Faridabad: people upset due to death of two IAF officers in plane crash - फरीदाबाद : विमान हादसे में वायुसेना के दो अधिकारियों की मौत से मातम DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

फरीदाबाद : विमान हादसे में वायुसेना के दो अधिकारियों की मौत से मातम

वायुसेना के लापता मालवाहक विमान में सवार फ्लाइट लेफ्टिनेंट राजेश थापा व दीघौट गांव के पायलट आशीष तंवर की विमान दुर्घटना में मौत की खबर आने से उनके परिजनों के साथ-साथ पलवल और फरीदाबाद के लोग शोक में डूब गए। 

दोनों पायलटों की मौत पर हर किसी ने गहरा दुख व्यक्त किया है। वायुसेना से आए संदेश के बाद पलवल में पायलट आशीष तंवर के घर वालों का रो-रोकर बुरा हाल है। उधर, इस सूचना के मिलने पर फरीदाबाद से थापा के परिजन जोरहाट में राजेश के पिता हरि थापा, चाचा राजू और रविंद्र थापा के अलावा उनके पारिवारिक मित्र ललित भारद्वाज रवाना हो चुके हैं। मौत की खबर सुनकर हर कोई सदमे में है।

इकलौते बेटे के जाने से मां का बुरा हाल

पायलट आशीष तंवर की मौत की खबर के बाद इकलौते बेटे के लिए मां व परिवार के अन्य लोगों का रो-रो कर बुरा हाल है। आशीष के मामा नरेंद्र ने बताया कि आशीष के पिता ने गुरुवार करीब 12 साढ़े 12 बजे घर फोन पर सूचना दी कि विमान का मलवा मिल चुका है और उसमें सवार सभी लोग शहीद हो चुके हैं। इस सूचना को मिलते ही परिवार के सदस्यों के होश उड़ गए और घर में मातम छा गया। ताऊ उदयवीर ने बताया कि अभी तक सभी को उम्मीद थी कि विमान में सवार सभी लोग सुरक्षित हैं लेकिन 10-11 दिनों बाद परिवार के सभी सदस्यों का विश्वास टूट गया। जिला सैनिक बोर्ड के पदाधिकारी मेजर आरके शर्मा का कहना है कि विमान हादसे को लेकर अभी उनके पास कोई विधिवत सूचना नहीं आई है। लेकिन जिस तरह एयरक्राफ्ट के पुर्जे एक किलोमीटर क्षेत्र में बिखरे मिले हैं, उससे बचने की संभावना दिखाई नहीं दे रही है। 

राजेश थापा की मां और दादी को अभी नहीं बताया

राजेश थापा की मां शिवा थापा और दादी रामा माया को अभी तक कुछ नहीं बताया गया है। इस दुखद समाचार के बाद मीडियाकर्मी और इलाके के लोग लेफ्टिनेंट थापा के सेक्टर-23 स्थित निवास और पलवल के सेक्टर-2 में आशीष तंवर के यहां पहुंचने शुरू हो गए। हालांकि फरीदाबाद में किसी को भी लेफ्टिनेंट थाना की मां व दादी से मिलने नहीं दिया, ताकि उन्हें पार्थिव शरीर आने से पहले शहीद होने के बारे में पता न चल सके। बस उन्हें ढांढस बंधा रहे हैं। वायुसेना के मालवाहक विमान एएन-32 में सवार सभी की मौत की खबार के बाद सेक्टर-23 निवासी फ्लाइट लेफ्टिनेंट राजेश थापा के परिजन, रिश्तेदार और दोस्त गमगीन हो गए। पड़ोसियों का कहना है कि जब से इस विमान के लापता होने की खबर आई थी, तब से हर कोई परेशान था। पिछले 10 दिन से हर कोई इनकी सलामती की दुआ कर रहा था। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Faridabad: people upset due to death of two IAF officers in plane crash