ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRक्योंकि मैं दलित हूं; विधायकी छीने जाने पर बोले राजकुमार आनंद, AAP पर बरसे  

क्योंकि मैं दलित हूं; विधायकी छीने जाने पर बोले राजकुमार आनंद, AAP पर बरसे  

आप के पूर्व नेता राज कुमार आनंद ने विधानसभा सदस्यता रद्द होने पर खुलकर बात की। उन्होंने कहा,

क्योंकि मैं दलित हूं; विधायकी छीने जाने पर बोले राजकुमार आनंद, AAP पर बरसे  
Subodh Mishraएएनआई,नई दिल्लीFri, 14 Jun 2024 11:55 PM
ऐप पर पढ़ें

आम आदमी पार्टी के पूर्व नेता राज कुमार आनंद ने विधानसभा सदस्यता रद्द होने पर खुलकर बात की। उन्होंने कहा, "मुझे मीडिया रिपोर्टों के माध्यम से पता चला कि मेरी विधानसभा सदस्यता रद्द कर दी गई है। 
उन्होंने कहा कि मुझे कोई समय नहीं दिया गया। मेरी तबीयत ठीक नहीं थी इसलिए मैं अपनी बात रखने नहीं जा सका। इन्हें मुझे और समय देना चाहिए था।

आनंद ने कहा कि आज दिल्ली का माहौल ऐसा नहीं है कि किसी विधायक को सस्पेंड कर देना चाहिए बिना उसके इस्तीफा दिए। दिल्ली में अभी पानी के लिए हाहाकार मचा है। दिल्ली में कोई काम नहीं हो रहा है। दिल्ली बिल्कुल पंगु बनी हुई है। दिल्ली के लोग लाचार हैं। ऐसे हालत में किसी की विधायकी छीनना ठीक नहीं है। लेकिन, विधानसभा अध्यक्ष ने संविधान और कानून का हवाला देकर यह कदम उठाया है। मैं संविधान और कानून को मानने वाला आदमी हूं और मानना भी चाहिए। आनंद ने कहा कि अभी उनके पास ऑर्डर शीट नहीं आई है।

उन्होंने अपनी विधायकी रद्द होने के पीछे का कारण बताते हुए कहा कि  दिलीप पांडे ब्राह्मण हैं और मैं दलित वर्ग से आता हूं, इसलिए जान बूझकर ऐसा किया गया। कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के सर्वेसवा अरविंद केजरीवाल ईडी जैसे संस्था से नौ बार समन आने पर भी पूछताछ के लिए नहीं जाते हैं, लेकिन विधानसभा अध्यक्ष तो कोई संस्था भी नहीं है, उन्हें तो मुझे और मौका देना चाहिए था। इससे साबित हो गया कि यह दलित विरोधी पार्टी है, जिसके लिए मैंने पार्टी छोड़ी थी। 

आनंद ने कहा कि मैंने अगर जवाब नहीं दिया, तबीयत ठीक न होने के कारण मैं जा नहीं सका तो विधानसभा अध्यक्ष फोन कर मुझसे पूछ सकते थे। उनके पास मेरा फोन नंबर मौजूद है। यह पूछे जाने पर कि क्या वह विधानसभा अध्यक्ष के फैसले को कोर्ट में चुनौती देंगे, आनंद ने कहा कि अभी ऑर्डर शीट उनके पास नहीं आया है। ऑर्डर शीट आने के बाद वह देखेंगे कि अगर कानून के मुताबिक सब कुछ नहीं हुआ है तो वह कोर्ट भी जा सकते हैं।