ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRईडी का समन गैरकानूनी, कोर्ट के फैसले का करें इंतजार; केजरीवाल के सातवें समन पर आतिशी ने क्या-क्या कहा

ईडी का समन गैरकानूनी, कोर्ट के फैसले का करें इंतजार; केजरीवाल के सातवें समन पर आतिशी ने क्या-क्या कहा

प्रवर्तन निदेशालय ने अरविंद केजरीवाल को सातवां समन भेजा है। आतिशी ने समन को फिर गैर कानूनी बताया है। दिल्ली की शिक्षा मंत्री ने कहा कि यह समन केजरीवाल को डराने और धमकाने के लिए है।

ईडी का समन गैरकानूनी, कोर्ट के फैसले का करें इंतजार; केजरीवाल के सातवें समन पर आतिशी ने क्या-क्या कहा
Sneha Baluniबृजेश सिंह,नई दिल्लीThu, 22 Feb 2024 12:51 PM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के तथाकथित आबकारी घोटाले को लेकर प्रवर्तन निदेशालय की ओर से मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को जारी सातवें समन को फिर गैर कानूनी बताया है। आप नेता व दिल्ली सरकार की शिक्षा मंत्री आतिशी ने कहा कि ईडी का यह समन भाजपा को चंडीगढ़ मेयर चुनाव में हुई हार के चलते अरविंद केजरीवाल को डराने और धमकाने के लिए है। ईडी के समन को लेकर कोर्ट में सुनवाई चल रही है। ईडी खुद इसे लेकर कोर्ट गई थी फिर वह कोर्ट के फैसले का इंतजार क्यों नहीं कर रही है।

ईडी के नोटिस को लेकर पत्रकारों से बातचीत में आतिशी ने कहा कि अरविंद केजरीवाल को ईडी का सातवां गैरकानूनी समन मिला है। केजरीवाल ने हर समन का जवाब भेजते ईडी से सवाल पूछा है कि किस आधार पर ये समन भेजा जा रहा है। आज तक हमारे एक भी सवाल का जवाब ईडी द्वारा नहीं दिया गया। समन पर पेश नहीं होने के कारण ईडी खुद अरविंद केजरीवाल के खिलाफ कोर्ट पहुंच गई। अब जब कोर्ट ईडी के समन की कानून वैधता को लेकर सुनवाई कर रहा है तो फिर खुद कोर्ट के फैसले का इंतजार क्यों नहीं कर रही है। क्यों बार-बार समन जारी कर रही है।

आतिशी ने कहा कि ईडी इसलिए बार-बार समन भेज रही है क्योंकि यह कोई कानूनी प्रक्रिया या जांच ही नहीं है। यह सिर्फ आम आदमी पार्टी और अरविंद केजरीवाल को धमकाने का तरीका है। उन्होंने कहा कि जब से चंडीगढ़ मेयर चुनाव पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया, हमें खबर मिलने लगी की ईडी समन करने वाली है। सीबीआई गिरफ्तार करने वाली है। क्योंकि भाजपा चंडीगढ़ में आप की जीत का बदला लेना चाहती है। क्योंकि सुप्रीम कोर्ट ने यहां लोकतंत्र को स्थापित किया है।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि अब जो सातवां समन अरिवंद केजरीवार को आया है वह सिर्फ और सिर्फ चंडीगढ़ मेयर चुनाव के बदले का प्रयास है। यह जांच का मामला होता तो फिर ईडी कोर्ट के फैसले का इंतजार करती। ये कानूनी मामला होता तो ईडी दिल्ली सरकार के बजट सत्र का इंतजार करती। कोर्ट बजट सत्र को खत्म होने का इंतजार करने को तैयार है लेकिन ईडी तैयार नहीं है। इससे साफ है कि समन का जांच से कोई लेना देना नहीं है। वह सिर्फ अरविंद केजरीवाल को डराने का प्रयास है। मगर हम भाजपा को बताना चाहते है कि अरविदं केजरीवाल ऐसे गैरकानूनी समन से डरने वाले नहीं है। लोकतंत्र और संविधान को कमजोर करने वालों का डटकर मुकाबला करेंगे। भाजपा को लोकतांत्रिक तरीके से हराकर रहेंगे। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें