ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCR'LG और दिल्ली सरकार का झगड़ा समझ से परे', आखिर सुप्रीम कोर्ट ने क्यों कही यह बात

'LG और दिल्ली सरकार का झगड़ा समझ से परे', आखिर सुप्रीम कोर्ट ने क्यों कही यह बात

सुप्रीम कोर्ट ने ‘फरिश्ते दिल्ली के’ योजना के लिए धन जारी करने को लेकर दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल (एलजी) वी.के. सक्सेना के बीच जारी गतिरोध पर शुक्रवार को कड़ी नाराजगी जताई।

'LG और दिल्ली सरकार का झगड़ा समझ से परे', आखिर सुप्रीम कोर्ट ने क्यों कही यह बात
Praveen Sharmaनई दिल्ली। हिन्दुस्तानSat, 09 Dec 2023 06:10 AM
ऐप पर पढ़ें

सुप्रीम कोर्ट ने ‘फरिश्ते दिल्ली के’ योजना के लिए धन जारी करने को लेकर दिल्ली सरकार और उपराज्यपाल (एलजी) के बीच जारी गतिरोध पर शुक्रवार को कड़ी नाराजगी जताई। कोर्ट ने कहा, यह समझ से परे है कि क्यों सरकार के दो धड़े आपस में आए दिन यूं लड़ते रहते हैं।

जस्टिस बीआर गवई और जस्टिस सुधांशु धूलिया की बेंच ने उपराज्यपाल वीके सक्सेना के कार्यालय, दिल्ली सरकार के स्वास्थ्य सेवा महानिदेशालय और अन्य संबंधित पक्षकारों को नोटिस जारी कर जवाब मांगा। बेंच ने यह आदेश दिल्ली की आम आदमी पार्टी सरकार की उस याचिका पर दिया, जिसमें सड़क हादसे में घायल हुए लोगों को निशुल्क इलाज मुहैया कराने के लिए शुरू की गई 'फरिश्ते दिल्ली के' योजना के लिए फंड जारी करने का आदेश देने की मांग की गई है।

केजरीवाल सरकार की ओर से अपनी याचिका में निजी अस्पतालों के लंबित बिलों का तुरंत भुगतान करने और योजना को पटरी से उतारने वाले अफसरों पर कार्रवाई की मांग की गई है।

दिल्ली सरकार की पैरवी कर रहे वरिष्ठ वकील अभिषेक सिंघवी ने कहा कि ‘फरिश्ते दिल्ली के’ योजना के तहत सड़क दुर्घटना के 23,000 मामलों को कवर किया गया है। सिंघवी ने कहा, ''मैं पत्र लिखता रहता हूं और फंड मांगता रहता हूं। वे भुगतान रोक देते हैं।''

उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह से सामाजिक कल्याण का मामला है और इसमें कोई राजनीति शामिल नहीं है। 'फरिश्ते दिल्ली के' योजना लोगों को सड़क दुर्घटनाओं में घायल हुए लोगों को बचाने के लिए प्रोत्साहित करती है। इसके तहत, सरकार उन लोगों के अस्पताल के बिल का भुगतान करती है, जो शहर में दुर्घटनाओं का शिकार हुए हैं। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें