अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

DUSU चुनाव : एनएसयूआई में भी जातिगत समीकरण

 नई दिल्ली में गुरुवार को एनएसयूआई पैनल मीडिया के सामने आया। हिन्दुस्तान

दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ (डूसू) चुनाव में एनएसयूआई का पैनल गुरुवार मीडिया के सामने आया। अन्य संगठनों की तर्ज पर इसे भी जातिगत समीकरणों पर बनाया गया है। पैनल में दो जाट, एक दलित व एक यादव प्रत्याशी को रखा गया है। 

अध्यक्ष पद प्रत्याशी सनी छिल्लर डीयू के दयाल सिंह कॉलेज से बीए की पढ़ाई करने के बाद शिवाजी कॉलेज में पढ़ाई कर रहे हैं। उनके पिता दिल्ली ट्रैफिक पुलिस में एएसआई के पद पर हैं। सन्नी ने कहा कि मैं छात्र हितों के लिए काम करूंगा। वहीं उपाध्यक्ष प्रत्याशी लीना डीयू के मिरांडा हाउस से बीएससी के बाद हंसराज कॉलेज से एमएससी इन मैथेमेटिक्स की पढ़ाई की है। वह दलित परिवार से आती हैं। उन्होंने कहा कि छात्राओं पर बेहूदी टिप्पणी को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 

DUSU चुनाव : वोटर्स को लुभाने के लिए छात्र संगठनों ने अपने-अपने पत्ते खोले

सचिव पद के प्रत्याशी आकाश चौधरी लॉ फैकल्टी से एमए कर रहे हैं। वह वर्ष 2014 से छात्र राजनीति से जुड़े हैं। उन्होंने कहा कि मेरी कोशिश रहेगी कि हर वर्ग के छात्रों को बेहतर सुविधा मिले। संयुक्त सचिव पद के प्रत्याशी सौरभ यादव रिवाड़ी के रहने वाले हैं। वह मोती लाल नेहरू कॉलेज में बीकॉम के छात्र हैं। उनकी प्राथमिकता छात्रों को रियायती मेट्रो पास दिलाना है।

छात्रों को कैंपस में बेहतर माहौल देंगे : आईसा

दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संगठन चुनाव में गठबंधन कर चुनाव लड़ रहे सीवाईएसएस-आईसा उम्मीदवारों को गुरुवार को आम आदमी पार्टी कार्यालय में मीडिया से रूबरू कराया गया। ‘आप' विधायक व पूर्व डूसू अध्यक्ष अलका लांबा ने उम्मीदवारों का परिचय देते हुए कहा कि यह सकारात्मक राजनीति का गठबंधन है। हम छात्रों को कैंपस में बेहतर माहौल देंगे।

बताते चलें कि आईसा और सीवाईएसएस गठबंधन कर 2-2 सीटों पर चुनाव लड़ रहे हैं। अध्यक्ष व उपाध्यक्ष पद पर आईसा उम्मीदवार अभिज्ञान और अंशिका सिंह चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि सचिव व उप सचिव के पद पर सीवाईएसएस से चंद्रमणि देव और सन्नी तंवर मैदान में हैं। अध्यक्ष पद के उम्मीदवार अभिज्ञान ने बताया कि जब मैंने प्रवेश लिया तो छात्र राजनीति का केवल एक ही रूप देखा था, जो कि गुंडागर्दी और पैसों से चलता था। आईसा से मिला तो हमने विकल्प बनने का फैसला लिया। सीवाईएसएस से सचिव पद पर चुनाव लड़ रहे चंद्रमणि देव ने कहा कि मैंने देखा हैकि बाहर से आने वाले छात्रों के लिए हॉस्टल की सुविधा बेहद जरूरी है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:DUSU elections: caste equation in NSUI