DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जानें क्यों मर्डर के तीन साल बाद पुलिस को दर्ज करनी पड़ी एफआईआर

महेश की पत्नी ने अपनी शिकायत में बताया कि वह एक फाइव स्टार होटल में काम करते थे, फिर भी उनका शव होटल से दूर रेलवे ट्रैक पर मिलना संदेह पैदा करता है।

दिल्ली के चाणक्यपुरी स्थित एक फाइव स्टार होटल के सुपरवाइजर की संदिग्ध हालात में हुई मौत के मामले में पुलिस को तीन साल बाद हत्या का केस दर्ज करना पड़ा है। पुलिस ने कोर्ट के आदेश पर एफआईआर दर्ज करने कार्रवाई की है। पुलिस अब मामले में नए सिरे से केस की जांच करेगी।

पुलिस के मुताबिक, वर्ष 2016 में चाणक्यपुरी स्थित एक होटल के पास रेलवे ट्रैक पर 56 वर्षीय महेश कोत्रा का शव बरामद हुआ था। शव क्षत-विक्षत था और शुरू में पुलिस ने इसे आत्महत्या मानकर घटना की जांच की। महेश कोत्रा अपनी पत्नी और बेटी के साथ रोहिणी में रहते थे। महेश की पत्नी ने अपनी शिकायत में बताया कि वह एक फाइव स्टार होटल में काम करते थे, फिर भी उनका शव होटल से दूर रेलवे ट्रैक पर मिलना संदेह पैदा करता है।

उन्होंने पुलिस से हत्या की धाराओं में एफआईआर दर्ज करने की मांग की थी, लेकिन शुरुआती जांच में पुलिस ने इसे आत्महत्या बताया। इसके बाद महिला ने मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के पास गुहार लगाई, लेकिन वहां से मदद नहीं मिली। इसके बाद महिला ने सेशन जज से हस्तक्षेप की मांग की।

सेशन कोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने हत्या की एफआईआर दर्ज कर ली है। अभी तक मामले में कोई नया तथ्य सामने नहीं आया है, लेकिन पुलिस जल्द ही इसकी तह तक पहुंचेगी। पुलिस उपायुक्त रेलवे दिनेश गुप्ता ने बताया कि हजरत निजामुद्दीन पुलिस ने इस बाबत एफआईआर दर्ज कर ली है और जांच की जा रही है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:FIR Registered after three years in murder case