ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News NCRकुर्सी से बांधकर घसीटा, कुत्ते के पट्टे से घोंटा गला, दिल्ली में डॉक्टर की बेरहमी से हत्या

कुर्सी से बांधकर घसीटा, कुत्ते के पट्टे से घोंटा गला, दिल्ली में डॉक्टर की बेरहमी से हत्या

पुलिस को डॉक्टर के घर के पास लगे घर का सीसीटीवी फुटेज हाथ लगा है जिसके आधार पलिस ने बताया है कि वारदात में चार आरोपी शामिल थे।

कुर्सी से बांधकर घसीटा, कुत्ते के पट्टे से घोंटा गला, दिल्ली में डॉक्टर की बेरहमी से हत्या
Aditi Sharmaपीटीआई,नई दिल्लीSun, 12 May 2024 11:20 AM
ऐप पर पढ़ें

दिल्ली के जंगपुरा इलाके में डॉक्टर की हत्या मामले में पुलिस ने बड़ा खुलासा किया है। पुलिस ने बताया है कि हत्या से पहले उनको बेरहमी से टॉचर किया गया था और किसी भारी चीज से उनके सिर पर वार किया गया था। इसके बाद कुत्ते के पट्टे से गला घोंटकर उनकी हत्या कर दी। डॉक्टर की पहचान 63 साल के योगेश चंद्र पॉल के रूप में हुई थी। वो जंगपुरा एक्सटेंशन स्थित अपने घर पर मृत पाए गए थे। उस समय उनके हाथ भी बंधे हुए थे। पुलिस को डॉक्टर के घर के पास लगे घर का सीसीटीवी फुटेज हाथ लगा है जिसके आधार पलिस ने बताया है कि वारदात में चार आरोपी शामिल है। एक आरोपी घर के बाहर खड़ा हुआ था जबकि बाकी 3 घर के अंदर थे। 

पुलिस ने बताया है कि डॉक्टर की हत्या करने से पहले उनको किस तरीके से टॉर्चर किया गया था। आरोपियों ने पहले उनकी बेरहमी से पिटाई की, फिर मुंह बंद करके उन्हें कुर्सी से बांध दिया। इसके बाद वह डॉक्टर को कुर्सी समेत घसीटकर किचन तक ले गए और फिर एक भारी चीज से उनके सिर पर वार किया। इतने में भी जब उनका मन नहीं भरा तो उन्होंने कुत्ते के पट्टे से उनका गला घोंट दिया। आरोपियों ने डॉक्टर पॉल के दोनों कुत्तों को बाथरूम में बंद कर दिया था और भागने से पहले उन्होंने घर में तोड़फोड़ भी की। पुलिस ने हत्या और लूट का मामला दर्ज करते हुए छानबीन शुरू कर दी है 

पुलिस ने कहा, हम इस बात से इनकार नहीं कर रहे कि इस वारदात में डॉक्टर पॉल का कोई करीबी भी शामिल हो सकता है। घटना के दौरान उनकी पत्नी नीना पॉल काम पर थीं। वह जब घर लौटीं तो पूरे मामले का खुलासा हुआ। उनकी एक बेटी कनाडा में रहती है जबकि दूसरी नोएडा में रहती है। दोनों शादीशुदा हैं। पड़ोसियों ने कहा कि पॉल इलाके में जाने माने डॉक्टर थे क्योंकि वह अपने घर से ही क्लिनिक चलाते थे। वह गरीबों का फ्री में इलाज करते थे और उन्हें दवाएं भी फ्री में देते थे। 
डिप्टी कमिश्नर पुलिस (साउथ ईस्ट) राजेश देव ने कहा कि उनके पास मजबूत सुराग हैं और जांच महत्वपूर्ण चरण में है। आरोपियों को पकड़ने के लिए विभिन्न स्थानों पर छापेमारी की जा रही है।