ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRडॉक्टर ने महिला कर्मचारी के लिए गंदी बातें लिख अस्पताल में लगाए पोस्टर, फिर CCTV में कैद हुई ये करतूत

डॉक्टर ने महिला कर्मचारी के लिए गंदी बातें लिख अस्पताल में लगाए पोस्टर, फिर CCTV में कैद हुई ये करतूत

ग्रेटर नोएडा स्थित राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान (जिम्स) में एक डॉक्टर ने एक महिला लैब टेक्नीशियन के बारे में अश्लील बातें लिखकर अस्पताल के नोटिस बोर्ड समेत 10 स्थानों पर पोस्टर चस्पा कर दिए।

डॉक्टर ने महिला कर्मचारी के लिए गंदी बातें लिख अस्पताल में लगाए पोस्टर, फिर CCTV में कैद हुई ये करतूत
Praveen Sharmaग्रेटर नोएडा | हिन्दुस्तानMon, 05 Dec 2022 06:19 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

ग्रेटर नोएडा स्थित राजकीय आयुर्विज्ञान संस्थान (जिम्स) में एक डॉक्टर ने एक महिला लैब टेक्नीशियन के बारे में अश्लील बातें लिखकर अस्पताल के नोटिस बोर्ड समेत 10 स्थानों पर पोस्टर चस्पा कर दिए। जब मामले की शिकायत उच्च अधिकारियों से की गई तो डॉक्टर एडमिन की टेबल पर माफीनामा लिखकर रख आया। माफीनामा रखते समय डॉक्टर सीसीटीवी में कैद हो गया। महिलाकर्मी की शिकायत पर कासना थाना पुलिस ने डॉक्टर के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है। घटना तीन नवंबर की है और मुकदमा 30 नवंबर को दर्ज हुआ है।

कासना थाने में पीड़ित महिला कर्मचारी ने रिपोर्ट दर्ज करवाई है। पीड़िता ने बताया कि वह जिम्स की लैब में नौकरी करती है। शिकायत में बताया कि जब वह तीन नवंबर जिम्स अस्पताल पहुंची तो स्टाफ ने जानकारी दी कि उसके नाम से अभद्र और अशोभनीय बातें लिखकर अस्पताल में दस स्थानों पर पोस्टर चस्पा किए गए हैं। पीड़िता ने कहा कि इससे उसके सम्मान को ठेस पहुंची है। उसे मानसिक प्रताड़ना भी झेलनी पड़ी। पीड़िता ने इसको लेकर प्रबंधन को शिकायत दी। बाद में पुलिस से भी शिकायत की।

पीड़िता ने बताया कि 19 नवंबर को एडमिन की टेबल पर किसी ने एक पत्र रख दिया। पत्र में पीड़िता से माफी मांगी गई। शिकायत के अनुसार, पीड़िता ने 23 नवंबर को प्रबंधन से सीसीटीवी फुटेज की जांच कराई तो पता चला कि माइक्रो बायोलॉजी विभाग के डॉ. हरमेश मनोचा ने यह पत्र रखा है। पीड़िता का आरोप है कि बदनाम करने के इरादे से ये पत्र चस्पा किए हैं। यह भी आरोप लगाया कि वह पहले भी कई स्टाफ से दुर्व्यवहार कर चुके हैं।

कासना थाना प्रभारी संतोष शुक्ला ने बताया कि इस मामले में केस दर्ज कर लिया है। जिम्स के निदेशक ब्रिगेडियर डॉ. राकेश गुप्ता ने कहा कि इस बारे में अधिक जानकारी नहीं है।