DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   NCR  ›  राशन पर रार : भाजपा का केजरीवाल पर पलटवार, संबित पात्रा बोले- केंद्र ने एक बड़ा स्कैम होने से रोक दिया
एनसीआर

राशन पर रार : भाजपा का केजरीवाल पर पलटवार, संबित पात्रा बोले- केंद्र ने एक बड़ा स्कैम होने से रोक दिया

नई दिल्ली। लाइव हिन्दुस्तान टीमPublished By: Praveen Sharma
Sun, 06 Jun 2021 02:19 PM
राशन पर रार : भाजपा का केजरीवाल पर पलटवार, संबित पात्रा बोले- केंद्र ने एक बड़ा स्कैम होने से रोक दिया

दिल्ली में घर-घर राशन योजना पर शुरू हुई रार अभी थमती नजर नहीं आ रही है। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को जब इस मामले में केंद्र सरकार को घेरा तो भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने भी इस पर पलटवार किया है। भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने केजरीवाल ने कहा कि इस योजना के नाम पर केजरीवाल सरकार बड़ा स्कैम करने वाली थी जिसे केंद्र सरकार ने समय रहते रोक दिया है।

पात्रा ने केजरीवाल द्वारा केंद्र पर लगाए गए आरोपों के जवाब में कहा कि भाजपा ड्रामेबाजी में विश्वास नहीं रखती। दिल्ली को कोटे से ज्यादा अनाज दिया गया है। दिल्ली सरकार को केंद्र के नियमों के मुताबिक ही चलना होगा, सीएम गरीबों से एक्सट्रा चार्ज लेना चाहते थे।

संबित पात्रा ने कहा कि अरविंद केजरीवाल जी ने इस प्रकार से बात रखी है कि दिल्ली की जनता को उनके अधिकार से वंचित रखा जा रहा है, जबकि ऐसा नहीं हैं। नेशनल फूड सेक्योरिटी एक्ट और प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्य योजना द्वारा दिल्ली में भी जरूरतमंदों को राशन पहुंचाया जा रहा है। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्य योजना के तहत मई और 5 जून तक दिल्ली को तय कोटे से अधिक 72,782 मीट्रिक टन अनाज भेजा गया है। दिल्ली अभी तक करीब 53,000 मीट्रिक टन अनाज ही अभी तक उठा पाई है और इसका मात्र 68 प्रतिशत ही वो जनता को बांट पाए हैं।

उन्होंने कहा कि नेशनल फूड सिक्योरिटी एक्ट के अंतर्गत गेहूं पर अरविंद केजरीवाल जी मात्र 2 रुपये प्रति किलो देते हैं और केंद्र सरकार 23.73 रुपये प्रति किलो देती है। वहीं, चावल पर केजरीवाल जी मात्र 3 रुपये प्रति किलो देते हैं और केंद्र सरकार 33.79 रुपये प्रति किलो देती है।

भाजपा नेता ने कहा कि केजरीवाल जी इसके अतिरिक्त भी राशन बांटना चाहते हैं, तो इसके लिए वो अपना राशन खरीद सकते हैं। जो नोटिफाइड रेट हैं, उस पर राशन खरीदा जा सकता है। इस पर किसी प्रकार की आपत्ति केंद्र सरकार को या किसी को नहीं होगी।

उन्होंने कहा कि 'वन नेशन-वन राशन कार्ड' का प्रावधान केंद्र सरकार ने किया था, लेकिन दिल्ली की सरकार ने इस विषय पर आगे बढ़ने से मना कर दिया, जिस कारण हजारों मजदूर आज राशन लेने से वंचित रह गए हैं।

संबित पात्रा ने कहा कि अरविंद केजरीवाल के काम करने के तरीका का A,B,C,D,E,F पर आधारित है। आज हम आपको बताते हैं कि यह A,B,C,D,E,F आखिर क्या है। A-Advertisement, B-Blame C-Credit D-Drama E-Excuse F-Failure केजरीवाल जी इस ड्रामे को बंद कीजिए। 

केजरीवाल का PM से सवाल- अगर पिज्जा की होम डिलीवरी तो राशन क्यों नहीं?

बता दें कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को प्रेस वार्ता कर कहा कि दिल्ली में इस हफ्ते से घर-घर राशन पहुंचाने की योजना शुरू होने वाली थी, इसको लेकर सारी तैयारियां हो चुकी थीं मगर केंद्र सरकार द्वारा 2 दिन पहले इसे रोक दिया गया। केंद्र का दावा है कि हमने मंजूरी नहीं ली। हमने एक बार नहीं, बल्कि पांच बार मंजूरी ली है। कानूनी तौर पर हमें केंद्र की मंजूरी की जरूरत नहीं है, लेकिन हमने शिष्टाचार के चलते ऐसा किया। राशन की होम डिलीवरी क्यों नहीं होनी चाहिए? आप राशन माफिया के साथ खड़े होंगे तो गरीबों के साथ कौन खड़ा होगा? उन 70 लाख गरीबों का क्या होगा जिनका राशन ये राशन माफिया चोरी कर लेते हैं।

केजरीवाल ने कहा कि राशन माफिया बहुत ताकतवर हैं। बीते 75 साल से इस देश की जनता राशन माफिया का शिकार होती आई है। उसके बाद भी राशन चोरी हो जाता है। 17 साल पहले मैंने इस राशन माफिया के खिलाफ आवाज उठाई थी, हम पर 7 बार खतरनाक हमले हुए, तब मैंने कसम खाई थी कि कभी ना कभी इस सिस्टम को ठीक जरूर करूंगा। इसलिए हम घर-घर राशन पहुंचाने की योजना लेकर आए। मगर इनके डर से सरकार इसे रोक रही है।  उन्होंने कहा कि अगर पिज्जा की होम डिलीवरी हो सकती है तो राशन का क्यों नहीं?

संबंधित खबरें