुरू होगी, जिसके बाद कीमतों में गिरावट देखने को मिलेगी। फिलहाल देशभर में मध्य प्रदेश और महाराष्ट्र के कुछ हिस्सों से लहसुन की आपूर्ति की जा रही है। जब तक नई फसल नहीं आती है, तब तक कीमतों में बड़ी गिरावट नहीं आएगी।

फरवरी के अंत तक नई फसल
सामान्य तौर पर फरवरी के अंत तक राजस्थान और महाराष्ट्र से लहसुन की फसल आनी शुरू हो जाती है। इसके बाद मार्च में होली के आसपास उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, पंजाब समेत उत्तर भारत के कई राज्यों से फसल की आवक आनी शुरू होती है। आढ़ती बताते हैं कि देश में औसतन एक से सवा लाख कट्टे की प्रतिदिन खपत होती है, तो उसके सापेक्ष मौजूदा समय में 60 से 70 हजार कट्टे ही उपलब्ध हो रहे हैं।

व्यंजनों में मात्रा घटी
दिल्ली होटल एसोसिएशन के सचिव सौरभ छाबड़ा का कहना है कि अदरक की कीमतों में बीते वर्ष तेजी आई थी, जो अभी तक जारी है। बाजार के अंदर फुटकर में अदरक अब भी 200 रुपये किलो तक बिक रहा है। अब लहसुन के दाम आसमान छू रहे हैं। 500 से 600 रुपये किलो लहसुन खरीदकर अगर किसी भी व्यंजन की रेसिपी तैयार करेंगे तो जाहिर है कि लागत खर्च बढ़ेगा।

अदरक से चला रहे काम
दिल्ली होटल एसोसिएशन के सचिव सौरभ छाबड़ा ने कहा- अभी तक होटल, रेस्टोरेंट अपनी रसोई में रेसिपी तैयार करने में अदरक की मात्रा कम करके काम चला रहे हैं, परंतु यह सिलसिला जारी रहता है तो व्यंजनों की कीमतों में भी लोगों को इजाफा देखने पड़ेगा, जिसका असर होटल, रेस्टोरेंट से लेकर स्ट्रीट फूड तक दिखाई देगा।

राजधानी में सब्जियों का भाव (प्रति किलोग्राम)
सब्जी मंडी सफल स्टोर फुटकर
बैंगन 20-25 49 50-55
फूल गोभी 12-15 20 25-40
बंद गोभी 15-20 30 35- 45
लौकी 20-25 39 40-50
बीन्स 35-40 79 80-100
टमाटर 20-25 50 50-60
प्याज 12-15 26 30-35

गाजियाबाद का हाल
गाजियाबाद में लहसुन का थोक भाव शनिवार को 280-300 रुपये तक पहुंचा और खुदरा बाजार में 500 रुपये प्रति किलोग्राम तक बिका। ठेली पर घर-घर जाने वाले सब्जी विक्रेताओं ने 150 रुपये का 250 ग्राम लहसुन बेचा। आलू प्याज वेलफेयर एसोसिएशन गाजियाबाद के अध्यक्ष श्रीपाल यादव का कहना है कि इस साल कम व्यापारियों ने लहसुन का स्टॉक किया था, जिस कारण लंबे समय से दाम 200 रुपये प्रति किलो थे। इसके अलावा खुदरा बाजार में शिमला मिर्च 50 से 70 रुपये किलो, गाजर-गोभी 20 से 30, टमाटर 30 से 40 रुपये किलो और लौकी 30 से 50 रुपये किलो हो गई है।

गुरुग्राम: आवक में भारी कमी
मिलेनियम सिटी गुरुग्राम में लहसुन की बढ़ती कीमत से आम लोगों के किचन का बजट बिगड़ गया है। इससे कई परिवारों ने लहसुन खरीदना ही छोड़ दिया है। दो माह पहले इसका रेट 200 से 280 रुपये प्रति किलो था। अब 450-500 रुपये किलो पर पहुंच गया है। खांडसा मंडी आढ़ती अरुण अग्रवाल ने कहा कि कि आवक में भारी कमी आने की वजह से कीमत में बढ़ोतरी हो रही है। वहीं, हरी मटर 50 से 60, अदरक 120 से 150, शिमला मिर्च 80 और भिंडी 100 रुपये प्रति किलोग्राम तक बिक रही हैं।

फरीदाबाद 500 रुपये प्रति किलो तक पहुंची कीमतें
स्मार्ट सिटी फरीदाबाद में लहसुन के दाम 500 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गए हैं। बढ़ती कीमत से लोग परेशान हैं। शहर की मंडियों में दिल्ली से लहसुन की आपूर्ति होती है। कम आवक होने की वजह से दाम बढ़ते जा रहे हैं। फ्रूट एंड वेजिटेबल कमीशन एजेंट एसोसिएशन, डबुआ मंडी के उपप्रधान राजकुमार पोसवाल ने बताया कि शहर की सबसे बड़ी डबुआ मंडी में लहसुन का कोई आढ़ती नहीं है। यहां के फुटकर विक्रेता ओखला और आजादपुर मंडी से लहसुन खरीदकर लाते हैं। सेक्टर-23 निवासी प्रवीण ने बताया कि 500 रुपये प्रतिकिलो तक महंगा होने की वजह से लहसुन की खरीदारी ही बंद कर दी है। शिमला मिर्च भी 160 रुपये प्रति किलो मिल रही है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें