DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

यहां विधायक के फर्जी लेटर हेड से बनाए जाते थे आधार कार्ड, ऐसे खुला राज

Aadhaar से लिंक कराएं अपना मोबाइल नंबर

1 / 2Aadhaar Card (प्रतीकात्मक तस्वीर)

2 / 2विधायक ललित नागर के फर्जी लेटर हेड से आधार कार्ड बनाने वाले पकड़े। हिन्दुस्तान

PreviousNext

फरीदाबाद की सेंट्रल थाना पुलिस ने सेक्टर-12 लघु सचिवालय से कांग्रेस विधायक ललित नागर के फर्जी लेटर हेड से आधार कार्ड बनवाने वाले एक गिरोह का भंडाफोड़ कर पांच आरोपियों को धर दबोचा। पुलिस ने यह कामयाबी विधायक के भाई की शिकायत पर कुछ लोगों के साथ स्टिंग ऑपरेशन करके की। 

आधार कार्ड के इस फर्जीवाड़ा से औद्योगिक नगरी की सुरक्षा पर सवाल उठ खड़े हो गए हैं। पुलिस ने इस संबंध में धोखाधड़ी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। इस गिरोह में और भी कई लोगों के शामिल होने की संभावना है।

वहीं जिला उपायुक्त अतुल द्विवेदी ने कहा कि फर्जी लेटरहेड से आधार कार्ड बनवाना गंभीर मामला है। इस मामले की गहनता से जांच कराई जाएगी।

पुलिस व विधायक के भाई की बनाई टीम ने मौके पर दबोचे आरोपी

पुलिस की ओर से जब कोई कार्रवाई नहीं की गई तो मंगलवार को विधायक के भाई मनोज नागर ने अपने स्तर पर टीम बनाई। इस बारे में सेंट्रल थाना पुलिस को भी सूचित किया। एसएचओ नरेंद्र सिंह ने बताया कि एएसआई के नेतृत्व में छह पुलिसकर्मी इस टीम के साथ सेक्टर-12 उपायुक्त कार्यालय परिसर भेजे। टीम में विधायक के दफ्तर में काम करने वाले पुष्पेंद्र को नकली ग्राहक बनाकर आधार कार्ड बनवाने के लिए भेजा। पुष्पेंद्र आधार सुविधा केंद्र पर जाकर एक व्यक्ति मिला और अपने को राजस्थान का बताते हुए फरीदाबाद के सूर्या कॉलोनी के पते पर आधार कार्ड बनवाने की बात कही। उक्त व्यक्ति ने पुष्पेंद्र से 1200 रुपये और उसका पासपोर्ट साइज फोटो मांगे और आधे घंटे रुकने को कहा। इसी बीच यह व्यक्ति ललित नागर के नकली लेटर हेड पर पुष्पेंद्र का फोटो चिपकाकर व मोहर लगाकर उसको थमा दिया। नकली लेटर हैड देखते ही मनोज नागर ने थाना सेंट्रल पुलिस को अवगत करा दिया। पुलिस ने आरोपी युवक को विधायक ललित नागर के फर्जी लेटर हेड व अन्य कागजात के साथ मौके पर धर दबोचा। जांच अधिकारी मुस्तकीम ने बताया किज्ज्गिरफ्तार अभियुक्तों में देवराज, लोकेश, विकास, लखपत व जितेंद्र शामिल है।

1200 रुपये में बनाते थे स्थायी नागरिक

फरीदाबाद में मिनी भारत बसता है। नौकरीपेशा यहां विभिन्न राज्यों से आकर बस जाते हैं। ऐसे में कई मामले ऐसे भी सामने आए जब फरीदाबाद से आतंकी गतिविधियों से जुड़े लोग पकड़े गए। ऐसे में हर किसी को बिना जांच के स्थाई नागरिक बनाना औद्योगिक नगरी के लिए एक बड़ा खतरा बन सकता है। इस लिहाज से आधारकार्ड में पता बदलवाते समय जनप्रतिनिधि से उनके लेटर हैड पर लिखवाकर देना होता है कि वह उसको जानते हैं। लेटर हैड पर फोटो भी सत्यापित करना होता है। बाहरी लोगों को जनप्रतिनिधि से यह लिखवाकर देना आसान नहीं होता, लेकिन सेक्टर-12 लघु सचिवालय में सक्रिय दलालों के जरिए1200 रुपये में यह संभव था। इसे लेकर लंबे समय से विधायक को सूचना मिल रही थी।

''गैर कानूनी तरीके से पिछले कई महीनों से मेरे फर्जी लेटर हेड से फर्जी आधार कार्ड बनवाने की बात सामने आ रही थी। यह पूरा षड्यंत्र छवि को धूमिल करने के लिए रचा गया। इसके पीछे कौन-कौन है, इसका खुलासा होना चाहिए। जिला उपायुक्त से मांग भी की गई कि फर्जी लैटर पैड पर कितने आधार कार्ड बनवाए गए, इसकी जांच करवाकर उन्हें तुरंत रद्द करवाया जाए।'' -ललित नागर, कांग्रेसी विधायक

''विधायक ललित नागर की ओर से उनके फर्जी लेटर हेड बनाकर सेक्टर-12 लघु सचिवालय में आधार कार्ड बनाने की सूचना उन्हें मिली थी। इसी के आधार पर यह गिरफ्तारी की गई है। उनसे फर्जी लेटर हेड, लैपटॉप और मुहर बरामद की गई है। पुलिस पकड़े गए लोगों से यह पता लगा रही है कि आखिर फर्जीवाड़ा के इस खेल में कितने लोग संलिप्त हैं।'' -नरेंद्र सिंह, थाना एसएचओ

इन सवालों को लेकर पूछताछ

  • लैटर हैड कहां और किसने बनाया?
  • मुहर किसने और कहां से बनवाई?
  • नकली हस्ताक्षर करने वाला मास्टरमाइंड कौन?
  • इस गिरोह में कितने लोग शामिल?
  • आधार कार्ड बनाने वाले कर्मचारियों में कौन-कौन शामिल?
  • अफसरों के संज्ञान में क्यों नहीं आया, इतना बड़ा गड़बड़झाला?
  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Five arrested for making Aadhaar Cards by Congress MLAs fake letter head