Fake bike cab companies are grabbing money from people in noida - मोटी कमाई का झांसा देकर चूना लगा रहीं फर्जी बाइक कैब कंपनियां, 100 करोड़ ठगी उजागर DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

मोटी कमाई का झांसा देकर चूना लगा रहीं फर्जी बाइक कैब कंपनियां, 100 करोड़ ठगी उजागर

a two-wheeler bike taxi in gurgaon  abhinav saha  hindustan times

यदि आप किसी बाइक कैब कंपनी के झांसे में आकर अपनी गाढ़ी कमाई निवेश कर रहे हैं तो सतर्क हो जाइये। क्योंकि कुछ ऐसी फर्जी कंपनियां संचालित हो रही हैं, जो चंद दिनों में अमीर बनाने का लालच देकर धोखाधड़ी कर रही हैं। नोएडा से अब तक तीन बाइक कंपनियां करीब 20 हजार निवेशकों के 100 करोड़ से अधिक रकम लेकर फरार हो चुकी हैं। अभी तक पुलिस एक भी कंपनी मालिक को गिरफ्तार नहीं कर सकी है। 

पिछले साल नोएडा बाइक कैब चलवाने वाली दस कंपनियों की शुरुआत हुई थी। ज्यादातर कंपनियों ने ऑनलाइन विज्ञापन जारी किया था। जिसमें बताया गया था कि ओला बाइक कैब की तर्ज पर उनकी कंपनी शहर के राहगीरों को बाइक सेवा उपलब्ध कराएगी। ज्यादातर कंपनियों ने एक बाइक के लिए 60 हजार या इससे अधिक रकम निवेश कर मोटी रकम कमाने का लालच दिया था। अलग-अलग कंपनियों ने निवेशकों को झांसा दिया था कि निवेश करने के बाद उन्हें प्रत्येक माह 8 से 10 हजार रुपये दिए जाएंगे। एक साल तक यह रकम दी जानी थी। 

छह हजार लोगों के करोड़ों रुपये ले उड़ी नोएडा की ये कंपनी

देशभर से हजारों लोग जालसाजों के झांसे मे आ गए। काफी लोगों ने कंपनियों में निवेश करना शुरु कर दिया। अब तक तीन कंपनियां हजारों निवेशकों की 100 करोड़ से ज्यादा की रकम लेकर फरार हो चुकी है। केस दर्ज करने के बाद भी कंपनी मालिक को पुलिस पकड़ने में नाकाम है। इस संबंध में एसपी सिटी सुधा सिंह ने बताया कि निवेश के नाम पर धोखाधड़ी करने वाली तीन कंपनियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। आर्थिक अपराध शाखा इसकी जांच कर रही है।.

थाने पर गुरुवार को भी किया हंगामा : सेक्टर-58 थाना क्षेत्र से मार्च माह में बाइक यात्री नामक कंपनी फरार हो गई थी। इस कंपनी के सैकड़ो निवेशकों ने 27 मार्च को सेक्टर-58 थाने पर कार्रवाई के मांग को लेकर हंगामा किया था। जिसके बाद पुलिस ने केस दर्ज कर लिया था। गुरुवार को भी इस कंपनी के निवेशक सेक्टर-58 थाने पर पहुंचे। निवेशकों ने थाने पर हंगामा करते हुए केस दर्ज कराने की मांग की। पुलिस ने बताया कि पहले से केस दर्ज हैं। इसी एफआईआर में हंगामा करने वाले लोगों की शिकायत को जोड़ दिया जाएगा। 

निवेश करने वाले लोगों के पैसे फंसे

फरवरी माह में ग्रेटर नोएडा की बाइक बोट कंपनी बंद हो गई थी। इस कंपनी में निवेशकों के करोड़ों रुपये फंसे हुए हैं। निवेशकों ने इस कंपनी के खिलाफ केस दर्ज करा दिया। दूसरी बाइक यात्री नामक कंपनी सेक्टर-58 थाना क्षेत्र से 10 हजार से ज्यादा लोगों से करोड़ों रुपये लेकर भाग गई। इस कंपनी के खिलाफ भी केस दर्ज कराया गया है। तीन दिन पहले सेक्टर-63 से बाइक फॉर यू नामक कंपनी भी फरार हो गई। इन कंपनियों के फरार होने के बाद काफी संख्या निवेशक आर्थिक संकट की स्थिति से गुजर रहे हैं। उनके सामने घर का खर्च चलाने का संकट उत्पन्न हो गया है। 

इस तरह बरतें सावधानी

  • किसी भी कंपनी में निवेश करने से पहले उसकी पूरी तह तक छानबीन कर लें।
  • कंपनी की ऑनलाइन वेबसाइट खोलकर तमाम जानकारियां लेकर उसकी जिला उद्योग केंद्र और श्रम विभाग में पुष्टि करें।
  • लोग अकसर दूसरे की सफलता की कहानी सुनाकर निवेश करने को कहते है, इस पर भरोसा न करें। खुद जांच कर कोई भी काम करें।
  • निवेश करने से पहले कंपनी को होने वाले लाभ और नुकसान का गणित जरूर समझ लें।
  • किसी भी लकी ड्रॉ के बहकावे में ना आएं। बेहतर रहेगा यदि लकी ड्रॉ में निवेश करने से बचे रहें।

जालसाज बन रहे करोड़पति

नोएडा में ठगी के नए नए तरीके खोजकर जालसाज करोड़ो रुपये कमा लेते हैं। पैकर्स-मूवर्स के नाम पर जालसाज लोगों से ठगी कर रहे हैं। ठग नोएडा से दूसरे शहर में सामान भेजने का झांसा देकर रकम और सामान दोनों लेकर फरार हो जाते हैं । एमबीबीएस में दाखिला कराने के नाम पर कुछ दिन पहले सैकड़ों छात्रों से करोड़ों रुपये की ठगी कर ली गई थी। प्रत्येक छात्र से 10-10 लाख रुपये लिए गए थे। लकी ड्रॉ के नाम पर काफी संख्या में लोगों के साथ ठगी हुई है। रियल एस्टेट में निवेश कराने पर आए दिन लोगों से ठगी होती है। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Fake bike cab companies are grabbing money from people in noida