ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRDwarka Expressway : द्वारका एक्सप्रेसवे की राह के रोड़े होंगे दूर, NHAI ने हरियाणा के सामने रखे ये 5 मुख्य मुद्दे

Dwarka Expressway : द्वारका एक्सप्रेसवे की राह के रोड़े होंगे दूर, NHAI ने हरियाणा के सामने रखे ये 5 मुख्य मुद्दे

गुरुग्राम से गुजर रहे द्वारका एक्सप्रेसवे का निर्माण अंतिम चरण में चल रहा है। इसमें आ रही बाधा जल्द दूर होगी। एनएचएआई ने हरियाणा के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर मुख्य पांच विषयों से अवगत करवाया।

Dwarka Expressway : द्वारका एक्सप्रेसवे की राह के रोड़े होंगे दूर, NHAI ने हरियाणा के सामने रखे ये 5 मुख्य मुद्दे
Praveen Sharmaगुरुग्राम। हिन्दुस्तानFri, 23 Feb 2024 06:31 AM
ऐप पर पढ़ें

गुरुग्राम से गुजर रहे द्वारका एक्सप्रेसवे का निर्माण अंतिम चरण में चल रहा है। इसमें आ रही बाधा जल्द दूर होगी। राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (एनएचएआई) के चेयरमैन संतोष कुमार यादव ने हरियाणा के मुख्य सचिव संजीव कौशल को पत्र लिखकर मुख्य पांच विषयों से अवगत करवाया।

इसमें कहा गया है कि संबंधित विषयों से अधिकारियों को जल्द से जल्द समाधान करने के लिए निर्देशित किया जाएं। एनएचएआई के चेयरमैन संतोष कुमार यादव ने बताया कि द्वारका एक्सप्रेसवे का निर्माण एक एक्सेस नियंत्रित शहरी एक्सप्रेसवे के रूप में किया गया है। मास्टर प्लान को ध्यान में रखते हुए केवल निर्दिष्ट स्थानों पर द्वारका एक्सप्रेसवे पर प्रवेश/निकास होगा। उन्होंने बताया कि जीएमडीए द्वारका एक्सप्रेसवे तक स्थानीय यातायात की पहुंच प्रदान करने के लिए एक्सप्रेसवे के साथ सेक्टर रोड ( हरित बेल्ट से सटी हुई) विकसित करना है।

25 मिनट में पहुंचेंगे दिल्ली से गुरुग्राम, एफिल टावर से 30 गुना अधिक...; नए साल में शुरू होगा द्वारका एक्सप्रेसवे

हालांकि, जीएमडीए द्वारा सेक्टर रोड के निर्माण में देरी के कारण, स्थानीय यातायात अनधिकृत तरीके से द्वारका एक्सप्रेसवे पर प्रवेश कर रहे है, जो एक सड़क सुरक्षा का खतरा है। जीएमडीए और जिला प्रशासन को कई बार अनुरोध करने के बावजूद अभी तक कोई कार्रवाई नहीं हुई।

कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई : चेयरमैन ने पत्र में अवगत करवाया कि द्वारका एक्सप्रेसवे और आसपास के सेक्टरों को जलभराव से बचाने के लिए जीएमडीए को एनपीआर पर दिल्ली-हरियाणा बॉर्डर से बसई आरओबी सेक्शन तक सेक्टर ड्रेन का निर्माण करना है।

एनएचएआई ने कई बार जीएमडीए द्वारा उपाय करने को कहा गया,लेकिन कोई ठोस कार्रवाई नहीं की गई। हरियाणा सरकार ने 50-50 प्रतिशत हिस्सेदारी के आधार पर सीपीआर के साथ मास्टर स्टॉर्म वॉटर ड्रेन के निर्माण का काम पूरा किया। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें
अगला लेख पढ़ें