Saturday, January 29, 2022
हमें फॉलो करें :

गैलरी

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRओमिक्रॉन के डर से गाजियाबाद में बढ़ी सख्ती, वैक्सीन न लगवाने पर सोसाइटी में नो एंट्री

ओमिक्रॉन के डर से गाजियाबाद में बढ़ी सख्ती, वैक्सीन न लगवाने पर सोसाइटी में नो एंट्री

गाजियाबाद | वरिष्ठ संवाददाताPraveen Sharma
Sat, 04 Dec 2021 09:59 AM
ओमिक्रॉन के डर से गाजियाबाद में बढ़ी सख्ती, वैक्सीन न लगवाने पर सोसाइटी में नो एंट्री

इस खबर को सुनें

कोरोना के नए ओमिक्रॉन वैरिएंट के संभावित खतरे से निपटने को लेकर नियम सख्त किए जा रहे हैं। गाजियाबाद में अपार्टमेंट ऑनर एसोसिएशन (एओए) की ओर से नया प्रस्ताव जारी किया गया है। सभी सोसायटी में लोगों को एक सप्ताह में कोरोना वैक्सीन लगवानी होगी। इसके बाद बिना वैक्सीनेशन वाले व्यक्ति को सोसाइटी में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। एओए की ओर से यह आदेश सभी सोसायटी को जारी कर दिए गए हैं।

शुक्रवार को जिला मुख्यालय पर जिलाधिकारी राकेश कुमार सिंह की अध्यक्षता में जिला टास्क फोर्स की बैठक हुई। इसमें स्वास्थ्य विभाग के साथ पुलिस, ट्रैफिक विभाग, प्रशासन और अन्य विभागों के साथ आरडब्ल्यूए की जिम्मेदारियां निर्धारित की गईं। बैठक में इस वायरस पर अंकुश लगाने के लिए आरडब्ल्यूए की मदद मांगी गई।

एओए के चेयरमैन टी.पी. त्यागी ने बताया कि सोसायटी अपने स्तर पर नियमों का कड़ाई से पालन कर रही है। सभी सोसायटियों को अवगत कराया गया है कि वह अपनी सोसायटी में सभी का एक सप्ताह में वैक्सीनेशन करा दें, जिन लोगों ने पहली डोज भी नहीं लगवाई है उन पर विशेष ध्यान रहेगा। जिनकी दूसरी डोज का समय हो चुका है उसे दूसरी डोज लगवाई जाएगी। एक सप्ताह के बाद बिना वैक्सीनेशन वाले किसी भी व्यक्ति को सोसायटी में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। इसकी सूचना आरडब्ल्यूए की ओर से सभी को दे दी जाएगी। बाहर से आने वाले लोगों पर भी विशष ध्यान देने के लिए कहा गया है।

सभी विभाग बनाएंगे कोविड हेल्प डेस्क : जिला टास्क फोर्स की बैठक में डीएम ने सभी विभागों को कोविड हेल्प डेस्क बनाने के निर्देश दिए हैं। इन हेल्प डेस्क पर थर्मल थर्मामीटर, सैनिटाइजर, पल्स-ऑक्सीमीटर और मास्क उपलब्ध रहेंगे। विभाग में आने वाले प्रत्येक व्यक्ति की जांच के बाद उसे अंदर जाने दिया जाएगा।

विदेशों से आए लोगों पर विशेष नजर

बैठक में सोसायटियों में विदेशों में आने वालों पर विशेष नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं। आरडब्ल्यूए के पदाधिकारियों से कहा गया है कि इसकी सूचना मुख्य विकास अधिकारी को दें। यहां से इसकी जानकारी स्वास्थ्य विभाग को दी जाएगी, ताकि ऐसे लोगों की मॉनिटरिंग की जा सके। इसके लिए सोसायटी में हाई रिस्क देशों की सूची भी चस्पा की जाएगी।

epaper

संबंधित खबरें