ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRजी20 समिट से पहले लेफ्ट-हैंड ड्राइव ने बढ़ाई चिंता, निपटने को ट्रैफिक पुलिस का प्लान; क्या कहता है कानून

जी20 समिट से पहले लेफ्ट-हैंड ड्राइव ने बढ़ाई चिंता, निपटने को ट्रैफिक पुलिस का प्लान; क्या कहता है कानून

दिल्ली में अगले महीने जी-20 समिट होना है। इससे पहले ट्रैफिक पुलिस को एक अनोखी ने परेशान किया हुआ है। यह है लेफ्ट-हैंड ड्राइव (एलएचडी) वाहन। दरअसल, भारत में एलएचडी वाहनों को चलाना अवैध है।

जी20 समिट से पहले लेफ्ट-हैंड ड्राइव ने बढ़ाई चिंता, निपटने को ट्रैफिक पुलिस का प्लान; क्या कहता है कानून
Sneha Baluniहिन्दुस्तान टाइम्स,नई दिल्लीThu, 17 Aug 2023 09:38 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली में अगले महीने जी-20 समिट होना है। इससे पहले ट्रैफिक पुलिस को एक अनोखी ने परेशान किया हुआ है। यह है 100 लेफ्ट-हैंड ड्राइव (एलएचडी) वाहन। दरअसल, भारत में एलएचडी वाहनों को चलाना अवैध है क्योंकि इससे सार्वजनिक सुरक्षा के लिए खतरा पैदा हो सकता है। ऐसे में पुलिस का मानना ​​है कि राइट-हैंड ड्राइव (आरएचडी) वाली सड़कों पर एलएचडी वाहनों का परिचालन करना बड़ी चुनौती है। कुछ एलएचडी वाहनों को कुछ जी20 सदस्य देशों द्वारा लाया जाएगा। इसके अलावा नेताओं को लाने-ले जाने के लिए भारत का विदेश मंत्रालय भी कुछ वाहन लाया है।

विशेष पुलिस आयुक्त (यातायात) सुरेंद्र सिंह यादव ने कहा कि जी20 के गणमान्य व्यक्ति अपने संबंधित होटलों- दिल्ली में 25 और गुरुग्राम में तीन- से प्रगति मैदान में मुख्य स्थल, भारत मंडपम तक की यात्रा करेंगे। उनके राजघाट जाने की भी उम्मीद है। यादव ने कहा, 'वे सुरक्षा के साथ प्रोटोकॉल के तहत यात्रा करेंगे। इसलिए, उनके काफिले के गुजरने तक कुछ पॉइंट्स पर कुछ मिनटों के लिए यातायात प्रतिबंधित रहेगा। हालांकि, मुख्य आयोजन स्थल, राजघाट और उनके होटलों के आसपास यातायात पूरी तरह से बंद करने का निर्णय अभी विचाराधीन है। अंतिम रिहर्सल के बाद ही इसपर फैसला लिया जाएगा।'

जी20 देशों में केवल भारत, ऑस्ट्रेलिया, जापान, दक्षिण अफ्रीका और यूके ही आरएचडी वाहनों का उपयोग करते हैं, जबकि शेष एलएचडी वाहनों का उपयोग करते हैं। दिल्ली पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि कम से कम तीन देशों अमेरिका, रूस और चीन ने सुरक्षा एजेंसियों को सूचित किया है कि वे अपने जहाज से अपने एलएचडी वाहन भेजने को तरजीह देंगे। अधिकारी ने कहा, 'उनके वाहन जल्द ही भारत पहुंचेंगे। इसके अलावा, विदेश मंत्रालय (एमईए) ने जर्मनी से लगभग 50 एलएचडी बुलेट-प्रूफ ऑडी कारें खरीदी हैं जो एक या दो हफ्ते में भारत पहुंच जाएंगी।'

हालांकि केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) के ड्राइवरों को एलएचडी कारें चलाने के लिए प्रशिक्षित किया गया है। यातायात पुलिस अधिकारियों ने कहा कि वे मिक्सअप को रोकने के लिए स्थानीय कारों के लिए कुछ हिस्सों को बंद करने पर विचार कर रहे हैं। यादव ने कहा, 'सीएपीएफ के लगभग 50 पेशेवर ड्राइवरों को एलएचडी वाहन चलाने के लिए प्रशिक्षित किया गया है। इसलिए, उन्हें चलाने में कोई समस्या नहीं होगी। लेकिन एक ही सड़क पर एक साथ एलएचडी और आरएचडी कारों की आवाजाही निश्चित रूप से एक मसला है। हम इसे सुलझाने की कोशिश कर रहे हैं।'

एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि दिल्ली पुलिस ने शिखर सम्मेलन में भाग लेने वाले विदेशी गणमान्य व्यक्तियों को सुरक्षा प्रदान करने के लिए उच्च तकनीकी सुरक्षा उपकरणों से लैस लगभग 500 नए वाहन खरीदे हैं। अधिकारी ने कहा, 'लेकिन ये सभी आरएचडी वाहन हैं।' दिल्ली पुलिस के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि मोटर वाहन अधिनियम की धारा 120 में कहा गया है कि भारतीय सड़कों पर सभी वाहनों में कार के दाईं ओर स्टीयरिंग व्हील होता है। 'ऐसा इसलिए है क्योंकि भारत सड़क के बाईं ओर गाड़ी चलाता है। भारत में एलएचडी कारों के उपयोग की अनुमति नहीं है क्योंकि वे दृश्यता संबंधी समस्याएं पैदा कर सकते हैं और ड्राइवर के लिए अन्य वाहनों को सुरक्षित रूप से ओवरटेक करना मुश्किल बना सकते हैं। जिससे दुर्घटनाएं हो सकती हैं और सार्वजनिक सुरक्षा के लिए खतरा पैदा हो सकता है। इसलिए, भारतीय नियमों का पालन करने के लिए कारों, ट्रकों और बसों सहित भारत में सभी वाहनों का स्टीयरिंग व्हील दाहिनी ओर होना चाहिए।'

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें