ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRचुनाव आयोग ने बताया AAP के कैंपेन सॉन्ग में क्या गलत, बदलाव करने को कहा

चुनाव आयोग ने बताया AAP के कैंपेन सॉन्ग में क्या गलत, बदलाव करने को कहा

भारत निर्वाचन आयोग (ECI) ने आम आदमी पार्टी (AAP) कैंपेने के एक गाने पर ऐक्शन लिया है। आयोग ने 'आप' के कैंपेन सॉन्ग के एक बोल में बदलाव करने केल लिए कहा है। आइये जानते हैं पूरा मामला क्या है।

चुनाव आयोग ने बताया AAP के कैंपेन सॉन्ग में क्या गलत, बदलाव करने को कहा
Mohammad Azamलाइव हिन्दुस्तान,दिल्लीSun, 28 Apr 2024 04:53 PM
ऐप पर पढ़ें

लोकसभा चुनावों के बीच चुनाव आयोग ने आम आदमी पार्टी (AAP) के कैंपेन के एक गाने पर ऐक्शन लिया है। आयोग ने 'आप' को आदेश देते हुए कहा है कि चुनावी अभियान वाले गाने में बदलाव करके उसे आयोग में फिर से जमा करें। गाने के एक बोल पर चुनाव आयोग का कहना है कि 'आप' के चुनावी गाने के एक नारे में अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी का बार-बार जिक्र आना न्यायपालिका पर संदेह पैदा करता है। चुनाव आयोग का कहना है कि यह आयोग की गाइडलाइन का उल्लंघन करता है, इसलिए इसमें बदलाव की जरूरत है।

लोकसभा चुनावों के दौरान आम आदमी पार्टी ने कैंपेन के लिए एक गाना बनाया है। इस गाने में एक नारा है जिसमें कहा जा रहा है कि, " जेल का जवाब हम वोट से देंगे "। 'आप' के कैंपेन के इस गाने के दौरान अरविंद केजरीवाल की जेल की एक काल्पनिक तस्वीर भीड़ पकड़े हुए दिख रही है। इस वाक्य को गाने में कई बार इस्तेमाल किया गया है। चुनाव आयोग ने गाने के इस बोल पर आपत्ति जताते हुए उसमें बदलाव करने के लिए कहा है। चुनाव आयोग का कहना है कि कैंपेन के दौरान बार-बार अरविंद केजरीवाल की गिरफ्तारी का जिक्र करना न्यायपालिका पर संदेह पैदा करता है।

बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को कथित शराब घोटाला मामले में ईडी ने गिरफ्तार कर लिया था। इस पर 'आप' का कहना था कि अरविंद केजरीवाल को इसलिए जेल में डाल दिया गया क्योंकि भाजपा नहीं चाहती है कि वो लोकसभा चुनाव में प्रचार करें।

AAP का रिएक्शन
आम आदमी पार्टी नेता और दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने इसे भाजपा का षड्यंत्र बताया है। आतिशी ने कहा कि देश के इतिहास में ऐसा पहली बार हो रहा है जब किसी पार्टी के कैंपेन सॉन्ग पर प्रतिबंध लगाया गया है। आतिशी ने का कहा कि चुनाव आयोग भाजपा द्वारा आचार संहिता के उल्लंघन को अनदेखा कर रहा है।