ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRNCR में आएगी रोजगार की बहार, नोएडा एयरपोर्ट के पास 800 एकड़ में फिनटेक सिटी बसाने का खाका तैयार, ये होंगे फायदे

NCR में आएगी रोजगार की बहार, नोएडा एयरपोर्ट के पास 800 एकड़ में फिनटेक सिटी बसाने का खाका तैयार, ये होंगे फायदे

जेवर में बन रहे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पास उत्तर भारत की पहली फिनटेक सिटी (Fintech City) को विकसित करने का खाका तैयार हो गया है। प्रथम चरण में यह 250 एकड़ भूमि में विकसित होगी।

NCR में आएगी रोजगार की बहार, नोएडा एयरपोर्ट के पास 800 एकड़ में फिनटेक सिटी बसाने का खाका तैयार, ये होंगे फायदे
Praveen Sharmaनई दिल्ली। हिन्दुस्तानMon, 13 May 2024 07:30 AM
ऐप पर पढ़ें

जेवर में बन रहे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के पास उत्तर भारत की पहली फिनटेक सिटी (Fintech City) को विकसित करने का खाका तैयार हो गया है। एयरपोर्ट से सीधी कनेक्टिविटी को देखते हुए फिनटेक सिटी को अब सेक्टर-13 के बजाय सेक्टर-11 में विकसित करने का प्लान तैयार किया गया है। परियोजना का तीन चरणों में कुल 800 एकड़ में विस्तारण किया जाएगा। प्रथम चरण में यह 250 एकड़ भूमि में विकसित होगी।

यमुना प्राधिकरण के एक अधिकारी ने बताया फिनटेक सिटी को बसाने के लिए कुशमन एंड वेकफील्ड इंडिया कंपनी ने डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार कर प्राधिकरण को सौंप दी है। कंपनी ने परियोजना को धरातल पर उतारने के लिए सिंगापुर, दुबई, हैदराबाद, चेन्नई और गुजरात स्थित गिफ्ट सिटी का अध्ययन किया। फिनटेक सिटी आर्थिक गतिविधियों का केंद्र बनेगी।

पहले फिनटेक सिटी को सेक्टर-13 में विकसित करने की तैयारी थी, लेकिन नोएडा एयरपोर्ट से सीधी कनेक्टिविटी के चलते इसे सेक्टर-11 में बसाने पर सहमति बनी है। यहां से एयरपोर्ट की दूरी मात्र आठ किलोमीटर है। साथ ही, एयरपोर्ट के लिए सीधी कनेक्टिविटी है। सेक्टर-28 मेडिकल डिवाइस पार्क, सेक्टर-29 में बन रहे डेटा सेंटर की भी सेक्टर-11 से सीधी कनेक्टिविटी है। प्रथम फेज 2027 तक पूरा किया जाएगा, द्वितीय फेज 2030 और तीसरा फेज-2034 तक पूरा किया जाएगा। फिनटेक सिटी में 51 प्रतिशत क्षेत्र में ग्रीन बेल्ट, पार्क और सड़कें होगी, जबकि 37 कॉमर्शियल प्लॉट होंगे। 123 प्लॉटों को बेचा खरीदा जा सकेगा। प्लॉटों का आंवटन स्कीम के तहत किया जाएगा।

71 प्रतिशत निवेशकों की सेक्टर-11 पसंदीदा जगह : अधिकारियों ने मुताबिक सेक्टर बदलने से पहले कंपनी ने सर्वे भी कराया था, जिसमें 71.1 प्रतिशत निवेशकों की पसंदीदा जगह सेक्टर-11 रही। अधिकारी ने बताया कि यहां पर इंटरनेशनल मॉनिटरिंग फंड, वर्ल्ड बैंक, स्टॉक एक्सचेंज जैसे बड़े संस्थानों को लाया जाएगा। इसके साथ ही यहां बड़े बैंकों के कॉरपोरेट ऑफिस भी खोले जाएंगे। अंतरराष्ट्रीय स्तरीय के आयोजन के लिए यहां ऑडिटोरियम और प्रदर्शनी हॉल आदि बनेंगे, चूंकि भारत तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है।

फिनटेक के अंतर्गत आने वाली कंपनियां 

फिनटेक के अंतर्गत वह कंपनियां आती हैं, जो प्रौद्योगिकी, सॉफ्टवेयर और इंटरनेट के उपयोग के माध्यम से ग्राहकों को बैंकिंग और बीमा जैसी वित्तीय सेवाएं प्रदान करती हैं। इस फिनटेक सिटी में ऑनलाइन बैंकिंग, निवेश, रिसर्च, क्राउड फंडिंग, डिजिटल मनी, स्टॉक एक्सचेंज, बीमा कंपनियां, शॉपिंग सेंटर, ई-पेमेंट गेटवे प्लेटफॉर्म जैसी निजी व सार्वजनिक क्षेत्र की संस्थाओं को भूखंड आवंटित किए जाएंगे। यहां निवेश करने वाली कंपनियों को नई औद्योगिक नीति का लाभ मिलेगा। इस प्रोजेक्ट में ऑनलाइन बैंकिंग, निवेश,क्राउड फंडिंग, डिजिटल मनी, स्टॉक एक्सचेंज आदि को भूखंड आवंटित होंगे।

कस्टम आदि में छूट मिलेगी

फिनटेक सिटी में निवेश करने वाली कंपनी को नए उत्पाद लॉन्च करने के लिए अलग से लाइसेंस की जरूरत नहीं होगी। निवेश करने वाली कंपनियों को एफडीआई (प्रत्यक्ष विदेशी निवेशी) और नई औद्योगिक प्रोत्साहन नीति के तहत लैंड सब्सिडी, टैक्स, कस्टम आदि में छूट प्रदान की जाएगी।

यमुना प्राधिकरण के सीईओ अरुणवीर सिंह ने कहा कि फिनटेक सिटी को विकसित करने के लिए खाका तैयार कर लिया गया है। अब इसे सेक्टर-13 के बजाय 11 में बसाया जाएगा। पूरा सेक्टर फिनटेक सिटी के लिए आरक्षित रहेगा। यह तीन चरणों में पूरी होगी।