ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRदिल्ली शराब घोटाला मामले में ईडी ने संजय सिंह की जमानत अर्जी का किया विरोध, क्या कहा?

दिल्ली शराब घोटाला मामले में ईडी ने संजय सिंह की जमानत अर्जी का किया विरोध, क्या कहा?

Delhi Liquor Scam Case: ईडी ने शनिवार को राउज एवेन्यू कोर्ट में सुनवाई के दौरान आप सांसद संजय सिंह (Sanjay Singh) की जमानत याचिका का विरोध करते हुए कहा कि संजय सिंह एक प्रभावशाली व्यक्ति है।

दिल्ली शराब घोटाला मामले में ईडी ने संजय सिंह की जमानत अर्जी का किया विरोध, क्या कहा?
Krishna Singhएएनआई,नई दिल्लीSat, 09 Dec 2023 10:24 PM
ऐप पर पढ़ें

ईडी ने शनिवार को राउज एवेन्यू कोर्ट में सुनवाई के दौरान आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह की जमानत याचिका का विरोध किया। केंद्रीय जांच एजेंसी ने कहा कि संजय सिंह के पास से तीन दस्तावेज बरामद हुए है, जो न्यायिक रिकॉर्ड का हिस्सा नहीं थे। इससे पता चलता है कि संजय सिंह एक प्रभावशाली व्यक्ति हैं जिन्होंने उक्त दस्तावेज हासिल किए हैं। ईडी ने यह भी कहा कि उसके पास रिश्वत मांगने के सबूत, बयान और कुछ बरामद दस्तावेज हैं। विशेष न्यायाधीश एमके नागपाल ने ईडी के विशेष वकील की दलीलें सुनने के बाद सुनवाई स्थगित कर दी। 

अदालत ने मामले को बचाव पक्ष के वकील की खंडन बहस सुनने के लिए 12 दिसंबर की तारीख दी है। दिल्ली शराब घोटाले से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में सांसद संजय सिंह हिरासत में हैं। उन्हें 4 अक्टूबर, 2023 को गिरफ्तार किया गया था। ईडी की ओर से वकील जोहेब हुसैन और नवीन कुमार मट्टा ने दलीलें रखीं। विशेष वकील जोहेब हुसैन ने सुप्रीम कोर्ट में दलील दी कि जब आबकारी नीति बनाई जा रही थी तब रिश्वत भी दी जा रही थी। उन्होंने सत्येन्द्र जैन के मामले में हाईकोर्ट के आदेश का भी हवाला दिया और कहा कि अदालत को संबंधित परिस्थितियों को देखना होगा।

ईडी की ओर से दलील दी गई कि पीएमएलए की धारा 50 के तहत ऐसे बयान हैं जिन पर जमानत याचिका पर फैसला देते वक्त विचार किया जाना चाहिए। विशेष वकील जोहेब हुसैन ने अनंत वाइन्स के मालिक तुषार मेहरा के बयान का जिक्र किया, जिन्होंने कहा था कि सर्वेश मिश्रा संजय सिंह की ओर से पंजाब में शराब कारोबार के लिए रिश्वत मांग रहे थे। ईडी के विशेष वकील ने यह भी कहा कि हमारे पास जो साक्ष्य हैं, उसमें अल्फा (संरक्षित गवाह) ने पुष्टि की है कि उसने सर्वेश मिश्रा को पैसे दिए हैं।

ईडी के विशेष वकील ने आगे दलील दी कि दिनेश अरोड़ा के 164 के बयानों में एक बयान ऐसा है जो बिना किसी दबाव या प्रभाव के दिया गया है। विशेष वकील जोहेब ने सुरेश चंद्र बाहरी मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला दिया, जहां अदालत ने कहा था कि किसी आरोपी को सरकारी गवाह बनाने के लिए प्रलोभन देना आवश्यक है। सुप्रीम कोर्ट ने माना कि कुछ हद तक प्रलोभन निहित है। जोहेब हुसैन ने कहा कि संजय सिंह के पास से कुछ दस्तावेज फोटो के रूप में मिले हैं। फोटो में दिखाए गए हस्ताक्षर दस्तावेजों के स्रोत को दर्शाते हैं, जो अदालत के रिकॉर्ड पर नहीं हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें