ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRगुरुग्राम में बीमा एजेंट पर धोखाधड़ी की FIR, कहीं आपका एजेंट भी तो नहीं कर रहा यह चालाकी?

गुरुग्राम में बीमा एजेंट पर धोखाधड़ी की FIR, कहीं आपका एजेंट भी तो नहीं कर रहा यह चालाकी?

शिकायत के आधार पर गुप्ता के खिलाफ गुरुवार को सुशांत लोक पुलिस थाने में भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस का कहना है कि आरोपी को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।

गुरुग्राम में बीमा एजेंट पर धोखाधड़ी की FIR, कहीं आपका एजेंट भी तो नहीं कर रहा यह चालाकी?
Sourabh Jainभाषा,गुरुग्रामSat, 15 Jun 2024 12:15 AM
ऐप पर पढ़ें

पुलिस ने हरियाणा के गुरुग्राम में बीमा कंपनी में काम करने वाले एक व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज किया है, उस पर बीमा पॉलिसी की खरीद या नवीनीकरण के नाम पर अपने निजी बैंक खाते में पैसे जमा कराने तथा जाली बीमा पॉलिसी प्रमाणपत्र बनाकर ग्राहकों से धोखाधड़ी करने का आरोप है। अधिकारियों ने शुक्रवार को यह जानकारी दी।

पुलिस ने बताया कि आरोपी की पहचान लक्ष्य गुप्ता के रूप में हुई है, जो बीमा कंपनी में रिलेशनशिप मैनेजर के पद पर कार्यरत है। कंपनी की धोखाधड़ी नियंत्रण इकाई के प्रबंधक पुष्कर द्वारा दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार लक्ष्य ने जनवरी और फरवरी में 14 ग्राहकों से अपने बैंक खाते में कथित तौर पर 2.35 लाख रुपए जमा कराए थे।

पुष्कर ने अपनी शिकायत में कहा, 'लक्ष्य गुप्ता पिछले साल नवंबर से रिलेशनशिप मैनेजर के पद पर कंपनी में काम कर रहा है। ग्राहकों से प्राप्त शिकायतों के आधार पर कंपनी को पता चला कि आरोपी ने ग्राहकों को धोखा देकर उनसे बीमा की प्रीमियम राशि अपने बैंक खाते में जमा करा ली और ग्राहकों को उनकी पॉलिसी जारी करने या नवीनीकरण के लिए अपने मोबाइल नंबर से जुड़ी यूपीआई आईडी पर यूपीआई के माध्यम से पैसे भेजने को कहा।'

उन्होंने कहा, 'कंपनी ने आंतरिक सत्यापन कराया और पाया कि उसने 14 से अधिक ग्राहकों से बीमा की प्रीमियम राशि के रूप में 2,35,230 रुपये अनधिकृत तरीके से अपने निजी बैंक खाते में जमा करा लिये थे।' उन्होंने कहा कि आंतरिक जांच के दौरान कंपनी को यह भी पता चला कि आरोपी ने जाली बीमा पॉलिसी प्रमाणपत्र कंपनी के नाम पर ग्राहकों को दिया था।

शिकायत के आधार पर गुप्ता के खिलाफ गुरुवार को सुशांत लोक पुलिस थाने में भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, 'शिकायत के अनुसार प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। हम तथ्यों की पुष्टि कर रहे हैं। आरोपी को जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।'