ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News NCRस्लीपर वंदेभारत के लिए बिजवासन-शकूरपुर में बनेंगे डिपो, क्या है रेलवे का प्लान

स्लीपर वंदेभारत के लिए बिजवासन-शकूरपुर में बनेंगे डिपो, क्या है रेलवे का प्लान

पूरे देश में वंदे भारत ट्रेनों की संख्या बढ़ाई जा रही है। जल्द ही स्लीपर वंदेभारत का परिचालन भी शुरू होने वाला है। ऐसे में इनकी देखरेख के लिए बिजवासन और शकूरपुर में दो डिपो तैयार किए जाएंगे।

स्लीपर वंदेभारत के लिए बिजवासन-शकूरपुर में बनेंगे डिपो, क्या है रेलवे का प्लान
Sneha Baluniअमित झा,नई दिल्लीWed, 24 Jan 2024 07:20 AM
ऐप पर पढ़ें

देशभर में वंदेभारत रेलगाड़ियों की संख्या लगातार बढ़ाई जा रही हैं। अगले कुछ माह में स्लीपर वंदेभारत का परिचालन भी शुरू होने जा रहा है। दिल्ली से भी कई स्वीपर वंदेभारत चलाने की योजना है। ऐसे में इनकी देखरेख के लिए बिजवासन और शकूरपुर में दो डिपो तैयार किए जाएंगे। इसके लिए रेलवे बोर्ड की तरफ से मंजूरी दे दी गई है।

दिल्ली के विभिन्न स्टेशनों से अभी 10 वंदेभारत एक्सप्रेस चलती हैं। इनमें से चार दिल्ली डिवीजन के पास हैं जबकि अन्य अलग-अलग डिवीजन की गाड़ियां हैं। दिल्ली से चलने वाली चार गाड़ियों की देखरेख शकूरपुर डिपो में की जा रही है। इस साल राजधानी से कई वंदेभारत चलाने की योजना है। इनमें से कुछ वंदेभारत स्लीपर कोच होंगी जो पहली बार दिल्ली से चलेंगी। इनकी देखरेख के लिए भी डिपो को तैयार करना होगा। इसे ध्यान में रखते हुए रेलवे बोर्ड ने बिजवासन और शकूरपुर डिपो को पुनर्विकसित करने के लिए मंजूरी दी है।

दिल्ली आने वाली वंदेभारत

● बनारस से नई दिल्ली 
● कटड़ा से नई दिल्ली
● देहरादून से आनंद विहार 
● अजमेर से दिल्ली कैंट
● अमृतसर से नई दिल्ली 
● अयोध्या कैंट से आनंद विहार

राजधानी से चलने वाली वंदेभारत

● नई दिल्ली से बनारस 
● नई दिल्ली से कटड़ा 
● नई दिल्ली से ऊना
● निजामुद्दीन से रानी कमलापति

नया डिपो अत्याधुनिक होगा

रेलवे सूत्रों ने बताया कि शकुरपुर में पहले से रेलगाड़ियों की देखरेख के लिए डिपो बना हुआ है। इसको केवल पुनर्विकसित किया जाएगा। लेकिन, बिजवासन रेलवे स्टेशन में नया डिपो बनाया जाएगा। यह बेहद ही अत्याधुनिक होगा। रेलवे बोर्ड की तरफ से उत्तर रेलवे महाप्रबंधक को भेजे गए पत्र में बताया गया है कि दोनों जगहों पर न केवल गाड़ियों की देखरेख बल्कि मरम्मत करने के लिए वर्कशॉप भी तैयार की जाएगा। इसके साथ ही लोको पायलट के प्रशिक्षण के लिए सिमुलेटर भी तैयार करने के निर्देश दिए गए हैं ताकि वहां उन्हें प्रशिक्षण मिल सकें।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें