DA Image
30 मार्च, 2020|7:22|IST

अगली स्टोरी

कॉपी जांच में गलती: CBSE ने कहा- 4000 से अधिक छात्रों के अंकों में अंतर

CBSE

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने बुधवार को कहा कि 12वीं कक्षा की परीक्षा की उत्तर पुस्तिकाओं को फिर से जांचने पर चार हजार से अधिक मामलों में अंकों में अंतर पाया गया है। यह फिर से जांची गई कुल कॉपियों का 0.075 प्रतिशत है।

जांच में गलतियों को लेकर आलोचना का शिकार हुई सीबीएसई ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा कि लापरवाही से कॉपियां जांचने पर 200 से अधिक शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई शुरू की गई है।

4632 मामलों में अंकों में बदलाव

सीबीएसई के सचिव अनुराग त्रिपाठी ने कहा कि 12वीं क्लास की 61 लाख से अधिक उत्तर पुस्तिकाओं को जांचा गया जिसमें से पहले चरण की सत्यापन प्रक्रिया के लिए 66876 आवेदन थे। अंतत: केवल 4632 मामलों में अंकों में बदलाव आया जो कुल जांची गईं उत्तर पुस्तिकाओं का केवल 0.075 प्रतिशत है। उन्होंने कहा कि कुल प्राप्त 66876 आवेदनों के 6.9 मामलों में अंकों में अंतर आया। 

त्रिपाठी ने कहा कि 4632 मामलों में जहां अंकों में बढोत्तरी हुई है उसमें से 3200 मामले एक से पांच अंकों की बढ़ोत्तरी की श्रेणी में आते हैं जहां सामान्यत: शून्य गलती माना जाता है।

214 शिक्षकों के खिलाफ निलंबन की कार्रवाई

उन्होंने कहा कि बोर्ड ने लापरवाही से कॉपी जांचने के लिए 214 शिक्षकों के खिलाफ निलंबन और कड़ी कार्रवाई शुरू कर दी है। मानवीय गलती को कम से कम करने के लिए, सीबीएसई शिक्षकों, जांच करने वालों के प्रशिक्षण तथा तकनीकी हस्तक्षेप से प्रणाली को और मजबूत करेगी।   
 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Evaluation errors: Marks changed in over 4000 cases says CBSE