DA Image
हिंदी न्यूज़ › NCR › शादी के 8 साल तक एक संतान के लिए तरसती रही मां, अब एक साथ 4 बच्चों को दिया जन्म
एनसीआर

शादी के 8 साल तक एक संतान के लिए तरसती रही मां, अब एक साथ 4 बच्चों को दिया जन्म

नई दिल्ली। पीटीआई Published By: Praveen Sharma
Sat, 31 Jul 2021 04:50 PM
शादी के 8 साल तक एक संतान के लिए तरसती रही मां, अब एक साथ 4 बच्चों को दिया जन्म

शादी के आठ साल तक एक मात्र संतान के लिए तरसती रही एक मां ने अब एक साथ चार बच्चों को जन्म देकर सबको हैरान कर दिया है। मां और चारों बच्चे पूरी तरह ठीक हैं।

जानकारी के अनुसार, शादी के आठ साल तक संतान नहीं होने के बाद एक महिला ने दिल्ली के एक अस्पताल में इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ) प्रक्रिया से एक साथ चार बच्चों को जन्म दिया है। अस्पताल के अधिकारियों ने शनिवार को यह जानकारी दी।

अस्पताल के एक प्रवक्ता ने कहा कि 32 वर्षीय महिला ने तीन लड़कों और एक लड़की को जन्म दिया है, वे सभी स्वस्थ हैं और अब घर पर लौट चुके हैं। गाजियाबाद के इस दंपति ने आठ साल तक संतान नहीं होने के कारण काफी इलाज भी कराया था।

आईवीएफ क्लीनिक के डॉक्टरों ने कहा कि महिला और उसके पति ने बच्चे की आस छोड़ दी थी। उन्होंने एआरटी जैसी प्रक्रिया भी अपनाई थी, लेकिन सफलता नहीं मिली।

महिला ने दक्षिणी दिल्ली में 'सीड्स ऑफ इन्नोसेंस के एक केंद्र में 12 जुलाई को बच्चों को जन्म दिया। 'सीड्स ऑफ इन्नोसेंस की निदेशक और सह-संस्थापक डॉ. गौरी अग्रवाल ने कहा कि क्लीनिक आने से पहले महिला आईयूआई के चार चक्र से गुजर चुकी थी। जब जांच की गई तो पता चला कि उसमें एंटी मुलेरियन हार्मोन (एएमएच) का स्तर कम था ऐसे में आईवीएफ की जरूरत थी। 

डॉक्टर ने कहा, "चूंकि वीर्य के सैंपल से सामान्य परिणाम मिले, इसलिए हमने बांझपन या नशे आदि के किसी भी पारिवारिक इतिहास के बारे में अधिक जानने के लिए उचित परामर्श के बाद आईवीएफ का विकल्प चुना। कम्प्लीट ओवरियन स्टिमुलेशन के बाद हमने चार अंडे प्राप्त किए जिससे तीन भ्रूण निकले, जिन्हें ट्रांसफर कर दिया गया- भारतीय मेडिकल काउंसिल ऑफ रिसर्च गुणवत्ता संतोषजनक नहीं होने पर अधिकतम तीन भ्रूणों को ट्रांसफर करने की अनुमति देता है।"  

डॉक्टर ने कहा कि जब हमने छह सप्ताह में व्यवहार्यता के लिए एक ट्रांस वजाइनल स्कैन किया, तो हमें तीन थैली और चार दिलों की धड़कन मिलीं। छह सप्ताह बाद, यह पुष्टि हुई कि तीनों भ्रूण पनप गए हैं और उनमें से एक आगे जुड़वां बनने के लिए विभाजित हो गया है। अस्पताल ने कहा कि होने वाले माता-पिता को इन चारों गर्भावस्था के जोखिमों के बारे में विस्तार से बताया गया, लेकिन वे अपने फैसले पर कायम रहे।

डॉ. अग्रवाल ने कहा कि सोलहवें सप्ताह में, हमने गर्भाशय को खुलने से रोकने के लिए एक सर्विकल स्टिच लगाया और उसे करीब से प्रसव पूर्व निगरानी में रखा गया। 33 सप्ताह के बाद महिला ने चार स्वस्थ बच्चों को जन्म दिया जिनमें तीन लड़के और एक लड़की थी। सभी का वजन 1.5 किलोग्राम से अधिक था।  

संबंधित खबरें