DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गैंगस्टर कौशल के पास दुबई में हवाला से पहुंच रहा था रंगदारी का पैसा

gangster kaushal  file photo

गैंगस्टर कौशल के पास हवाला के जरिए रंगदारी का पैसा दुबई पहुंच रहा था। कारोबारियों से रुपये मिलने के बाद गुर्गों के हिस्से के बाद वह पैसे दिल्ली में हवाला ऑपरेटर के जरिये कौशल तक पहुंचते थे। हालांकि, दिल्ली में हवाला ऑपरेटर के संपर्क में रहने वाले उसके गुर्गों की गिरफ्तारी के बाद पैसे पहुंचने बंद हो गए थे। वह नए गुर्गों को अपनी जानकारी साझा नहीं करना चाहता था, इसीलिए वह कई महीनों से आर्थिक तंगी से जूझ रहा था। 

एसआईटी के एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि रंगदारी का रुपया मिलने के बाद 30 फीसदी गुर्गों में बंट जाता था। उसके बाद 15 से 20 फीसदी हिस्सा कौशल के परिजन को पहुंचाया जाता था। इसके बाद बाकी रकम हवाला के जरिए दुबई में उसके पास पहुंचाया जाता था। हालांकि, पुलिस के पास साल या महीने में कितने पैसे उस तक पहुंचता था, इसकी पुख्ता जानकारी नहीं है। लेकिन फरीदाबाद ,गुरुग्राम और रेवाड़ी पुलिस के पास इसकी जानकारी जरूर है कि रुपये उस तक पहुंच रहे हैं।

कई देशों से होकर पहुंचते हैं पैसे : पुलिस जांच में सामने आया कि कौशल के पास पैसे कई बार दिल्ली से थाईलैंड जाते थे। वहां से फिर दुबई पहुंचता था। इसके अलावा मलेशिया और सिंगापुर के जरिए भी रुपये उसके पास पहुंचाए जाते थे। महीने में दो से तीन बार रुपये मंगवाता था। उन पैसों को फ्लैट का किराया,जिम की फीस आदि में खर्च करता था।

सचिन पर कर रहा था विश्वास : क्लीन स्वीप अभियान में कौशल के सभी विश्वसनीय गुर्गे पकड़े जाने के बाद से कौशल को दिक्कत होनी शुरू हो गई थी। ऐसे में कारोबारियों से पैसे लेकर उस तक कौन पहुंचाए, यह उसके लिए बड़ी समस्या हो गई थी। ऐसे में फ्रेक्चर गैंग का सदस्य रहे सचिन पर कौशल ने विश्वास करना शुरू किया। उसको अपनी जानकारी बताई गई। रुपये पहुंचाने की जिम्मेदारी उसको सौंपी गई। फरीदाबाद पुलिस ने उसको गिरफ्तार किया। बाद में जानकारी पुलिस को सचिन से ही मिली। इधर शुक्रवार रात से कौशल को हिरासत में लेकर दुबई पुलिस पूछताछ कर रही है। अभी तक फरीदाबाद पुलिस के दो इंस्पेक्टरों को उससे मिलने नहीं दिया गया है। 

गैंगस्टर को भारत लाने की प्रक्रिया तेज हुई

फरीदाबाद (व.सं.) | गैंगस्टर कौशल को भारत लाने में जुटे पुलिस अधिकारी कानूनी विशेषज्ञों से सलाह लेकर कदम उठा रहे हैं। शनिवार व रविवार की छुट्टी होने के कारण अभी कौशल के प्रत्यार्पण के दस्तावेज पूरे नहीं हो सके। सोमवार को प्रक्रिया और भी तेज हो गई है। जिले के पुलिस अधिकारियों ने कौशल को भारत लाए जाने के बाद उससे पूछताछ को लेकर भी रणनीति तय कर ली है। 

एसआईटी से जुड़े पुलिस अधिकारियों का मानना है कि कौशल कभी भी भारत में पहुंच सकता है। प्रक्रिया कब पूरी होगी तथा वह कब तक भारत पहुंचेगा, इस बारे में अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगा। 

इनाम किसे मिले, बाद में तय होगा : कौशल पर पुलिस की ओर से 5 लाख रुपये का इनाम घोषित है। यह इनाम किसे मिलेगा, यह सब कौशल के भारत पहुंचने के बाद ही तय होगा। दरअसल, कौशल को पकड़ने जाने में अभी तक दिल्ली पुलिस, गुरुग्राम पुलिस व फरीदाबाद पुलिस की अहम भूमिका बताई गई है, लेकिन हो सकता है कि इस काम में किसी बाहरी लोगों की भी भूमिका रही हो। ऐसे में उच्चस्तरीय अधिकारियों की मौजूदगी में उन पुलिसकर्मियों के नाम तय किए जाएंगे, जिन्होंने दुबई में कौशल के छिपे होने का खुलासा करने में अहम भूमिका निभाई।

जिन्हें मिली धमकी, दी जा रही है कड़ी सुरक्षा : कौशल की ओर से पलवल व बल्लभगढ़ के जिस व्यापारी को धमकी मिली है। उनकी कड़ी सुरक्षा की जा रही है। फरीदाबाद पुलिस की ओर से कांग्रेस प्रवक्ता के भाई व कांग्रेसी नेता मनोज गोयल को 2-2सुरक्षाकर्मी मुहैया कराए हुए हैं। इसके अलावा पलवल में भी व्यापारी को दो सुरक्षाकर्मी दिए गए हैं।

गृहमंत्रालय और दूतावास के बीच चल रही है प्रक्रिया

पुलिस सूत्रों के मुताबिक, अपराध जांच शाखा सेक्टर-30 प्रभारी विमल कुमार, साइबर सेल प्रभारी संदीप मोर की टीम से दो इंस्पेक्टर की टीम ने दुबई में डेरा डाले हुए हैं। पुलिस टीम वहां दुबई पुलिस और इंटरपोल के अधिकारियों से बातचीत करने का प्रयास कर रही है। हालांकि अपराध से जुड़ा मामला होने के कारण गृहमंत्रालय की भी इसमें अहम भूमिका है। गृहमंत्रालय से दस्तावेज की प्रक्रिया पूरी होने के बाद विदेश मंत्रालय के जरिए कौशल को जल्द से जल्द भारत लाने की प्रक्रिया चल रही है।

गुरुग्राम का कुख्यात गैंगस्टर कौशल दुबई से गिरफ्तार, विकास चौधरी हत्याकांड में था शामिल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Gangster Kaushal was getting extortion money in dubai by hawala racket