ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRIGL पाइप लाइन में धमाके के बाद लगी आग, झुलस गए निगम कर्मचारी; क्या थी वजह

IGL पाइप लाइन में धमाके के बाद लगी आग, झुलस गए निगम कर्मचारी; क्या थी वजह

टीला मोड़ के कृष्णा विहार रोड स्थित 60 फुटा रोड पर शुक्रवार शाम सीवर लाइन की खुदाई के दौरान आईजीएल पाइप लाइन में धमाके के साथ आग लग गई। इसमें चार लोगों के झुलसने का मामला सामने आया है।

IGL पाइप लाइन में धमाके के बाद लगी आग, झुलस गए निगम कर्मचारी; क्या थी वजह
fire broke out after explosion in igl pipeline corporation employees got burnt
Mohammad Azamलाइव हिन्दुस्तान,ट्रांस हिंडनFri, 21 Jun 2024 10:10 PM
ऐप पर पढ़ें

टीला मोड़ के कृष्णा विहार रोड स्थित 60 फुटा रोड पर शुक्रवार शाम सीवर लाइन की खुदाई के दौरान आईजीएल पाइप लाइन में धमाके के साथ आग लग गई। जेसीबी मशीन से आईजीएल की पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने पर हादसा हुआ। आग की चपेट में आने से नगर निगम के कर्मचारी समेत चार लोग झुलस गए। झुलसे लोगों को उपचार के लिए पास के ही एक निजी अस्पताल ले जाया गया। 

शुक्रवार शाम लगभग साढ़े 6 बजे भोपुरा के पास डिफेंस कॉलोनी में नगर निगम की टीम जेसीबी से कृष्णा विहार कुटी क्षेत्र में 60 फुटा रोड पर सीवर की खुदाई कर रही थी। जिसके नीचे आईजीएल पाइपलाइन और 11000 की इलेक्ट्रिक लाइन बिछी हुई है। सीवर लाइन खुदाई के दौरान जेसीबी से आईजीएल पाइपलाइन फटने के कारण आग लग गई। हालांकि आग पर जल्दी ही काबू पा लिया गया। आग की चपेट में आने से वहां कार्य कर रहे चार कर्मचारी झुलस गए। झुलसे कर्मचारियों को पास ही स्थित यूनिकॉर्न हॉस्पिटल ले जाया गया, जहां प्राथमिक उपचार के बाद सभी को छुटटी दे दी गई। आग की चपेट में आने से झुलसने वालों में हरीश नगर निगम का कर्मचारी बताया गया है और उसका हाथ जल गया। जबकि तीन अन्य कर्मचारी लाजपतनगर निवासी रिश्रभ, सत्यजीत यादव और हरीश आईजीएल के कर्मचारी बताए गए हैं। यह तीनों मामूली रूप से झुलसे हैं। 

जेसीबी चालक की लापरवाही से हादसे का आरोप
हादसे में झुलसे आईजीएल के कर्मचारी रिश्रभ ने बताया कि पूरा मामला जेसीबी चालक की लापरवाही से हुआ है। उसे जैसा बताया जा रहा था वह वैसा नहीं कर अपनी मर्जी से खुदाई करने में लगा था। उसकी लापरवाही से गैस पाइप लाइन  में हादसा हो गया। रिश्रभ ने बताया कि उन्होंने तत्काल लगभग 400 मीटर की दूरी पर बने वाल्व को बंद किया और फिर आग बुझ गई। 

आईजीएल के एजीएम फायर एंड सेफ्टी धीरज तिवारी ने बताया कि हादसे के दौरान उनकी कंट्रोल रूम टीम तैनात थी, जिसने हादसे के तत्काल बाद कुछ ही देर में आग पर काबू पा लिया। उन्होंने बताया कि कर्मचारियों के झुसलने की कोई सूचना नहीं है फिर भी वह अपने स्तर पर दिखवा रहे हैं। 

इस बारे में जानकारी देते हुए एसीपी शालीमार गार्डन सिद्वार्थ गौतम ने बताया कि हादसे की सूचना मिलते ही पुलिस टीम मौके पर पहुंची थी। इस दौरान पता चला कि झुलसे लोगों को निजी अस्पताल ले जाया गया है। पुलिस ने अस्पताल पहुंचकर घायलों का हालचाल जाना। कुछ देर बाद उन्हें अस्पताल प्रशासन की तरफ से उपचार के बाद घर भेज दिया गया।