ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRJewar Airport : जेवर एयरपोर्ट के निर्माण में आई 'विदेशी बाधा', काम लेट होने से सितंबर में उड़ान शुरू होने पर संकट

Jewar Airport : जेवर एयरपोर्ट के निर्माण में आई 'विदेशी बाधा', काम लेट होने से सितंबर में उड़ान शुरू होने पर संकट

Jewar Airport : उत्तर प्रदेश के जेवर में बन रहे नोएडा इंंटरनेशनल एयरपोर्ट से फ्लाइटों को उड़ान भरने के लिए अभी और इंतजार करना पड़ेगा। एयरपोर्ट को तैयार होने में तीन महीने और लग सकते हैं।

Jewar Airport : जेवर एयरपोर्ट के निर्माण में आई 'विदेशी बाधा', काम लेट होने से सितंबर में उड़ान शुरू होने पर संकट
Praveen Sharmaग्रेटर नोएडा। हिन्दुस्तानSat, 22 Jun 2024 11:09 AM
ऐप पर पढ़ें

Jewar Airport : उत्तर प्रदेश में बन रहे जेवर एयरपोर्ट से फ्लाइटों को उड़ान भरने के लिए अभी और इंतजार करना पड़ेगा। एयरपोर्ट को तैयार होने में तीन महीने और लग सकते हैं। ऐसे में सितंबर में विमानों की उड़ान शुरू हो पाना मुश्किल लग रहा है। पैसेंजर टर्मिनल बिल्डिंग में लगने वाली स्टील की आपूर्ति विदेश से नहीं हो पाने के कारण इसमें देरी होने के आसार हैं। इसमें कितना समय लग सकता है, इस बारे में अधिकारियों के पास कोई स्पष्ट जवाब नहीं है।

यमुना प्राधिकरण के अधिकारी ने बताया कि जेवर एयरपोर्ट के रनवे पर विमानों का ट्रायल रन फिलहाल टल गया है। जून में ट्रायल रन शुरू करने की तैयारी थी, लेकिन अधूरे निर्माण के चलते ट्रायल रन संभव नहीं है।

जेवर एयरपोर्ट के पास आएगी 10 हजार प्लॉट-फ्लैट की योजना, गरीबों की होगी बल्ले-बल्ले

कितना हो चुका है काम : अब तक एयरपोर्ट का 80 प्रतिशत कार्य पूरा होने का दावा किया जा रहा है। यहां 3900 मीटर लंबा रनवे बनकर तैयार है, लेकिन इस पर लाइटिंग का काम चल रहा है। किसी भी विमान को उड़ाने और उतारने में लाइटिंग की अहम भूमिका होती है। एयर ट्रैफिक कंट्रोल (एटीसी) टावर में फिनिशिंग का काम आखिरी दौर में है। टर्मिनल बिल्डिंग का ढांचा बनकर तैयार हो गया है। बिल्डिंग में शीशे लगाने का काम चल रहा है, लेकिन यहां यात्रियों की सुविधा के लिए लगने वाली स्टील का काम कई माह से अधूरा है। अधिकारियों का कहना है कि यह स्टील विदेश से आनी है, इसमें देरी हो रही है। यहां यात्रियों के बोर्डिंग, चेकइन और चेकआउट से संबंधित उपकरण लगने है, जिसे पूरा होने में अधिक समय लग सकता है। इसके चलते अब सितंबर में प्रस्तावित उड़ान मुश्किल है।

जेवर एयरपोर्ट और एयर कार्गो के लिए रेलवे वाला प्लान, 58 गांवों से गुजरेगा ट्रैक

अधिकारियों का कहना है कि बॉयलोज में एयरपोर्ट को पूरा करने के लिए तीन माह का ग्रेस पीरियड मिलेगा। यदि तय समय में एयरपोर्ट शुरू नहीं होता है तो तीन माह का समय दिया जाएगा।

यमुना प्राधिकरण के सीईओ डॉ. अरुणवीर सिंह ने कहा, ''एयरपोर्ट से विमानों के उड़ान में अतिरिक्त समय लगने की संभावना है। हालांकि, प्रयास रहेगा कि सितंबर तक कम से कम एक फ्लाइट शुरू कर दी जाए। टर्मिनल बिल्डिंग के अधूरे निर्माण के कारण यह दिक्कत हुई है।''  

Advertisement