ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ NCRवैक्सीनेशन को लेकर क्या है दिल्ली सरकार का लक्ष्य? डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया बोले-सरकारी स्कूलों में 85 फीसदी छात्रों को लगा टीका 

वैक्सीनेशन को लेकर क्या है दिल्ली सरकार का लक्ष्य? डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया बोले-सरकारी स्कूलों में 85 फीसदी छात्रों को लगा टीका 

सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए दिल्ली सरकार ने बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन अभियान चलाया है। तीन हफ्ते से भी कम समय में सरकारी स्कूलों के 15-18 आयुवर्ग के लगभग 85 फीसदी...

वैक्सीनेशन को लेकर क्या है दिल्ली सरकार का लक्ष्य? डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया बोले-सरकारी स्कूलों में 85 फीसदी छात्रों को लगा टीका 
Dinesh Rathourनई दिल्ली। वरिष्ठ संवाददाताSat, 22 Jan 2022 07:10 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/

सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को कोरोना से बचाने के लिए दिल्ली सरकार ने बड़े स्तर पर वैक्सीनेशन अभियान चलाया है। तीन हफ्ते से भी कम समय में सरकारी स्कूलों के 15-18 आयुवर्ग के लगभग 85 फीसदी बच्चों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है। शिक्षा निदेशालय ने 30 जनवरी तक 100 फीसदी वैक्सीनेशन का लक्ष्य रखा है। शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि वैक्सीनेशन कोरोना से बचाव का सबसे कारगर उपाय है। इसलिए यह बेहद जरूरी है कि जो भी छात्र-छात्राएं वैक्सीनेशन के पात्र हैं, वे टीका अवश्य लगवाएं। उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि दिल्ली के 15 में से 12 एजुकेशन डिस्ट्रिक्ट के सरकारी स्कूलों में 85 फीसदी बच्चों को टीके लग चुके हैं। वहीं लगभग 300 स्कूल ऐसे हैं, जहां 90 फीसदी बच्चों को टीका लग चुका है।

निजी स्कूलों में 21 जनवरी तक मात्र 42 फीसदी विद्यार्थियों का टीकाकरण हुआ है। पूर्वी जिले को छोड़ दें, तो बाकी सभी जिलों में निजी स्कूलों के आंकड़ा 50 फीसदी तक भी नहीं पहुंच पाया है। प्राइवेट स्कूलों में टीकाकरण के लिए लगभग 3.5 लाख विद्यार्थी पात्र हैं, लेकिन अभी तक लगभग दो लाख को टीका नहीं लगा है। वहीं एडेड स्कूलों में केवल 57 फीसदी को ही वैक्सीन लगी है। 15-18 आयु वर्ग के बच्चों के लिए वैक्सीनेशन तीन जनवरी से शुरू हो गई थी। दिल्ली सरकार के हर स्कूल में वैक्सीनेशन के लिए नोडल इंचार्ज नियुक्त किया गया था। साथ ही सरकारी स्कूलों में शुरू किए गए 20 स्कूल हेल्थ क्लीनिकों को भी टीकाकरण केंद्र बनाया गया था।

epaper